Media Watchdog ने पाकिस्तान में टीवी चैनलों को सेना, न्यायपालिका के खिलाफ सामग्री प्रसारित ना करने की दी चेतावनी

आईएसपीआर (ISPR) ने कहा, "ये प्रयास कुछ राजनीतिक नेताओं, कुछ पत्रकारों और विश्लेषकों द्वारा सार्वजनिक मंचों और सोशल मीडिया सहित विभिन्न संचार प्लेटफार्मों पर सशस्त्र बलों के साथ-साथ उनके वरिष्ठ नेतृत्व के प्रत्यक्ष, स्पष्ट या सूक्ष्म संदर्भों के माध्यम से प्रकट होते हैं।"

Pakistan media
मीडिया प्रतीकात्मक फोटो (फोटो साभार-istock) 

नई दिल्ली: पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (PEMRA) ने सोमवार को टीवी चैनलों को देश के सशस्त्र बलों और न्यायपालिका के खिलाफ सामग्री प्रसारित करने के खिलाफ चेतावनी दी। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, मीडिया वॉचडॉग ने कहा कि निजी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा किसी भी उल्लंघन के मामले में संबंधित कानूनों के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

नियामक प्राधिकरण ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए अपने निर्देशों में कहा, "यह देखा गया है कि कुछ सैटेलाइट टीवी चैनल ऐसी सामग्री प्रसारित कर रहे हैं जो राज्य संस्थानों यानी सशस्त्र बलों और न्यायपालिका के खिलाफ आरोप लगाने के समान है।"

"ऐसी सामग्री को प्रसारित करने से पीईएमआरए नियमों (PEMRA rules), पीईएमआरए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (कार्यक्रम और विज्ञापन) आचार संहिता 2015 के प्रावधानों और उच्च न्यायालयों द्वारा निर्धारित सिद्धांतों का उल्लंघन होता है।"यह पाकिस्तान की सेना द्वारा रविवार को राजनेताओं और पत्रकारों को देश में चल रहे political discourse में सशस्त्र बलों को खींचने के खिलाफ चेतावनी देने के बाद आया है।

"निराधार, मानहानिकारक और भड़काऊ बयान" बेहद हानिकारक थे"

एक बयान में, पाकिस्तानी सेना के मीडिया विंग ने कहा कि "निराधार, मानहानिकारक और भड़काऊ बयान" बेहद हानिकारक थे। इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) ने एक बयान में कहा, "हाल ही में देश में चल रहे राजनीतिक विमर्श में पाकिस्तान सशस्त्र बलों और उनके नेतृत्व को खींचने के लिए तीव्र और जानबूझकर प्रयास किए गए हैं।"

"पाकिस्तानी सेना की भूमिका सवालों के घेरे में आ गई थी"

पिछले महीने इमरान खान को हटाए जाने के बाद पाकिस्तानी सेना की भूमिका सवालों के घेरे में आ गई थी। डॉन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पाकिस्तान सशस्त्र बलों और उसके नेतृत्व के खिलाफ रुझान में तीव्र गतिविधियां (intense activity) देखी गई।


 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर