PM की निंदा पर IB ने उठाई थी अंगुली, पर Collegium ने फिर कहा- बनाइए HC का जज

कॉलेजियम ने सत्यन की ओर से सोशल मीडिया पर शेयर की गईं टिप्पणियों को नजरअंदाज किया है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना भी है। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने सत्यन की सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर आपत्ति जताई।

Updated Jan 20, 2023 | 01:00 AM IST

PM की निंदा पर IB ने उठाई थी अंगुली, पर Collegium ने फिर कहा- बनाइए HC का जज
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निंदा को लेकर इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने जिन अधिवक्ता आर जॉन सत्यन पर अंगुली उठाई थी, उन्हें सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने एक बार फिर से हाईकोर्ट का जज बनाने के लिए कहा है। न्यायमूर्ति एस. के. कौल और न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ वाले इस कॉलेजियम ने सत्यन को मद्रास हाईकोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त करने की अपनी 16 फरवरी, 2022 की सिफारिश को दोहराया है।
चीफ जस्टिस डी.वाई. चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम की ओर से बताया गया कि इसने 17 जनवरी, 2023 को मीटिंग में अधिवक्ता सत्यन को मद्रास हाई कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति के लिए अपनी पहले की सिफारिश को दोहराया है। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने सत्यन के सोशल मीडिया पोस्ट पर आपत्ति जताई। हालांकि, साथ ही यह भी कहा कि उनकी अच्छी निजी और पेशेवर छवि है और उनकी सत्यनिष्ठा के बारे में कुछ भी प्रतिकूल नहीं पाया गया। सत्यन ईसाई समुदाय से हैं।
आईबी की रिपोर्ट के मुताबिक, उनका कोई राजनीतिक झुकाव नहीं है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर जारी स्टेटमेंट के अनुसार, ‘‘इस लिहाज से कॉलेजियम की यह सुविचारित राय है कि आर. जॉन सत्यन मद्रास हाईकोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने के लिए उपयुक्त हैं। कॉलेजियम उनकी नियुक्ति के लिए 16 फरवरी, 2022 की अपनी सिफारिश दोहराता है।’’
कॉलेजियम आगे बोला कि जब उसने पहली बार सत्यन को न्यायाधीश के रूप में प्रमोट करने की सिफारिश की तो सभी सलाहकार-न्यायाधीशों (न्यायमूर्ति संजय किशन कौल, न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी (अब सेवानिवृत्त), न्यायमूर्ति वी. रामासुब्रमण्यम और न्यायमूर्ति एम.एम. सुंदरेश) ने उन्हें इस पद के लिए उपयुक्त पाया था।

"चारों की अभिव्यक्ति किसी उम्मीदवार को संवैधानिक पद पर आसीन होने से वंचित नहीं करती"

इस बीच, टॉप कोर्ट के कॉलेजियम ने कहा है कि न्यायपालिका के लिए प्रस्तावित उम्मीदवार की ओर से विचारों की अभिव्यक्ति उसे तब तक संवैधानिक पद पर आसीन होने से वंचित नहीं करती है जब तक कि उसके पास योग्यता और सत्यनिष्ठा है। अदालत की साइट पर अपलोडेड बयान के मुताबिक, ‘‘जिस आधार पर सुंदरेसन की उम्मीदवारी पर पुनर्विचार की मांग की गई है, वह यह है कि उन्होंने सोशल मीडिया में कई मामलों पर अपने विचार व्यक्त किए हैं, जो अदालतों के समक्ष चर्चा का विषय हैं।’’
आगे कहा गया, ‘‘सोमशेखर सुंदरेसन की उम्मीदवारी को लेकर आपत्ति पर विचार करने के बाद, कॉलेजियम का मत है कि उम्मीदवार के लिए सोशल मीडिया पर व्यक्त किये गये विचार, यह अनुमान लगाने के लिए कोई आधार प्रस्तुत नहीं करते हैं कि वह पक्षपाती हैं।’’ बताया गया कि सभी नागरिकों को संविधान के अनुच्छेद 19(1)(ए) के तहत बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | देश (india News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

मामी के साथ इश्क में ऐसा डूबा भांजा कि मामा को ही उतार दिया मौत के घाट, गोलियों से छलनी कर दिया सीना

Video: अडानी के मुद्दे पर सदन में चर्चा न होने के पीछे क्या है कारण? वित्त मंत्री बोलीं- चर्चा से कौन भाग रहा है

Video                 -

Video: बजट को छोड़ अडानी के शेयरों की ज्यादा चर्चा के पीछे कोई षड्यंत्र है? वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया ये जवाब

Video

SC में 5 नए जजों की नियुक्ति, पटना-राजस्थान-मणिपुर हाईकोर्ट को मिले कार्यवाहक चीफ जस्टिस

SC  5     --

2047 तक भारत को इस्लामिक देश बनाने की योजना का खुलासा, महाराष्ट्र ATS के हाथ लगा PFI का प्लान

2047            ATS    PFI

Asia Cup 2023: पाकिस्तान नहीं जाएगा भारत, मार्च में नए वेन्यू पर होगा फैसला, UAE मेजबानी को तैयार

Asia Cup 2023            UAE

अभी थोड़े दिन रुकिए, मोदी की हवा है, नीतीश ने कैसे लोगों को 3 बार दिया धोखा, प्रशांत किशोर का बड़ा खुलासा

             3

उत्तर प्रदेश सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है, दुनिया के लोग हो रहे है आकर्षित, बोले योगी के मंत्री नंद गोपाल नंदी

आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited