Breast Feeding: जानें क्या है लैक्टेशन मसाजर, फीड करवाने में कैसे करता है मां की मदद

मां बनने का सुख ही अलग होता है। हालांकि मां बनने के साथ ही महिलाओं के लिए कई जिम्मेदारियां भी बढ़ जाती हैं। इन्हीं में से एक बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है ब्रेस्ट फीडिंग। ये तो हम सभी जानते हैं कि नवजात बच्चों के लिए मां का दूध अमृत समान है। लेकिन कई बार प्रसुताओं को इसमें परेशानी आती है।

टाइम्स नाउ नवभारत

Updated Sep 27, 2022 | 02:06 PM IST

Lactation Massager

Lactation Massager

तस्वीर साभार : iStock
मुख्य बातें
लैक्टेशन मसाजर से मिलता है ब्रेस्ट पेन में रीलिफमहिलाओं में अक्सर हो जाती है दूध की कमीइससे मिलती नवजात शिशु को दूध की पूर्ति
Breast Feeding Help: मां बनना किसी भी महिला के लिए सबसे प्यारा एहसास होता है। हालांकि नवजात बच्चे के साथ कई नई जिम्मेदारियां भी आती हैं। इन्हीं में से एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी होती है बच्चे को दूध फीड करवाना। मां का दूध बच्चे के लिए बहुत ही जरूरी होता है। लेकिन अक्सर मांओं की शिकायत होती है कि ब्रेस्ट फीड करने के कुछ ही देर बाद बच्चे को भूख लग आती है। ऐसा अक्सर तब होता है जब मां के दूध से बच्चे का पेट एक बार में ठीक से भरा ही न हो यानी बच्चे की जरूरत के अनुसार मां के शरीर में दूध नहीं बन रहा हो। ऐसे में तकनीक का सहारा लेकर मांएं इस समस्या से निजात पा सकती हैं। इन दिनों बाजार में ऐसे कई उपकरण हैं जो ऐसी मांओं के लिए मददगार बनते हैं।
लैक्टेशन मसाजर
अगर मां को ब्रेस्ट फीडिंग कराने में दर्द महसूस होता है तो ऐसी स्थिति में लैक्टेशन मसाजर का इस्तेमाल करना अत्याधिक लाभकारी हो सकता है। लैक्टेशन मसाजर, स्तन की मालिश करने से यह सुनिश्चित करता है कि आपके बच्चे को संपूर्ण पोषण मिल रहा है। यह दूध पिलाने वाली किसी मां के लिए एक वरदान की तरह साबित हो सकता है। इस मसाजर का इस्तेमाल ब्रेस्ट की मसाज करने में होता है।
क्या है लैक्टेशन मसाजर
मसाजर के दो गोल सिरे होते हैं। एक चौड़ा, दूसरा छोटा। इसके अलावा इसमें कुछ सेटिंग्स भी होती हैं, जो उन्हें वाइब्रेट करने और हल्की गर्मी प्रदान करने में मदद करती हैं। यह सिलिकॉन का बना होता है और हाथ की हथेली पर आसानी से फिट हो जाता है।
लैक्टेशन मसाजर कैसे काम करता है
दरअसल कई बार महिलाओं के मिल्क डक्ट क्लॉग हो जाते हैं जिसकी वजह से दूध कम आता है। लेकिन जब आप लैक्टेशन मसाजर से अच्छी तरह मसाज करते हैं तो यह क्लॉग एरिया को खोलने की कोशिश करती हैं। इससे महिला के स्तनों में दूध का प्रवाह बेहतर होता है। साथ ही इससे ब्रेस्ट पेन में भी काफी राहत मिलती है। हांलाकि इसका इस्तेमाल करते हुए एक विशेष बात का ध्यान जरूर रखें कि स्तनों पर बहुत अधिक दबाव ना डालें। यह जोखिम भरा भी हो सकता है।
(डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। किसी भी तरह का फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने अथवा अपनी डाइट में किसी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।)
लेटेस्ट न्यूज

Drishyam 2 BO Early Estimate Day 12: अजय देवगन स्टारर ने 12 दिनों में किया 150 करोड़ का आंकड़ा पार, जानें फिल्म की पूरी कमाई

Drishyam 2 BO Early Estimate Day 12     12    150

Raveena Tandon: जंगल सफारी करना रवीना टंडन को पड़ा भारी! 'टाइगर' के साथ वीडियो पर अब होगी जांच?

Raveena Tandon

BPSC 67वीं PT रिजल्ट पर बवाल, धरने पर बैठे अभ्यर्थी, प्रतिपक्ष नेता विजय कुमार सिन्हा की CBI जांच की मांग

BPSC 67 PT              CBI

Gujarat assembly election: सूरत की 16 विधानसभाएं BJP के लिए क्यों हैं अहम

Gujarat assembly election   16  BJP

Prabhas के साथ रिश्तों पर कृति सेनन ने तोड़ी चुप्पी, कहा- शादी की डेट फिक्स हो..'

Prabhas          -

Bigg Boss 16: इस हफ्ते एक नहीं दो कंटेस्टेंट होंगे घर से बेघर? नाम जानकर होगी हैरानी!

Bigg Boss 16

अब गौतम अडानी का NDTV, प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने छोड़ी कुर्सी

    NDTV

चीन की मंशा में झोल, सीसीटीवी के जरिए हम सबके घरों में कर रहा है तांकझांक !

आर्टिकल की समाप्ति

© 2022 Bennett, Coleman & Company Limited