विवादों का फुटबाल विश्व कप ! समलैंगिंकता, रिश्वत और श्रमिकों की मौत पर उठे सवाल

FIFA World Cup 2022: FIFA के सबसे ताकतवर प्रशासक रह चुके सेप ब्लाटर ने यह कहकर सनसनी फैला दी है कि फुटबॉल विश्व कप की मेजबानी के लिए कतर को चुनना एक गलती थी। कतर में 20 नवंबर से शुरू हो रहे फीफा वर्ल्ड कप में समलैंगिंकता,श्रमिकों के अधिकार को लेकर विवाद खड़े हो गए हैं।

प्रशांत श्रीवास्तव

Updated Nov 20, 2022 | 12:20 PM IST

FIFA

कतर में 20 नवंबर से फीफा विश्व कप

तस्वीर साभार : FIFA
मुख्य बातें
  • कतर में समलैंगिंकता गैर कानूनी है।
  • कतर को मेजबानी देने को लेकर रिश्वत जैसे गंभीर आरोप भी लग चुके हैं।
  • इसके अलावा श्रमिकों के मानवाधिकार का मामला भी सुर्खियों मे हैं।
Football World Cup 2022: शायद ऐसा पहली बार हुआ है कि जिस देश को फुटबाल विश्व कप की मेजबानी दी गई, उसे लेकर FIFA के उस अधिकारी को ही दुख हो रहा है। जिसने उसे मेजबानी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। एक समय FIFA के सबसे ताकतवर प्रशासक रह चुके सेप ब्लाटर ने यह कहकर सनसनी फैला दी है कि फुटबॉल विश्व कप की मेजबानी के लिए कतर को चुनना एक गलती थी। कतर में 20 नवंबर से शुरू हो रहे फीफा वर्ल्ड कप को अगर विवादों का विश्व कप कहा जाय तो यह कहीं से कम नहीं होगा। क्योंकि इसको मेजबानी मिलने , समलैंगिकता, मानवाधिकार को लेकर इतने सवाल उठ रहे हैं, कि फुटबाल विश्व कप शुरू होने से पहले ही विवादों में पड़ गया है।
मेजबानी मिलने में रिश्वत का आरोप
विश्व कप की जब साल 2010 में कतर को मेजबानी मिली, उसी समय से उसको लेकर सवाल उठ रहे थे। फीफा पर यह आरोप लगा था कि उसके कुछ निर्णायक सदस्यों ने रिश्वत लेकर कतर के पक्ष में वोट दिया था। इस मामले में स्विटरजलैंड और अमेरिका में कई तरह की जांच प्रक्रिया भी अपनाई गई थी। हालांकि बाद में फीफा ने साल 2017 में रिश्वत के मामले में कतर क्लीन चिट दे दी थी।

श्रमिकों के अधिकार और मौत का मामला
इस तरह कतर पर, मानवाधिकार कानूनों के उल्लंघन का भी आरोप लगा है। असल में विश्व कप की तैयारियों के लिए, कतर में दुनिया भर में श्रमिकों को बुलाया गया था। इस दौरान एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में श्रमिकों के मानवाधिकार उल्लंघन की बात सामने आई। आरोप है कि श्रमिकों को घंटों काम कराया गया, उन्हें छुट्टियां नहीं मिली। बीबीसी के अनुसार कई रिपोर्ट्स का कहना है कि तैयारियों में करीब 6000 श्रमिकों की मौत हुई। हालांकि कतर सरकार ने केवल 37 श्रमिकों की बात स्वीकार की है।
कतर में कफाला सिस्टम के तहत ही कोई विदेशी मजदूर काम के लिए जा सकता है। इस सिस्टम के तहत आने वाले मजदूर पर एक तरह से काम देने वाली कंपनी का अधिकार होता है। इस व्यवस्था को लेकर भी दुनिया भर में सवाल उठे हैं। हालांकि बीच में नियमों में ढील भी दी थी। इसके बावजूद वह निशाने पर है।
समलैंगिंकों का बायकॉट
विश्व कप के आयोजन के एंबेसडर खालिद सलमान के एक बयान ने LGBTQ फुटबाल प्रेमियों में खलबली मचा दी है। उन्होंने एक बयान में कह दिया है कि समलैंगिकता एक मानसिक रोग है। इसके बाद से दुनिया भर में बवाल मच गया है। और अब तो दुनिया का LGBTQ समुदाय भी कतर में विरोध में उतर गया है। असल में कतर में समलैंगिकता गैर कानूनी है। समलैंगिक लोगो को 10 साल की सजा का प्रावधान हैं।
लेटेस्ट न्यूज

Shraddha Murder:तिहाड़ जेल में आरोपी आफताब पूनावाला का जानी दुश्मन! हो सकता है अटैक-Video

Shraddha Murder            -Video

Hyderabad: और होगा विस्तार, फैलेगा मेट्रो कॉरिडोर, बोले KCR-प्रोजेक्ट का निर्माण करेगी राज्य सरकार; जानें- कौन से स्टेशंस होंगे कवर?

Hyderabad        KCR-      -

बेहद रोमांटिक होगी विक्की कौशल और कैटरीना कैफ की पहली वेडिंग एनीवर्सरी, मालदीव में एक्ट्रेस को मिलेगा खास सरप्राइज

मंत्री, मसाज और 'महाभारत'! BJP बोली- CM के करीबी करा रहे जैन के VIDEO लीक, केजरीवाल ने कहा- क्लिप बनाने वाली कंपनी भाजपा

    BJP - CM       VIDEO    -

Railway Bridge Collapse: महाराष्ट्र के बल्लारशाह रेलवे स्टेशन के फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिरा, कई जख्मी, देखें कैसे हुआ हादसा

Railway Bridge Collapse

FIFA World Cup 2022: कोस्‍टा रिका ने मैच जीतकर जापान की उम्‍मीदों पर पानी फेरा, कीशेर फुलर बने हीरो

FIFA World Cup 2022

IND vs NZ: इसमें कुछ 'खास' है, भारत के युवा बल्‍लेबाज के फैन हुए रवि शास्‍त्री

IND vs NZ

Chandigarh: गले पर चाकू लगा लूट लिए लाखों, पर 10 घंटे में तीन को दबोचे गए

Chandigarh         10
आर्टिकल की समाप्ति

© 2022 Bennett, Coleman & Company Limited