Petrol Price:भारत ही नहीं पाकिस्तान में भी 'पेट्रोल के दाम' में लगी आग, सोशल मीडिया पर फट पड़ी वहां की 'जनता'

Petrol price hiked in pakistan: पेट्रोल की बढ़ती कीमतें भारत ही नहीं बल्कि पाकिस्तान की जनता का भी जीना मुहाल किए हुए हैं, पाक में एक बार फिर इसके दाम में खासी बढ़ोत्तरी की गई है जिससे जनता का गुस्सा फट पड़ा है।

petrolprice_pakastan
ट्विटर पर हैशटैग पेट्रोलप्राइस ट्रेंड कर रहा है 
मुख्य बातें
  • इंटरनेट पर मीम्स की बाढ़ आ गई
  • ट्विटर पर हैशटैग पेट्रोलप्राइस ट्रेंड कर रहा है
  • विपक्ष ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है

नई दिल्ली: इंटरनेट पर मीम्स की बात आने पर अपनी कटुता और बेजोड़ हास्य के लिए जाने जाने वाले पाकिस्तानियों ने ट्विटर पर पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में बढ़ोतरी के सरकार के फैसले की आलोचना की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तानी नागरिकों को शनिवार की सुबह पता चला कि वित्त मंत्रालय ने पेट्रोल की कीमत में 10.49 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी है।

जैसा कि अपेक्षित था, कई लोगों ने सोशल मीडिया पर सरकार के इस कदम पर रोष जताया और इंटरनेट पर मीम्स की बाढ़ आ गई। ट्विटर पर हैशटैग पेट्रोलप्राइस ट्रेंड कर रहा है, क्योंकि नेटिजन्स ने इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा निकाला है।

पाकिस्तान के ट्विटर यूजर्स ने पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में उछाल के बाद गुस्सा निकालने के साथ ही काफी कमेंट्स ऐसे भी किए हैं, जिसमें उन्होंने सरकार का मजाक उड़ाया है। वहीं दूसरी ओर विपक्ष ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है।

पेट्रोल की कीमतों में हालिया बढ़ोतरी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, पीएमएल-एन के अध्यक्ष और नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता, शहबाज शरीफ ने कहा कि बिजली दरों में 14 प्रतिशत की वृद्धि के बाद, जनता पर पेट्रोल बम फोड़ा गया है।रिपोर्ट में कहा गया है कि पीटीआई सरकार पर हमला करते हुए, शहबाज शरीफ ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान को पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है और उन्होंने उनके इस्तीफे की मांग की है।

'पेट्रोल की कीमतें देश में महंगाई की सुनामी लेकर आई'

दूसरी ओर पीपीपी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने एक बयान में कहा कि पीटीआई सरकार पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए देश में महंगाई की सुनामी लेकर आई है। उन्होंने कहा, सरकार वास्तव में अपनी अक्षमता के लिए लोगों पर आरोप लगा रही है। पीपीपी युग के दौरान, विश्व बाजार में पेट्रोलियम की बढ़ती कीमतों और उत्पादों का बोझ कभी भी जनता के कंधों पर नहीं डाला गया था।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Viral News in Hindi, साथ ही Hindi News के ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर