अनुच्छेद 370 को लेकर फारूक अब्दुल्ला का विवादित बयान, BJP ने कहा- वो चीन में हीरो बन गए हैं

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370 पर ऐसा बयान दिया है, जिसे लेकर बीजेपी हमलावर हो गई है। संबित पात्रा ने उनके बयान को देश विरोधी बताया है।

Farooq Abdullah
जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला 

मुख्य बातें

  • चीन की मदद से जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 की बहाली होगी: फारूक अब्दुल्ला
  • इस बयान के बाद बीजेपी अब्दुल्ला पर हुई हमलावार
  • संबित पात्रा ने फारूक अब्दुल्ला और राहुल गांधी को एक जैसा बताया

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दल और राजनेता  अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ लगातार बयान देते रहे हैं। लेकिन अब जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कुछ ऐसा कहा जिस पर काफी विवाद हो सकता है। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि चीन के समर्थन से जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को बहाल किया जाएगा। इस पर बीजेपी ने कड़ी आपत्ति जताई है।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि एक तरह से फारूक अब्दुल्ला अपने इंटरव्यू में चीन की विस्तारवादी मानसिकता को न्यायोचित ठहराते हैं। वहीं दूसरी और एक देशद्रोही कमेंट करते हैं कि भविष्य में हमें अगर मौका मिला तो हम चीन के साथ मिलकर अनुच्छेद 370 वापस लाएंगे। सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाकर राहुल गांधी पाकिस्तान में हीरो बनें थे। आज फारूक अब्दुल्ला चीन में हीरो बने हैं।

पात्रा ने कहा, '24 सितंबर को फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि आप अगर जम्मू-कश्मीर में जाकर लोगों से पूछेंगे कि क्या वह भारतीय हैं, तो लोग कहेंगे कि नहीं हम भारतीय नहीं है। उसी स्टेटमेंट में ही उन्होंने ये भी कहा था कि अच्छा होगा अगर हम चीन के साथ मिल जाएं। देश की संप्रभुता पर प्रश्न उठाना, देश की स्वतंत्रता पर प्रश्न चिन्ह लगाना क्या एक सांसद को शोभा देता है? क्या ये देश विरोधी बातें नहीं हैं? इन्हीं फारूक अब्दुल्ला ने भारत के लिए कहा था कि PoK क्या तुम्हारे बाप का है, जो तुम PoK ले लोगे, क्या पाकिस्तान ने चूड़ियां पहनी हैं। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और चीन को लेकर जिस प्रकार की नरमी और भारत को लेकर जिस प्रकार की बेशर्मी इनके मन में है, ये बातें अपने आप में बहुत सारे प्रश्न खड़े करती हैं। केवल फारूक अब्दुल्ला ऐसा कहते हैं ऐसा नहीं है, अगर आप इतिहास में जाएंगे और राहुल गांधी जी के हाल फिलहाल के बयानों को सुनेंगे तो आप पाएंगे कि ये एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

फारूक अब्दुल्ला ने कहा था, 'वे (चीन) लद्दाख में एलएसी पर जो कुछ भी कर रहे हैं, उसके पीछे अनुच्छेद 370 को निरस्त करना है। उन्होंने इस फैसले को कभी स्वीकार नहीं किया। मुझे उम्मीद है कि उनके समर्थन से जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को बहाल किया जाएगा।'
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर