Saving Ways: जरुरत से ज्यादा खर्च होता है? 7 तरीके से सकते हैं कंट्रोल, इन बातों का रखें ध्यान

Saving Ways : कई लोग अत्यधिक खर्च करने के आदी होते हैं। दूसरों के साथ बराबरी करना, आवेग में आकर खर्च करना या वित्तीय साक्षरता की कमी बहुत ज्यादा खर्च कर देते हैं। अपने भविष्य के लिए बचत नहीं करते हैं। वक्त बीत जाने पर पश्चाताप करते हैं। ऐसी नौबत न आए इसके लिए यहां बताए गए 7 महत्वपूर्ण प्वाइंट को ध्यान में रखना चाहिए।

Updated May 26, 2023 | 04:29 AM IST

Saving Ways, Savings Tips, Savings Strategy

Savings Tips: बचत करने के तरीके जानिए

Saving Ways: कई कारणों से लोग अपनी आय से अधिक खर्च करते हैं। इमोशनल कारण जैसे बोरियत या तनाव का सामना करने के लिए तरीका खोजना, सामाजिक दबाव जैसे दूसरों के साथ बराबरी करना, आवेग में आकर खर्च करना, या वित्तीय साक्षरता की कमी बहुत आम कारण हैं। आप चतुराई से पेश की गई मार्केटिंग का भी शिकार हो सकते हैं या वित्तीय आपदा जैसे स्वास्थ्य संकट हो सकता है जिसके लिए आपको अपने साधनो से कहीं अधिक खर्च करना पड़ सकता है। ऐसे कारण हो सकते हैं जो आपके कंट्रोल में हैं या आपके कंट्रोल में नहीं हैं। लेकिन इससे बचने का तरीका क्या है?

Saving Ways:पहले बचत और निवेश करें

यदि महीने की शुरुआत में आपने पैसे को पहले से ही बचत और निवेश में डाल दिया है, तो आपके पास अपने पैसे को बेकार खर्च करने के कम अवसर होंगे। रिकरिंग डिपाजिट या म्यूचल फंड में सिस्टेमेटिक निवेश प्लान से आपको सहायता मिल सकती है। बचत की अच्छी बात यह है कि यदि आपको किसी इमरजेंसी में खर्च करने के लिए वास्तव में पैसे की जरूरत है, तो आप इस बचत का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन जब आप इसका निवेश कर देते हैं, तो इस बात की अच्छी संभावना होती है कि आप लिक्विडेशन से बचना चाहेंगे क्योंकि ऐसा करने पर जुर्माना या टैक्स देना पड़ सकता है।

Saving Ways: रणनीति के तहत खर्च करें

आखिरकार, आपका पैसा आपके सुख और आनन्द के लिए है। इसलिए इसका आनन्द लें, लेकिन ऐसा सुरक्षित रूप से करें। 50:30:20 नियम उपयोगी है। इसमें यह कहा गया है कि आपकी डिस्पोजेबल आय का 50% जरूरतों (जैसे किराया या ग्रोसरी) के लिए खर्च किया जाना चाहिए, 30% खर्च इच्छाओं (जैसे बाहर खाना या छुट्टियां मनाना) तथा 20% बचत की जानी चाहिए। आप यह तर्क दे सकते हैं कि 30% हिस्सा इच्छाओं के लिए ज्यादा है। लेकिन, हर व्यक्ति को अपनी स्थिति के अनुसार ऑप्टिमल रेशो तय कर लेना चाहिए। आनन्द के लिए खर्च करने वाले पैसे को सीमित करने से आपको अनिवार्य बचत करने में सहायता मिलेगी।

Saving Ways: बिना सोचे-समझे खर्च ना करें

अक्सर जरूरत से ज्यादा खर्च आवेग में लिए गए फैसलों के कारण होता है। आप बाजार में हैं। कोई चीज आपको अच्छी लग जाती है। आप खुद को इसे उसी वक्त खरीदने से रोक नहीं पाते हैं। आप अपने क्रेडिट कार्ड से बहुत ज्यादा खर्च कर लेते हैं। कुछ दिनों के बाद, अफसोस होने लगता है। आवेग में आकर खर्च करने से बचने के लिए, एक नियम है जिसका आप पालन कर सकते हैं। इसे एक सप्ताह का नियम कहा जाता है। इससे पहले कि आप अपने आवेग से हार जाएं, इसे एक हफ्ते तक रोके रहें। अपनी खरीद पर विचार करें। यदि एक सप्ताह के बाद भी आप इसे खरीदना चाहते हैं, तो आप ऐसा कर सकते हैं। लेकिन इस बात की संभावना है कि तब तक आप इसको कंट्रोल कर चुके होंगे। इस नियम के दूसरे वर्जन में एक दिन या एक महीने का नियम शामिल है।

