कुलदीप सेंगर की पत्नी को पंचायत चुनाव के लिए BJP की तरफ से टिकट, समाजवादी पार्टी बौखलाई

अब अगर पति अपराधी है तो क्या उसकी पत्नी को चुनाव लड़ने का अधिकार छिन जाता है। कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी पर बीजेपी ने यूपी पंचायत चुनाव पर भरोसा जताया है। लेकिन समाजवादी पार्टी नैतिकता की दुहाई दे रही है।

कुलदीप सेंगर की पत्नी को पंचायत चुनाव के लिए BJP की तरफ से टिकट, समाजवादी पार्टी बौखलाई
कुलदीप सेंगर की पत्नी को पंचायत चुनाव के लिए बीजेपी का टिकट 

मुख्य बातें

  • कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी को पंचायत चुनाव के लिए बीजेपी ने दिया टिकट
  • बीजेपी के इस फैसले पर समाजवादी पार्टी बोली, यही है चाल, चरित्र और चेहरा
  • बीजेपी की सफाई अगर पति दोषी तो क्या पत्नी भी दोषी है।

लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव तो 2022 में होने हैं। लेकिन चार चरणों में होने वाले चुनाव को सभी दल खुद के लिए अग्निपरीक्षा मान रहे हैं। चार चरणों में होने जा रहे चुनाव में पार्टियां अपना दमखम दिखाने में जुट गईं हैं तो दूसरी तरफ उम्मीदवारों के नाम का ऐलान भी हो रहा है। बीजेपी ने उन्नाव की फतेहपुर चैरासी तृतीय से जब संगीता सेंगर को उतारा को समाजवादी पार्टी बौखला गई। आखिर ऐसा क्या हुआ। दरअसल संगीता सेंगर उस कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी हैं जो रेप केस में सजा काट रहे हैं और उनकी विधानसभा का सदस्यता समाप्त हो चुकी है। 

फतेहपुर चैरासी ने संगीता सेंगर को टिकट
सजायाफ्ता पूर्व भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर को फतेहपुर चैरासी तृतीय से भाजपा ने जिला पंचायत की टिकट दी है। 2016 के पंचायत चुनावों में संगीता मियागंज तृतीय सीट से निर्वाचित हुई थीं। लेकिन इस बार सीट आरक्षित होने कारण उन्हें दूसरी जगह से चुनाव लड़ना पड़ रहा है। 2016 के चुनाव में खींचतान के बीच लॉटरी सिस्टम से संगीत विजयी हुईं थीं।

यही है बीजेपी का चाल, चरित्र और चेहरा
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डा. आषुतोष वर्मा ने कहा, "भाजपा पिछले रास्ते से अपराधियों को बढ़ावा देना चाहती है। सेंगर की पत्नी पहले भी जिला पंचायत अध्यक्ष रहीं है। उन पर एक्शन लेने के बजाय उन्हें टिकट देकर प्रोत्साहित किया गया है। भाजपा महिलाओं का सम्मान नहीं करती है। बल्कि वह जातिवादी को बढ़ावा दे रही है। कुलदीप सेंगर का इतिहास देखें तो पता चलेगा कि भाजपा की कथनी और करनी में अंतर है। यह पूरी तरह से मैनेंजमेंट की सरकार है।

बांगरमऊ से विधायक रहे हैं कुलदीप सिंह सेंगर
कुलदीप सिंह सेंगर उन्नाव की बांगरमऊ से भाजपा के टिकट पर विधायक रह चुके हैं। साल 2017 में उन्नाव के चर्चित दुष्कर्म कांड में कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद उन्हें अगस्त 2019 में भाजपा ने पार्टी से बाहर कर दिया था और फिर बाद में उनकी विधान सभा की सदस्यता भी समाप्त कर दी गई थी। पिछले साल कोर्ट ने कुलदीप सिंह सेंगर को दुष्कर्म और अपहरण के मामले में दोषी करार देते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई थी।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर