Gujarat Election 2022:पहला चरण बन जाता है निर्णायक, गुजरात के VIP सीटों से समझे राज्य का गणित

Gujarat Election 2022: पहले चरण के चुनाव में राजकोट, द्वारका, सोमनाथ, मोरबी, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, नर्मदा, भरूच आदि प्रमुख जिलों की सीटें शामिल हैं। 19 जिलों में होने वाली वोटिंग में भाजपा के लिए सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्र सबसे बड़े चुनौती हैं।

Updated Dec 1, 2022 | 06:05 PM IST

gujarat Election

गुजरात चुनाव पहले चरण में 89 सीटों पर वोटिंग

तस्वीर साभार : PTI
मुख्य बातें
  • पिछली बार सौराष्ट्र-कच्छ में कांग्रेस भाजपा पर भारी पड़ गई थी।
  • भाजपा के लिए दक्षिण गुजरात की वोटिंग बेहद अहम है। पिछली बार उसे 35 सीटों में से 27 पर भाजपा ने जीत मिली थी।
  • पहले चरण में भाजपा और कांग्रेस के 89-89 और आप के 88 उम्मीदवार मैदान में हैं।
Gujarat Election 2022: गुजरात विधान सभा चुनाव के पहले चरण की 89 सीटों पर वोटिंग हो गई है। ये वो इलाके हैं जहां 2017 के विधानसभा चुनावों में पाटीदार आंदोलन का असर था। सौराष्ट्र-कच्छ में कुल 54 सीटें हैं। जबकि बाकी 35 सीटें दक्षिण गुजरात की हैं। पहले चरण के चुनाव में राजकोट, द्वारका, सोमनाथ, मोरबी, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, नर्मदा, भरूच आदि प्रमुख जिलों की सीटें शामिल हैं। 19 जिलों में होने वाली वोटिंग में भाजपा के लिए सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्र सबसे बड़े चुनौती हैं। क्योंकि पिछली बार 2017 में भी भाजपा को इन इलाकों में कांग्रेस से कांटे की टक्कर मिली थी। और इस चरण की खासियत ऐसी रही है कि हर बड़ी जनता सरकार की दिशा तय कर देती है।
पहले क्या रहा रिकॉर्ड
2017 में पार्टियों का हाल देखा जाय तो यहां 68 फीसदी वोटिंग हुई थी। और भाजपा को 89 सीटों में से 48 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि कांग्रेस को 39 सीटों पर जीत मिली थी। पिछली बार सौराष्ट्र-कच्छ में कांग्रेस भाजपा पर भारी पड़ गई थी। इस दौरान 65 में से 28 पर जीत मिली थी, जबकि बीजेपी को 20 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था। इसका असर यह हुआ कि भाजपा के लिए बहुमत की राह मुश्किल हो गई थी। पिछले चुनाव में भाजपा को बची 93 सीटों में 51 पर जीत हासिल हुई थी। और 2002 में सत्ता में आने के बाद भाजपा के लिए पहली बार हुआ था कि उसे 100 सीटों से कम सीट मिली थीं। उस वक्त भाजपा को 99 सीटें मिली थीं।
इसीलिए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का इस बार इस इलाके में सबसे ज्यादा जोर है। और यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद गुजरात में डेरा डाले हुए हैं। और भाजपा का पूरी कोशिश है कि पहले चरण में ज्यादा से ज्यादा सीटें हासिल की जाएं। भाजपा के लिए पहले चरण में दक्षिण गुजरात की वोटिंग बेहद अहम है। पिछली बार उसे 35 सीटों में से 27 पर भाजपा ने जीत मिली थी।
पहले चरण की वीआईपी सीटें
पहले चरण में पूर्व मंत्री पुरुषोत्तम सोलंकी,आप के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार इसुदान गढ़वी, क्रिकेटर रवींद्र जडेजा की पत्नी रीवाबा, मोरबी हादसे में नायक बन उभरे कांतिलाल अमृतिया प्रमुख उम्मीदवार हैं। इन वीआईपी उम्मीदवारों पर सबकी नजरें रहेंगी। इसके अलावा द्वारका, गिर सोमनाथ, अमरेली, नर्मदा, डांग आदि जिलों में भाजपा के लिए बेहतर प्रदर्शन करने की चुनौती है।
त्रिकोणीय मुकाबले का कितना असर
पहले चरण में भाजपा और कांग्रेस के 89-89 और आप के 88 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने पहले चरण में 57, भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) ने 14 सीटों पर उम्मीदवारों उतारे हैं। समाजवादी पार्टी, माकपा के भी उम्मीदवार मैदान में हैं। लेकिन मेन लड़ाई भाजपा, कांग्रेस और आप में हैं। भाजपा ने जहां नरेंद्र मोदी और विकास को मुद्दा बनाया है। वहीं आम आदमी पार्टी ने दिल्ली मॉडल से लुभाने की कोशिश की है। हालांकि आखिर दौर में गुजरात दंगे, बाटला हाउस और आतंकवाद जैसे मुद्दे वोटरों को लुभाने का हथियार बने। अब देखना है कि गुजरात की जनता किस पर भरोसा करती है।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | इलेक्शन (elections News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

BSEB Bihar Board 2023: बिहार बोर्ड ने जारी की परीक्षार्थियों के लिए जरूरी सूचना, देखें वीडियो

BSEB Bihar Board 2023

Suhani Shah ने किया Anchor का Mind Read, माइंड रीडिंग पर किया ये अहम खुलासा-VIDEO

Suhani Shah   Anchor  Mind Read       -VIDEO

राखी सावंत ने रिवील किया अदिल की गर्लफ्रेंड का चेहरा, वायरल हुआ रोमांटिक वीडियो

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने कहा- भारत को खूब खलेगी इस खिलाड़ी की कमी

      -

वो तोप हैः ऑस्ट्रेलियाई ओपनर उस्मान ख्वाजा को सता रहा है इस भारतीय का डर

शमिता शेट्टी ने आमिर अली को डेट करने की खबर पर तोड़ी चुप्पी, बोलीं- दोस्ती को बदनाम मत करो...

             -

दादा की भविष्यवाणीः कमाई को लेकर सौरव गांगुली ने दुनिया के सभी खिलाड़ियों को दिया बड़ा संकेत

IND vs AUS: रवि शास्त्री ने टीम इंडिया को दी 3 जरूरी सलाह, ऑस्ट्रेलिया से जीतना है तो इन्हें अपनाओ

IND vs AUS        3
आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited