GDP: इकोनॉमी को झटका! 8.4 फीसदी से कम होकर 6.3 फीसदी रही जीडीपी ग्रोथ रेट

GDP Data: राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) की ओर से जारी किए गए आंकड़ों से एग्रीकल्चर और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के प्रदर्शन के बारे में जानकारी मिली।

Updated Nov 30, 2022 | 06:09 PM IST

gdp

GDP: जीडीपी के आंकड़े जारी, इकोनॉमी को लगा झटका

तस्वीर साभार : iStock
मुख्य बातें
  • देश में पैदा होने वाले सभी प्रोडक्ट्स और सर्विस की वैल्यू को GDP कहा जाता है।
  • सकल घरेलू उत्‍पाद से किसी देश के घरेलू उत्पादन का पता चलता है।
  • जीडीपी से पता चलता है कि सालभर में देश ने आर्थिक रूप से कैसा प्रदर्शन किया है।
नई दिल्ली। सरकार ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई से सितंबर 2022 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के आंकड़े जारी कर दिए हैं। जुलाई - सितंबर तिमाही में भारत के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 6.3 फीसदी रही है। इससे पिछली तिमाही (Q1 FY23) में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 13.5 फीसदी रही थी। जबकि पिछले वित्त वर्ष की जुलाई से सितंबर तिमाही के दौरान जीडीपी की वृद्धि दर (GDP Growth Rate) 8.4 फीसदी रही थी। यानी दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर में कमी आई।
2022-23 की दूसरी तिमाही के लिए वास्तविक जीडीपी (Real GDP) 38.17 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है, जबकि 2021-22 की दूसरी तिमाही में यह 35.89 लाख करोड़ रुपये थी, जो Q2 2021-22 में 8.4 फीसदी की तुलना में 6.3 फीसदी की वृद्धि दर्शाता है।
एजेंसी ने इतना लगाया था अनुमान
इस महीने की शुरुआत में, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के बुलेटिन में प्रकाशित एक लेख में, इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 6.1 फीसदी से 6.3 फीसदी आंकी गई थी। रेटिंग एजेंसी इक्रा के अनुसार, सकल घरेलू उत्पाद में 6.5 फीसदी की वृद्धि होने की संभावना जताई गई थी, जबकि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने अपनी रिपोर्ट में जुलाई से सितंबर की तिमाही के लिए विकास दर 5.8 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था। मालूम हो कि चीन ने जुलाई से सितंबर 2022 में 3.9 फीसदी की आर्थिक विकास दर दर्ज की है।

अप्रैल-अक्टूबर में बढ़ा फिस्कल डेफिसिट
अप्रैल से अक्टूबर के दौरान राजकोषीय घाटा यानी Fiscal Deficit बढ़कर 7.58 लाख करोड़ रुपये हो गया है। सरकारी आंकड़ों से पता चला कि देश के फिस्कल डेफिसिट में बढ़ोतरी हुई है। उल्लेखनीय है कि फिस्कल डेफिसिट सरकार के व्यय और राजस्व के बीच का अंतर होता है। अप्रैल- अक्टूबर में रेवेन्यू गैप 3.13 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 3.84 लाख करोड़ रुपये हो गया। टैक्स रेवेन्यू की बात करें, तो यह 13.64 लाख करोड़ से 16.09 लाख करोड़ तक पहुंच गया। इसके अलावा इस अवधि के दौरान कैपेक्स में भी तेजी आई।
बुधवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर में आठ प्रमुख सेक्टर्स के उत्पादन में वृद्धि दर घटकर 0.1 फीसदी रह गई, जो पिछले साल इसी महीने में 8.7 फीसदी थी। सितंबर में कोर सेक्टर्स की आउटपुट ग्रोथ 7.8 फीसदी रही थी। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-अक्टूबर के दौरान आठ इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर्स- कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली की उत्पादन वृद्धि 8.2 फीसदी रही।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | बिजनेस (business News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

WPL Schedule: महिला प्रीमियर लीग की तारीखों का हुआ ऐलान, यहां जानिए

WPL Schedule

IND W vs AUS W Warm-Up Match: अभ्यास मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय महिला टीम को हराया

IND W vs AUS W Warm-Up Match

CM Yogi Exclusive Interview:'यूपी 2019 से बेहतर परिणाम देगा', 80 की 80 सीट पर जीत? राम चरितमानस विवाद और अहम मुद्दों पर देखिए सीएम योगी का ये खास इंटरव्यू

CM Yogi Exclusive Interview 2019     80  80

Turkey Earthquake: इस शख्स ने 72 घंटे पहले बता दिया था कि तुर्की-सीरिया में आएगा शक्तिशाली भूकंप

Turkey Earthquake    72       -

शराबी पति ने पहले गला रेतकर पत्नी और बच्चों की हत्या की, नशे में करता रहा मरहम-पट्‌टी फिर खुद को लगा ली आग

                -

HAL के नाम पर हमारी सरकार पर झूठे आरोप लगाए गए- कर्नाटक में कांग्रेस पर बरसे PM मोदी, कारखाने का किया उद्घाटन

HAL          -      PM

Dipika Kakar ने फ्लॉन्ट किया बेबी बंप, चेहरे पर दिखा प्रेग्नेंसी ग्लो

Dipika Kakar

तुर्की भूकंपः दिग्गज चेल्सी फुटबॉल टीम के पूर्व खिलाड़ी क्रिस्टियन अत्सु मलबे में फंसे- रिपोर्ट

             -
आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited