26 जनवरी के दिन कुल 21 तोपों की सलामी, जानें क्या है इसके पीछे का राज

26 जनवरी के दिन आप 21 तोपों को आवाज को सुनते हैं। क्या गोलों को दागने में 21 तोपें इस्तेमाल में लाई जाती हैं या उनकी संख्या कम होती है। इस राज से यहां पर पर्दा उठाएंगे।

Updated Jan 18, 2023 | 01:06 PM IST

republic day parade gun salute

गणतंत्र दिवस पर 21 तोपों की सलामी

26 जनवरी का दिन भारत के इतिहास में खास है। इस खास दिन राजपथ(अब कर्तव्य पथ) देश की आन बान शान की गवाह पूरी दुनिया बनती है। सशस्त्र सेनाओं का शौर्य और भारत की सांस्कृतिक झलक एक पथ पर एक दूसरे के पीछे कतार में देश की कामयाबी के सफर की कहानी कहती है। इस खास दिन 21 तोपों से सलामी दी जाती है। अब सवाल यह है कि क्या सलामी देने में 21 तोपों का इस्तेमाल किया जाता है या बात कुछ और है। यहां पर हम 21 तोपों की सलामी के पीछे के राज को बताएंगे।

सात तोप से दागे जाते हैं 21 गोले

दरअसल गणतंत्र दिवस परेड पर 21 तोपों की जगह आठ तोपों का इस्तेमाल किया जाता है। उन आठ तोपों में भी सात तोप का इस्तेमाल होता है, शेष एक तोप को इमरजेंसी के लिए रखा जाता है। हर एक तोप से तीन गोले दागे जाते हैं। इस तरह से कुल सात तोपों से 21 गोले दागे जाते हैं। हर एक गोले को दागने में करीब 2.25 सेकेंड लगता है। जैसा कि हम जानते हैं कि राष्ट्रगान को पूरा करने में कुल 52 सेकेंड लगते हैं। लिहाजा उसी हिसाब से गोलों को दागने की समय सीमा भी है। ताकि राष्ट्रगान के शुरू होने से लेकर समाप्त होने तक कुल 52 सेकेंड में सभी 21 गोलों को दागा जा सके।

गोले असली होते हैं नकली

अब 21 तोपों की सलामी से राज उठने के बाद उत्सुकता होगी कि जो गोले दागे जाते हैं वो असली या नकली होते हैं। इस सवाल का जवाब यह है गणतंत्र दिवस के दिन दागे जाने वाले गोलों को सेरोमिनियल कॉर्टेज का नाम दिया गया है। ये गोले अंदर से खाली होते हैं। जब इन्हें दागा जाता है कि इसमें से सिर्फ धुआं निकलने के साथ आवाज आती है।

तोपों से सलामी का इतिहास

26 जनवरी 1950 से इस परंपरा का आगाज हुआ। राष्ट्रगान के साथ ही 21 तोपों की सलामी दी गई। गोलों को दागने के समय खास घड़ी का इस्तेमाल हुआ था ताकि 52 सेकेंड की समय सीमा में ही पूरी प्रक्रिया को संपन्न किया जा सके। अंग्रेजो के समय में भी सलामी देने की परंपरा थी। हालांकि यह सम्मान ब्रिटिश क्राउन को था जिसे शाही सलामी का नाम दिया गया था। बाद में ब्रिटिश क्राउन के अलावा महारानी और शाही परिवार के सदस्यों को भी 31 तोपों की सलामी दी जाने लगी। यह परंपरा बाद के समय में वायसरॉय के लिए इस्तेमाल में लाई जाने लगी। इस परंपरा में बदलाव करते हुए ब्रिटिश सरकार ने फैसला किया कि अंतरराष्ट्रीय मानकों के तहत 21 तोपों से सलामी दी जानी चाहिए।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | देश (india News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

Turkey: तुर्की-सीरिया के लिए भारत ने खोले मदद के दरवाजे, जयशंकर बोले- हम 'वसुधैव कुटुंबकम' वाले लोग हैं

Turkey -          -

Chocolate Day 2023 Date, Wishes Images: क्यों मनाया जाता है चॉकलेट डे, मोहब्बत भरे विशेज, कोट्स और शायरी भेज अपनी दिलरुबा को गिफ्ट करें चॉकलेट

Chocolate Day 2023 Date Wishes Images

Jaya Kishori के टॉप 5 भजन, जिन्होंने तोड़ दिए सारे रिकॉर्ड, करोड़ों में मिले व्यूज

Jaya Kishori   5

IND vs AUS: नागपुर टेस्ट से पहले प्लेइंग-11 के जाल में उलझे रोहित शर्मा, बताया किसका और क्यों होगा चयन

IND vs AUS     -11

UP: लंगूरों के कटआउट और फोटो से लेकर सेंसर मशीन तक, बंदरों को डराने-भगाने में काम आ रहा यह तरीका

UP             -

Kiara Advani Sidharth Malhotra का वेडिंग कार्ड हुआ लीक, एक्ट्रेस के लहंगे से है खास कनेक्शन

Kiara Advani Sidharth Malhotra

Kumbh sankranti 2023 : कब है कुंभ संक्राति, जानिए क्या है इस दिन का महत्व

Kumbh sankranti 2023

'लव जिहाद के चक्कर में फंसती हैं...', राखी सावंत के एक्स हसबैंड रितेश का बड़ा बयान

आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited