'ब्रिटेन और चीन के बीच स्वर्ण युग अब समाप्त हो गया', यूके पीएम ऋषि सुनक ने की शी जिनपिंग सरकार की आलोचना

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने कहा कि ब्रिटेन और चीन के बीच 'स्वर्ण युग' अब समाप्त हो गया है। साथ ही उन्होंने चीन में हो रहे मानवाधिकारों के हनन की भी आलोचना की। कोरोना लॉकडाउन के खिलाफ चीन में चल रहे प्रदर्शनों पर पुलिसिया कार्रवाई की उन्होंने निंदा की।

Updated Nov 29, 2022 | 07:15 AM IST

UK PM Rishi Sunak

यूके पीएम ऋषि सुनक

तस्वीर साभार : ANI
मुख्य बातें
  • ऋषि सुनक ने कहा कि तथाकथित 'स्वर्ण युग' समाप्त हो गया है।
  • उन्होंने कहा कि चीन हमारे मूल्यों, हितों के लिए चैलेंज पेश कर रहा है।
  • चीन में हो रहे मानवाधिकारों के हनन की सुनक ने आलोचना की।
लंदन (यूके): विदेश नीति पर अपने पहले प्रमुख संबोधन में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने सोमवार को जोर देकर कहा कि ब्रिटेन और चीन के बीच 'स्वर्ण युग' अब समाप्त हो गया है और यह चीन के प्रति दृष्टिकोण विकसित करने का समय है। देश अपने सत्तावादी शासन के साथ यूके के मूल्यों और हितों के लिए एक सिस्टमेटिक चैलेंज पेश कर रहा है। लंदन के गिल्डहॉल में लॉर्ड मेयर के भोज में अपने संबोधन के दौरान सुनक ने विदेश नीति पर अपना रुख सामने रखते हुए चीन में हो रहे मानवाधिकारों के हनन की भी आलोचना की।
यूके के प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि अब स्पष्ट हो गया है तथाकथित 'सुनहरा युग' समाप्त हो गया है, साथ ही इस विचार के साथ कि व्यापार सामाजिक और राजनीतिक सुधार की ओर ले जाएगा। हम मानते हैं कि चीन हमारे मूल्यों और हितों के लिए एक सिस्टमेटिक चुनौती पेश करता है। एक चुनौती जो अधिक तीव्र होती है जैसा कि यह और भी अधिक अधिनायकवाद की ओर बढ़ रहा है।
आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि हम चीन पर अपने लचीलेपन को मजबूत करने और अपनी आर्थिक सुरक्षा की रक्षा करने पर दीर्घकालिक विचार कर रहे हैं और कहा कि यूके चीन के वैश्विक महत्व को आसानी से अनदेखा नहीं कर सकता है। यूके के प्रधानमंत्री ने भी कोरोना लॉकडाउन के खिलाफ चीन में चल रहे विरोध पर चिंता व्यक्त की और कहा कि लोगों की चिंताओं को सुनने के बजाय चीनी सरकार ने उन पर कार्रवाई का रास्ता चुना है।
बीबीसी रिपोर्ट के मुताबिक हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी शंघाई की सड़कों पर उतर आए, जहां लोगों को पुलिस की कारों में बांधा जा रहा था। छात्रों ने बीजिंग और नानजिंग के विश्वविद्यालयों में भी प्रदर्शन किया है। इस बीच, रविवार की दोपहर शंघाई शहर में सैकड़ों लोग इकट्ठा हुए। जहां चीन की शून्य-कोविड नीति के खिलाफ शुरुआती घंटों में प्रदर्शन हुआ था। एक व्यक्ति ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि प्रदर्शनकारी सादे कागज के टुकड़े और सफेद फूल लेकर कई चौराहों पर चुपचाप खड़े रहे। पुलिस अधिकारी अंततः अवरुद्ध सड़कों से हटाने के लिए चले गए।
सुनक इस महीने की शुरुआत में इंडोनेशिया के बाली में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिलने वाले थे, लेकिन यूक्रेन की सीमा के पास एक पोलिश गांव में मिसाइल हमले के बाद नाटो सदस्यों के आपात बैठक के लिए इकट्ठा होने के बाद बैठक को रद्द कर दिया गया था। प्रधानमंत्री ने यूके सरकार द्वारा उठाए गए उपायों को सूचीबद्ध किया, जिसमें चीन को ब्रिटेन में अपने प्रभाव को सीमित करने से रोकने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा और निवेश अधिनियम के तहत दिए गए नए अधिकार शामिल हैं।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | दुनिया (world News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

'जिस रामचरितमानस क्या होता है?', जब RJD प्रवक्ता के बयान पर यूं फटकारने लगे एंकर, देखें VIDEO

      RJD          VIDEO

Greater Noida: पंचशील हाइनिश का AOA पंजीकृत, सर्वसम्मति से हुए 9 सदस्यों का चुनाव

Greater Noida    AOA     9

BSE और NSE की अतिरिक्त निगरानी के दायरे में अडाणी एंटरप्राइजेज, अडाणी पोर्ट्स, अंबुजा सीमेंट्स

BSE  NSE

Bhopal: इस्लाम नगर हुआ जगदीशपुर, कभी मोहम्मद खान ने इस जगह का बदला था नाम

Bhopal

Patna: नवादा में भीषण सड़क हादसा, ट्रक ने टेंपो और ई-रिक्शा को रौंदा, दो बच्ची समेत तीन की मौत, चार घायल

Patna          -

IND-W vs SA-W Final: भारत को भारी पड़ीं 57 'डॉट' गेंदें, दक्षिण अफ्रीका ने जीता ट्राई सीरीज खिताब

IND-W vs SA-W Final     57

17 साल बाद इस धुरंधर क्रिकेटर ने T20 सहित हर फॉर्मेट को कहा अलविदा

17       T20

JEE Mains 2023: जारी हुई जेईई मेंस आंसर की, इस डायरेक्ट लिंक से करें चेक

JEE Mains 2023
आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited