भारत में TikTok और वीचैट बैन, Amul ने किया ये क्रिएटीव ट्वीट, लोगों ने दिए मजेदार रिएक्शंस

Amul on Tik-Tok: भारत सरकार ने टिक-टॉक समेत 59 चाइनीज ऐप्स को देश में बैन कर दिया है। इस पर सोशल मीडिया पर खूब प्रतिक्रिया आईं। अमूल ने भी इस पर रचनात्मक और व्यंग्यात्मक तरीके से विज्ञापन दिया है।

amul
50 चाइनीज ऐप भारत में बैन 

मुख्य बातें

  • भारत ने चीनी के 59 ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है
  • पूर्वी लद्दाख में LAC पर भारत और चीन के बीच सीमा विवाद जारी है

नई दिल्ली: दुग्ध उत्पादों के लिए जाने जानी वाली कंपनी अमूल सिर्फ अपने उत्पादों के लिए ही नहीं जानी जाती है। वो समय-समय पर देश-दुनिया के ताजा मसलों पर क्रिएटीव तरीके से अपनी बात रखती है। भारत सरकार ने हाल ही में टिक-टॉक, वी चैट समेत 59 चाइनीज ऐप्स को बैन किया है। इसी को लेकर अमूल ने अपना ताजा विज्ञापन दिया है। अमूल ने अपने विज्ञापन में टिक-टॉक का जिक्र किया है। 

अमूल ने लिखा, 'STik with this STok'. इसमें TikTok को हाइलाइट किया गया है। इसके अलावा इसमें लिखा है, 'WeChat over tea!'. इसमें वीचैट को हाइलाइट किया गया है, जो कि प्रतिबंध किए गए ऐप्स की सूची में शामिल है। 

इस तस्वीर के साथ अमूल ने लिखा है, सामयिक: नई दिल्ली ने 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया!

इस पर लोगों के भी खूब रिएक्शन आ रहे हैं। एक यूजर ने लिखा, 'अमूल हमेशा भारत के लिए खड़ा होता है।' एक ने इसे बहुत ही रचनात्मक और व्यंग्यात्मक बताया। वहीं एक यूजर ने लिखा, 'अमूल को ''मीम ऑफ फादर" घोषित किया जाएगा।' 

भारत और चीन के बीच 5 मई से पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सीमा विवाद जारी है। इस विवाद के बीच अमूल ने एक और क्रिएटीव विज्ञापन दिया था। इसमें लिखा था, 'Exit the Dragon?' साथ ही इसमें लिखा था 'Made in India'. इस विज्ञापन के बाद अमूल के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट को बैन कर दिया गया था। हालांकि कुछ समय बाद अकाउंट को पुनर्स्थापित कर दिया गया। 

ये ऐप राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए हानिकारक

भारत ने 29 जून को 59 चीनी मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसमें लोकप्रिय टिकटॉक और यूसी ब्राउजर जैसे एप भी शामिल हैं। सरकार ने कहा कि ये एप देश की संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं। प्रतिबंधित सूची में वीचैट, बीगो लाइव, हैलो, लाइकी, कैम स्कैनर, वीगो वीडियो, एमआई वीडियो कॉल- शाओमी, एमआई कम्युनिटी, क्लैश ऑफ किंग्स के साथ ही ई-कॉमर्स प्लेटफार्म क्लब फैक्टरी और शीइन शामिल हैं। कहा गया है कि ये ऐप उपयोगकर्ताओं के डेटा को चुराकर, उन्हें गुपचुक तरीके से भारत के बाहर स्थित सर्वर को भेजते हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर