प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में भूमि पूजन कर बना डाले एक साथ 3 रिकॉर्ड

PM Modi made 3 records in Ayodhya: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में 28 साल बाद पहुंचे हैं और ऐसा करके उन्होंने एक साथ तीन रिकॉर्ड बना दिए हैं, पीएम मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो अयोध्या पहुंचे हैं।

PM Modi is the first Prime Minister to visit Ramjanmabhoomi today made 3 records by performing bhoomi pujan for ram mandir in ayodhya
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में 28 साल बाद पहुंचे हैं 

PM Modi in Ram Mandir Bhoomi Pujan Ayodhya: अयोध्या में आज भगवान राम के दिव्य और भव्य मंदिर की आधारशिला रखी गई जिसे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद भूमि पूजन कर मंदिर के निर्माण कार्य की शुरुआत की, गौरतलब है पीएम मोदी श्रीराम जन्मभूमि जाने वाले प्रथम प्रधानमंत्री बने हैं ऐसा करके उन्होंने रिकॉर्ड बनाया है यही नहीं उन्होंने दो और भी रिकॉर्ड बनाए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में 28 साल बाद पहुंचे हैं इसके साथ ही उन्होंने तीन रिकॉर्ड बना दिए हैं वह श्रीराम जन्मभूमि जाने वाले प्रथम प्रधानमंत्री बने हैं। यह देश में पहला मौका है, जब प्रधानमंत्री ने अयोध्या की हनुमानगढ़ी का दर्शन किया है इसके अलावा साथ देश की सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण के प्रतीक किसी मंदिर के शुभारंभ कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले पहले प्रधानमंत्री के तौर पर भी नरेंद्र मोदी का नाम दर्ज हो गया है।,भूमि पूजन आयोजन से जुड़े सूत्रों ने ये जानकारी दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इससे पूर्व 28 साल पहले 1992 में पहली बार अयोध्या पहुंचे थे। तब वह बीजेपी के तत्कालीन अध्यक्ष डॉ. मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में निकली तिरंगा यात्रा में उनके सहयोगी के तौर पर अयोध्या पहुंचे थे।यह यात्रा कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की मांग को लेकर निकली थी। बताया जाता है कि जनवरी 1992 में कन्याकुमारी से शुरू हुई यह यात्रा 18 जनवरी 1992 को अयोध्या पहुंची थी। तब मुरली मनोहर जोशी के साथ नरेंद्र मोदी ने फैजाबाद (अयोध्या) के जीआइसी मैदान में सभा को संबोधित किया था। इस दौरान डॉ. जोशी और नरेंद्र मोदी ने रामलला के दर्शन भी किए थे।

"राम हमारे मन में गढ़े हुए हैं, हमारे भीतर घुल-मिल गए हैं"

मंदिर के लिए भूमिपूजन करने के बाद पीएम ने वहां उपस्थित लोगों को संबोधित किया, इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने भगवान राम की महिमा और भारत के लिए उनके महत्व को रेखांकित किया। पीएम मोदी ने कहा कि राम हमारे मन में गढ़े हुए हैं, हमारे भीतर घुल-मिल गए हैं। कोई काम करना हो, तो प्रेरणा के लिए हम भगवान राम की ओर ही देखते हैं। आप भगवान राम की अद्भुत शक्ति देखिए। इमारतें नष्ट कर दी गईं, अस्तित्व मिटाने का प्रयास भी बहुत हुआ, लेकिन राम आज भी हमारे मन में बसे हैं, हमारी संस्कृति का आधार हैं। श्रीराम भारत की मर्यादा हैं, श्रीराम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं।

"श्रीराम का मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा"

इसी आलोक में अयोध्या में राम जन्मभूमि पर, श्री राम के इस भव्य-दिव्य मंदिर के लिए भूमिपूजन हुआ है। पीएम मोदी ने कहाकि यहां आने से पहले, मैंने हनुमानगढ़ी का दर्शन किया। राम के सब काम हनुमान ही तो करते हैं। राम के आदर्शों की कलियुग में रक्षा करने की जिम्मेदारी भी हनुमान जी की ही है। हनुमान जी के आशीर्वाद से श्री राममंदिर भूमिपूजन का ये आयोजन शुरू हुआ है। श्रीराम का मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा, हमारी शाश्वत आस्था का प्रतीक बनेगा, हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा, और ये मंदिर करोड़ों-करोड़ लोगों की सामूहिक संकल्प शक्ति का भी प्रतीक बनेगा।

ये मंदिर आने वाली पीढ़ियों को आस्था, श्रद्धा, और संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा। इस मंदिर के बनने के बाद अयोध्या की सिर्फ भव्यता ही नहीं बढ़ेगी, इस क्षेत्र का पूरा अर्थतंत्र भी बदल जाएगा। यहां हर क्षेत्र में नए अवसर बनेंगे, हर क्षेत्र में अवसर बढ़ेंगे। सोचिए, पूरी दुनिया से लोग यहां आएंगे, पूरी दुनिया प्रभु राम और माता जानकी का दर्शन करने आएगी। कितना कुछ बदल जाएगा यहां।

राममंदिर के निर्माण की ये प्रक्रिया, राष्ट्र को जोडऩे का उपक्रम है। ये महोत्सव है- विश्वास को विद्यमान से जोड़ने का। नर को नारायण से, जोड़ने का। लोक को आस्था से जोड़ने का। वर्तमान को अतीत से जोड़ने का। और स्वं को संस्कार से जोडऩे का। आज के ये ऐतिहासिक पल युगों-युगों तक, दिग-दिगन्त तक भारत की कीर्ति पताका फहराते रहेंगे। आज का ये दिन करोड़ों रामभक्तों के संकल्प की सत्यता का प्रमाण है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर