'ग्रुप 23' का हिस्सा बनना राज बब्बर, जितिन प्रसाद को पड़ा भारी, कांग्रेस चुनाव समितियों से बाहर हुए दोनों नेता

Raj Babbar, Jitin Prasada: यूपी में विधानसभा चुनाव 2022 में होने हैं। कांग्रेस ने अपनी चुनाव समितियों में अपने नेताओं राज बब्बर और जितिन प्रसाद को शामिल नहीं किया है। ये दोनों नेता 'ग्रुप 23' का हिस्सा हैं।

Raj Babbar, Jitin Prasada left out of 7 UP poll panels formed by Congress
कांग्रेस चुनाव समितियों से राज बब्बर और जितिन प्रसाद बाहर।  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • यूपी विस चुनाव के लिए कांग्रेस ने बनाई हैं सात चुनाव समितियां
  • समिति में राज बब्बर और जितिन प्रसाद को नहीं मिली जगह
  • 'ग्रुप 23' का हिस्सा हैं दोनों नेता, पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग की है

लखनऊ : पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग करना राज बब्बर और जितिन प्रसाद पर भारी पड़ गया है। कांग्रेस ने अपने इन दोनों नेताओं को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर गठित समितियों में शामिल नहीं किया है। समझा जाता है कि पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग करने वाले पत्र पर हस्ताक्षर करने के चलते इन दोनों नेताओं पर कार्रवाई की गई है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव साल 2022 में होने हैं और इसके लिए कांग्रेस सूबे में नए सिरे से खड़ा होना चाहती है। इन सात समितियों का गठन इसी दिशा में उठाया गया उसका एक कदम है। कांग्रेस ने रविवार को इन सात चुनाव समितियों की घोषणा की।

कांग्रेस के 23 नेताओं ने की है पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग
कांग्रेस के सांसदों, पूर्व केंद्रीय मंत्रियों सहित 23 नेताओं ने पार्टी नेतृत्व में बदलाव एवं पूर्णकालिक अध्यक्ष की मांग करते हुए एक पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं। इनमें राज बब्बर एवं जितिन प्रसाद के भी नाम है। पिछले दिनों कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की हुई बैठक में इस पत्र पर राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और अहमद पटेल ने नाराजगी जाहिर की।  (सीडब्ल्यूसी) में यह निर्णय हुआ है कि सोनिया गांधी फिलहाल पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष बनी रहेंगी।

आरपीएन सिंह को भी जगह नहीं
यही नहीं कांग्रेस की इन चुनाव समितियों में गांधी परिवार के करीबी एवं पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह को भी जगह नहीं मिली है। मीडिया रिपोर्टों में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सिंह ने कुछ दिनों पहले पार्टी की हुई बैठक में लद्दाख में चीन के अतिक्रमण पर पार्टी लाइन से हटकर बयान दिया। समझा जाता है कि सिंह को अपने इस बयान की कीमत चुकानी पड़ी है। बताया जा रहा है कि इन चुनाव समितियों में प्रियंका गांधी के करीबी नेताओं को महत्वपूर्ण पद दिए गए हैं। 

यूपी में कांग्रेस अध्यक्ष रहे हैं राज बब्बर
इन सात चुनाव समितियों में पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रसाद एवं राज बब्बर को शामिल न करते हुए कांग्रेस ने यह जाहिर कर दिया है कि पार्टी नेतृत्व से असहमति जताने वाले नेताओं को वह अपने चुनावी रणनीति में शामिल नहीं करेगी। राज बब्बर उत्तर प्रदेश कांग्रेस समिति के लंबे समय तक अध्यक्ष रहे हैं। इसके पहले कांग्रेस ने संसद में पार्टी की रणनीति बनाने वाली अपनी समिति में शशि थरूर और मनीष तिवारी को शामिल नहीं किया है। ये दोनों नेता भी 'ग्रुप 23' का हिस्सा हैं। कांग्रेस ने रविवार को चुनाव घोषणापत्र समिति बनाई। इस समिति में शामिल होने वाले नेताओं में सलमान खुर्शीद, पीएल पुनिया एवं आराधना मिश्रा मोना जैसे नेता शामिल हैं। 

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर