Meerut Monkey: मेरठ में बंदर कोरोना टेस्ट का सैंपल लेकर भागा, लोगों में संक्रमण फैलने का डर

Meerut News in Hindi: मेरठ मेडिकल कॉलेज परिसर में बंदर लैब टेक्निशियन के हाथों से मरीजों के कोरोना टेस्ट के सैंपल लेकर भाग गया जिसके बाद लोगों में हंगामा मच गया।

Monkeys run away with corona test samples in Meerut
मेरठ में कोरोना सैंपल टेस्ट लेकर भागा बंदर,लोगों में मचा हड़कंप 

मुख्य बातें

  • मेरठ में बंदर लैब टेक्निशियन के हाथों से मरीजों के कोरोना टेस्ट के सैंपल लेकर भाग गया
  • मेरठ मेडिकल कॉलेज परिसर में ये मामला सामने आया जिसके बाद हंगामा मच गया
  • बंदरों को लगा होगा कि ये खाने का कुछ सामान है इसलिए वो सैंपल छीनकर ले गए

नई दिल्ली: कोरोना संकट से देश जूझ रहा है वहीं इससे निपटने में सरकारी मशीनरी के साथ आम लोग भी लगे हैं। कोविड-19 को मात देने के लिए देश के स्वास्थ्य कर्मी दिन रात एक किए हुए हैं वहीं उन्हें कई दुश्वारियों का भी सामना करना पड़ रहा है, यूपी के मेरठ में तो अनूठा ही मामला सामने आया है।

मेरठ मेडिकल कॉलेज परिसर में बंदर लैब टेक्निशियन के हाथों से मरीजों के कोरोना टेस्ट के सैंपल लेकर भाग गया, वो तीन रोगियों से संबंधित परीक्षण नमूने लेकर भाग गया, बाद में बंदर को सैंपल टेस्ट किट चबाते हुए एक पेड़ के नीचे पाया गया।

बाद में दोबारा मरीजों के सैंपल लिए गए और इस बात की चर्चा होती रही है कि बंदर का क्या होगा क्योंकि उसने सैंपल को चबा लिया था, इस घटना का वीडियो वायरल हो गया है।


बताते हैं कि मेरठ मेडिकल कॉलेज में कोरोना टेस्ट के सैंपल लिए गए थे जिसे लेकर लैब टेक्नीशियन जा रहा था कि एक पेड़ के नीचे ये वाकया सामने आया, बंदरों को लगा होगा कि ये खाने का कुछ सामान है तो वो सैंपल छीनकर ले गए।

बंदर को ट्रेस किया गया तो वो सैंपल किट को चबा रहा था

लैब टेक्नीशियन ने अस्पताल के आला अधिकारियों को जब ये जानकारी दी तो वहां हड़कंप मच गया और उस बंदर की खोज की जाने लगी तो थोड़ी मशक्कत के बाद उसे ट्रेस किया गया तो वो सैंपल किट को चबा रहा था।बताते हैं कि हालांकि उन सैंपल के संपर्क में कोई व्यक्ति नहीं आया है लेकिन लोगो ये चर्चा कर रहे हैं कि कहीं ये बंदर तो संक्रमित नहीं हो गया होगा, लेकिन इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि क्या ऐसा भी होता है।

मेरठ में बंदरों का आतंक आम बात है, पहले भी कई किस्से हुए हैं

इस मामले में अस्पताल प्रशासन का कहना है कि मेडिकल कॉलेज में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जब या तो किसी मरीज का कोई सामान छीन लिया गया या किसी स्टाफ को बंदरों ने परेशान किया कई बार इसकी शिकायत भी की गई मगर कुछ खास नहीं हुआ।कई बार बंदरों के आतंक से निजात दिलाने के लिए लिखा गया, बंदरों से निपटने के लिए लंगूर की तैनाती की भी बात हुई लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ जिसका खामियाजा मरीज और अस्पताल स्टॉफ भुगत रहा है।
 

अगली खबर