Saving Ways: चेतावनी देने वाला व्यक्ति या समूह बनाएं

हम सभी को किसी भी महत्वपूर्ण निर्णय से पहले किसी से सलाह लेने की जरूरत होती है। भारत में फाईनेंशियल लिट्रेसी कम है। अच्छे फाइनेंशियल सलाहकारों की कमी है। लेकिन, हमेशा कोई न कोई ऐसा व्यक्ति होती है जिसके निर्णय पर हम भरोसा कर सकते हैं। इससे पहले की हम संभावित तौर पर किसी हानिकारक निर्णय करते हैं जैसे कि अपनी सारी बचत को छुट्टियों पर खर्च करना या ज्यादा से ज्यादा शॉपिंग करना, इस व्यक्ति से संपर्क करें। सच्चाई जानने की कोशिश करें। कुछ पैसा बचाने में वर्षों का समय लग जाता है तथा इसे खर्च करने में एक लम्हा भी नहीं लगता। और शायद, सच को जांच लेने से इस प्रकार की मंहगी साबित होने वाली गलतियों से बचा जा सकता है।

Saving Ways: हम किनकी संगत में रहते हैं

हम अपने आसपास के लोगों की आदतों की नकल उतारने की कोशिश करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि हमारे सामाजिक सर्कल में बहुत अधिक खरीददारी करने वाले या जुआ खेलने वाले लोग हैं, तो इस बात की अधिक संभावना होती है कि हम इस प्रकार की जीवनशैलियों को अपनाने लगेंगे। इसके उलट, यदि हम अधिक बचत करने का इरादा रखते हैं, तो इस तरह की जीवनशैली अपनाने वाले लोगों के साथ रहने से सहायता मिलेगी और ऐसे लोग जो हम में इस तरह से आदतों का विकास करने के लिए हमें प्रोत्साहित करते हैं।

Saving Ways: कर्ज को मैनेज करना

खर्च करने की खराब आदतों के कारण उधार लेने की खराब आदतें भी विकसित होती हैं। हम पैसे के साथ उन चीजों को खरीदते हैं जो हमें नहीं चाहिए हमें उन लोगों को प्रभावित नहीं करना है जिनको हम पसंद नहीं करते हैं यह लाइन फाइट क्लब मूवी से ली गई है। ऐसे व्यक्ति द्वारा लोन कुछ ही मिनटों में प्राप्त किया जा सकता है जिसकी साख अच्छी है। लेकिन, इच्छाओं और जरूरतों के फ्रेमवर्क बिना, आप इच्छाओं को जरूरतें समझ सकते हैं, और ऐसी चीजों को खरीदने के लिए उधार ले सकते हैं जिनकी आपको जरूरत नहीं है। जरूरत से ज्यादा उधार लेने से, आपका कर्ज बढ़ जाता है। ब्याज का भुगतान करना नामुमकिन सा हो जाता है। आप और अधिक कर्ज के जाल में फंस जाते हैं। जितना कम उधार लेकर आप अपनी जीवनशैली पर खर्च करेंगे, उतना ही आपके लिए यह बेहतर होगा। यदि आप फाईनेंसिंग विकल्पों जैसे क्रेडिट कार्ड या बीएनपीएल का प्रयोग करते हैं, तो हमेशा अपने बकाया राशि का पूरा और समय पर भुगतान करें।

Saving Ways: किफायत का महत्व

उन व्यक्तियों की आदतों की जानकारी पाएं जो अपने पूरे जीवनकाल में धनवान रहे हैं। एक चीज जिसे सभी में देखा जाएगा वो है। उनकी किफायत की आदत। यह बहुत अजीब बात लग सकती है कि अरबपति हमेशा किफायत का उपदेश देते हैं, लेकिन इसी से उनको अमीर बने रहने में सहायता मिलती है। आखिर में, कुछ ऐसी स्थितियां होती हैं जिन पर आपका कोई कंट्रोल नहीं होता है- मौत, बीमारी, डिस्ऐबिलिटी या आपदा जो बिना किसी सूचना के कभी भी घटित हो सकती हैं। ऐसी स्थितियों में, आपको और आपके परिवार को बिमा की सुरक्षा लेनी चाहिए ताकि आपको अपने सामर्थ्य से बाहर खर्च ना करने पड़े।
(इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर: ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | एक्सप्लेनेर्स (explainer News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल

लेटेस्ट न्यूज

आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited