Faridabad: बैंकों और फाइनेंस कंपनियों को चपत लगाता था यह गिरोह, सात शातिर ठग गिरफ्तार

फरीदाबाद की साइबर पुलिस ने ठगी करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दार्फाश करते हुए सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये आरोपी फर्जी आधार व पैन कार्ड बनाकर बैंकों और फाइनेंस कंपनियों से ठगी करते थे। आरोपी ने पुलिस पूछताछ में 180 वारदातों को स्‍वीकार किया है। पुलिस इन आरोपियों से अभी पूछताछ करने में जुटी है।

Updated Jan 17, 2023 | 09:43 PM IST

faridabad crime

साइबर ठगी करने वाले सात आरोपी गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुख्य बातें
  • आरोपी लंबे समय से कर रहे थे साइबर ठगी
  • फर्जी आधार व पैन कार्ड से आरोपी कराते कीमती सामान फाइनेंस
  • आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में सैकड़ों वारदात कबूली


Faridabad: फरीदाबाद की साइबर पुलिस को एक ठग गिरोह को पकड़ने में बड़ी कामयाबी मिली है। यह गिरोह फर्जी आधार व पैन कार्ड बनाकर बैंकों और फाइनेंस कंपनियों के साथ ठगी करता था। साइबर थाना एनआईटी की टीम ने इस गिरोह का पर्दाफाश करते हुए सात शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है। ये सभी आरोपी अलग-अलग शहरों के रहने वाले हैं। पुलिस के अनुसार, आरोपी आबिद, टीकम, विनीत, मुकेश तथा हरमेल गाजियाबाद के रहने वाले हैं। वहीं आरोपी साहिल और दीपक दिल्ली के रहने वाले हैं। फरीदाबाद डीसीपी नीतीश कुमार अग्रवाल ने बताया कि, यह गिरोह फर्जी कागजात तैयार कर बैंक व फाइनेंस कंपनियों को चपत लगाते थे।
फरीदाबाद पुलिस ने बताया कि, इन आरोपियों ने फरीदाबाद के एक व्‍यक्ति के साथ ठगी की थी। जिसके बाद अक्टूबर 2022 में धोखाधड़ी तथा षड्यंत्र की विभिन्‍न धाराओं के तहत साइबर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। जांच के दौरान पता चला कि, इन आरोपियों ने पीड़ित व्‍यक्ति का पैन नंबर और आधार कार्ड का यूज कर एक फाइनेंस कंपनी से आईफोन फाइनेंस करवाया लिया। शिकायतकर्ता को इसकी जानकारी तब हुई, जब वह बैंक से लोन लेने पहुंचा। वहां पर बताया गया कि, उसके नाम पर पहले ही एक मोबाइल का करीब 49 हजार रुपये का लोन चल रहा है। बैंक ने यह भी बताया कि लोन डिफॉल्ट हो चुका है अब उसे लोन नहीं मिल पाएगा।

आरोपियों ने पूछताछ में 180 मामलों का किया खुलासा

इस पूरे मामले की जांच के लिए इंस्पेक्टर बसंत के नेतृत्व में साइबर टीम का गठन किया गया। जांच के दौरान तकनीकी की मदद से पुलिस इन आरोपियों तक पहुंची और इन्‍हें दिल्ली एनसीआर के अलग-अलग हिस्‍से से गिरफ्तार किया गया। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, आरोपी विनीत इस गैंग का सरगना है। यही आरोपी लोगों का आधार कार्ड और पैन कार्ड का डाटा लेकर आरोपी मुकेश को देता। जिसके बाद एक सीएससी सेंटर में आरोपी हरमेल सिंह इससे फर्जी पेन व आधार कार्ड तैयार करता। इसके बाद सभी आरोपी अलग-अलग बैंक और फाइनेंस कंपनी से मोबाइल फाइनेंस करवाते। पुलिस के अनुसार, इन आरोपियों से पूछताछ में 180 वारदातों का खुलासा हुआ है। ये आरोपी मोबाइल फोन, टीवी, लैपटॉप, एलईडी, होम थिएटर, एसी जैसे सामान फाइनेंस करवाते थे।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | फरीदाबाद (cities News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

मामी के साथ इश्क में ऐसा डूबा भांजा कि मामा को ही उतार दिया मौत के घाट, गोलियों से छलनी कर दिया सीना

Video: अडानी के मुद्दे पर सदन में चर्चा न होने के पीछे क्या है कारण? वित्त मंत्री बोलीं- चर्चा से कौन भाग रहा है

Video                 -

Video: बजट को छोड़ अडानी के शेयरों की ज्यादा चर्चा के पीछे कोई षड्यंत्र है? वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया ये जवाब

Video

SC में 5 नए जजों की नियुक्ति, पटना-राजस्थान-मणिपुर हाईकोर्ट को मिले कार्यवाहक चीफ जस्टिस

SC  5     --

2047 तक भारत को इस्लामिक देश बनाने की योजना का खुलासा, महाराष्ट्र ATS के हाथ लगा PFI का प्लान

2047            ATS    PFI

Asia Cup 2023: पाकिस्तान नहीं जाएगा भारत, मार्च में नए वेन्यू पर होगा फैसला, UAE मेजबानी को तैयार

Asia Cup 2023            UAE

अभी थोड़े दिन रुकिए, मोदी की हवा है, नीतीश ने कैसे लोगों को 3 बार दिया धोखा, प्रशांत किशोर का बड़ा खुलासा

             3

उत्तर प्रदेश सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है, दुनिया के लोग हो रहे है आकर्षित, बोले योगी के मंत्री नंद गोपाल नंदी

आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited