गजब: पाकिस्तान में शेर से ज्यादा भैंस की कीमत, जानें क्या है इसके पीछे का कारण?

वायरल
आईएएनएस
Updated Jul 29, 2022 | 14:47 IST

AJab Gajab News: पाकिस्तान से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसकी हर तरफ चर्चा हो रही है। यहां एक भैंस की कीमत शेर से ज्यादा है।

Buffalo cost more than lion in pakistan Know About Truth
शेर पर भैंस भारी 
मुख्य बातें
  • पाकिस्तान से अनोखा मामला सामने आया
  • शेर के सामने भैंस पलड़ा का भारी
  • 150,000 में मिल रहा है एक अफ्रीकी शेर

Ajab Gajab News: 'जंगल का राजा' शेर को कहा जाता है। इतना ही नहीं शेर को खरीद पाना सबके बस की बात नहीं है। लेकिन, कभी सुना है शेर से सस्ती कीमत पर भैंस को खरीद सकते हैं। यकीनन आपका जवाब ना ही होगा। लेकिन, पाकिस्तान में इन दिनों आप भैंस से सस्ती कीमत पर शेर को खरीद सकते हैं। इस बात पर भले ही आपको यकीन ना हो रहा हो, लेकिन यह सच है। तो आइए, जानते हैं क्या है अजीबोगरीब मामला?

समा टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, लाहौर सफारी चिड़ियाघर का प्रशासन, हालांकि अपने कुछ अफ्रीकी शेरों को प्रति शेर 150,000 (पाकिस्तानी) रुपये की मामूली कीमत पर बेचने के लिए तैयार है। इसकी तुलना में ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर एक भैंस 350,000 रुपए से 10 लाख रुपए की मोटी रकम में उपलब्ध है। लाहौर सफारी चिड़ियाघर प्रबंधन की ओर से अगस्त के पहले सप्ताह में अपने 12 शेरों को बेचने की उम्मीद है, ताकि पैसा जुटाया जा सके। बिक्री के लिए तीन शेरनी हैं, जिन्हें निजी आवास योजनाओं या पशुपालन के प्रति उत्साही लोगों को काफी किफायती कीमतों पर बेचा जा सकता है।

ये भी पढ़ें -  इस युवक से ज्यादा प्यार कोई अपनी गर्लफ्रेंड से नहीं कर सकता! नदी किनारे बैठ सिर से निकालता दिखा जूं

शेर पर भैंस भारी...

रिपोर्ट के अनुसार, चिड़ियाघर प्रशासन ने चिड़ियाघर में जानवरों के रखरखाव की बढ़ती लागत और अन्य खर्चे को पूरा करने के लिए उनके जानवरों को बेचने का फैसला किया है। लाहौर का सफारी चिड़ियाघर, देश भर के अन्य चिड़ियाघरों के विपरीत, एक विशाल परिसर है। 142 एकड़ में फैले इस परिसर में कई जंगली जानवर हैं। हालांकि इसका गौरव इसकी 40 शेरों की नस्लों पर ही टिका है। इन्हें इसलिए बेचने का विचार किया गया है, क्योंकि न केवल उन्हें प्रबंधित करना मुश्किल है, बल्कि यह काफी महंगा भी है। इसलिए, चिड़ियाघर प्रशासन ने कहा कि वे नियमित रूप से कुछ शेरों को बेचते हैं और आय का उपयोग खर्च बढ़ाने के लिए ऐसा करते हैं। पिछले साल सफारी चिड़ियाघर में सीमित जगह बताते हुए 14 शेरों को बेच दिया गया था।

Times Now Navbharat
Times now
ET Now
ET Now Swadesh
Mirror Now
Live TV
अगली खबर