पंचायत चुनाव ड्यूटी करने की इतनी बड़ी कीमत! संक्रमित महिला शिक्षक ने शादी से 7 दिन पहले गंवाई जान

देश
आईएएनएस
Updated May 02, 2021 | 12:15 IST

Corona Covid-19 Hindi News: पंचायत चुनाव में ड्यूटी करते हुए महिला शिक्षक को वायरस का संक्रमण हो गया था, शादी से 7 दिन पहले युवा शिक्षिका ने दम तोड़ दिया।

Women teacher died of Corona before wedding
शादी से पहले कोरोना संक्रमित महिला शिक्षक की मौत 

मुख्य बातें

  • पंचायत चुनाव में ड्यूटी करते हुए संक्रमण का शिकार हुए कई शिक्षक।
  • बादशाहपुर की रहने वाली स्वाति गुप्ता बुलंदशहर में थीं तैनात।
  • शादी से 7 दिन पहले संक्रमण के चलते हो गई मौत।

जौनपुर: जौनपुर जिले के एक युवा स्कूल शिक्षक की शादी के सात दिन पहले कोविड -19 की मौत हो गई। मृतक महिला शिक्षक स्वाति गुप्ता को पंचायत चुनावों के लिए चुनाव ड्यूटी पर रहते हुए कोरोना संक्रमण हुआ था। जौनपुर जिले के मुंगरा बादशाहपुर की रहने वाली स्वाति गुप्ता बुलंदशहर में तैनात थीं। उसकी शादी 30 अप्रैल को तय हुई थी।

वह बुलंदशहर में पंचायत चुनावों के लिए प्रशिक्षण ले रही थी और उसी दौरान कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गई।पता चला है कि स्वाति गुप्ता ने जिला निर्वाचन अधिकारी को एक आवेदन भी भेजा था, जिसमें चुनाव ड्यूटी से छूट देने का अनुरोध किया गया था।

15 अप्रैल को मतदान से एक दिन पहले उनकी तबीयत बिगड़ गई और इलाज के लिए मेरठ के एक अस्पताल ले जाया गया। उसकी देखभाल के लिए मां और भाई भी मेरठ पहुंचे। हालांकि, उसकी हालत खराब हो गई और 23 अप्रैल को उसने अंतिम सांस ली।

इस हफ्ते की शुरूआत में, उत्तर प्रदेश में शिक्षक संघों ने राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) को पंचायत चुनाव ड्यूटी पर रहते हुए 577 मृत शिक्षकों और सहायक कर्मचारियों की सूची सौंपी थी।

यूपी शिक्षा महासंघ (यूपीएसएम) के अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा ने कहा कि उन्होंने 71 जिलों के 577 बेसिक शिक्षा शिक्षकों के नाम दिए हैं, जो उग्र कोविड -19 महामारी के बीच मारे गए।

सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को मतगणना प्रक्रिया पर रोक लगाने से इनकार कर दिया, लेकिन निर्देश दिया कि मंगलवार सुबह तक पूरे राज्य में कर्फ्यू रहेगा और किसी भी तरह की रैलियों की अनुमति नहीं होगी।

इसने राज्य चुनाव आयोग से राजपत्रित अधिकारियों पर मतगणना केंद्रों पर कोविड -19 प्रोटोकॉल के पालन की जिम्मेदारी तय करने को कहा।

इस बीच, यूपीएमएसएस (उत्तर प्रदेश मध्यम शिक्षा संघ) के प्रवक्ता आरपी मिश्रा ने कहा कि चुनाव अधिकारियों को सूचित किया गया है कि जिन परिस्थितियों में मतदान हुआ था और कोविड के मानदंडों का पालन नहीं करने के कारण कई पोल कर्मचारियों में संक्रमण फैल गया और मौतें भी हुईं।

संघ ने कहा कि चुनाव ड्यूटी के दौरान कोविड -19 से मारे गए शिक्षकों के परिजनों को 50-50 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाए।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर