PM Awas Yojana: मोदी सरकार ने पूरा किया करोड़ों लोगों का सपना, अब इनके पास है खुद का घर

Utility News
डिंपल अलावाधी
Updated May 13, 2022 | 17:46 IST

PM Awas Yojana: प्रधानमंत्री आवास योजना को आवास एवं शहरी मामलों का मंत्रालय लागू करता है। केंद्र सरकार का मकसद है कि 2022 तक सभी को आवास मुहैया कराया जाए।

PM Awas Yojana: PM Awas Yojana Beneficiary List
प्रधानमंत्री आवास योजना से करोड़ों लोगों को हुआ फायदा  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • केंद्र सरकार की सबसे सफल योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री आवास योजना है।
  • 24 मार्च तक कुल 2.32 करोड़ लोगों के पक्के मकान बने हैं।
  • कोरोना काल में भी योजना के तहत काम की गति मंद नहीं हुई।

PM Awas Yojana: वैसे तो जनता की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार कई सरकारी योजनाएं (Government Scheme) चला रही है, लेकिन इनमें से एक योजना ऐसी भी है जिससे लोगों का अपना घर खरीदने का सपना साकार हो रहा है। हम बात कर रहे हैं प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana) की।

दो करोड़ से ज्यादा लोगों के बने मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को घर मुहैया कराना है। इस सरकारी योजना के माध्यम से 24 मार्च तक दो करोड़ से भी ज्यादा लोगों को पक्का मकान मिल चुका है। इन घरों में शौचालय की भी व्यवस्था है। इतना ही नहीं, इनमें बिजली का कनेक्शन भी है। उजाला योजना के तहत एलईडी बल्ब ही नहीं, बल्कि उज्जवला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) के तहत गैस कनेक्शन भी। इन सब सुविधाओं के अलावा हर घर जल योजना के तहत पानी का कनेक्शन भी उपलब्ध है।

हर घर जल योजना 5.5 करोड़ घरों तक पहुंची, PM आवास-उज्जवला जैसी करेगी कमाल !

महिलाओं के सशक्तिकरण पर ज्यादा ध्यान
प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी में महिलाओं के सशक्तिकरण पर बहुत ध्यान दिया जा रहा है। घर महिलाओं के नाम होने का भी प्रावधान है। इस सरकारी योजना के माध्यम से आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को, निम्न आयवर्ग और मध्यम आयवर्ग के लोगों की घर की दिक्कत दूर की जाती है ।

कब लॉन्च हुई थी योजना?
प्रधान मंत्री आवास योजना - शहरी (PMAY-U) को 25 जून 2015 को शुरू किया गया था। उल्लेखनीय है कि मंत्रालय ने किफायती किराए के आवासीय परिसर (ARHC) की भी शुरूआत की है , जो प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी की एक सब-स्कीम है। यह औद्योगिक क्षेत्र के साथ- साथ अनौपचारिक अर्बन इकोनॉमी में शहरी प्रवासियों या गरीबों को उनके कार्यस्थल के पास आसानी से किफायती किराए के घर प्रदान करती है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर