रिचर्ड ब्रैनसन ने रचा इतिहास, अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाले पहले अरबपति बने, भारतीय मूल की शीरिषा भी रहीं साथ

Virgin Galactic: वर्जिन गैलैक्टिक के रिचर्ड ब्रैनसन अपने रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष पहुंचे। इसमें ब्रैनसन के साथ कंपनी के पांच कर्मचारी भी थे। भारतीय मूल की शीरिषा बांदला भी इसमें शामिल रहीं।

Virgin Galactic
वर्जिन गैलेक्टिक का अंतरिक्ष यान 

मुख्य बातें

  • शीरिषा बांदला अंतरिक्ष में जाने वाली भारतीय मूल की तीसरी महिला बन गई
  • उन्होंने रिचर्ड ब्रैनसन सहित वर्जिन गैलेक्टिक के पूर्ण चालक दल सदस्य के साथ उपकक्षीय परीक्षण उड़ान भरी

नई दिल्ली: अरबपति बिजनेसमैन और वर्जिन ग्रुप के संस्थापक रिचर्ड ब्रैनसन वर्जिन गैलेक्टिक के अंतरिक्ष यान में सवार होकर अंतरिक्ष पहुंचे। यूके के कारोबारी ब्रैनसन वर्जिन गैलेक्टिक के 'वीएसएस यूनिटी' के चालक दल के छह सदस्यों में शामिल रहे, जिसे न्यू मैक्सिको से 8 बजे (भारतीय समयानुसार) लॉन्च किया गया। अंतरिक्ष यान ने न्यू मैक्सिको के दक्षिणी रेगिस्तान से अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी। 
'यूनिटी 22' मिशन वीएसएस यूनिटी के लिए 22वां उड़ान परीक्षण और कंपनी का चौथा क्रू स्पेसफ्लाइट है। यह कंपनी के संस्थापक सहित केबिन में दो पायलटों और चार मिशन विशेषज्ञों के पूर्ण दल को ले जाने वाला पहला भी है। वर्जिन गैलेक्टिक के लिए अंतरिक्ष की यह चौथी यात्रा है। चौथी अंतरिक्ष उड़ान को पूरा करने के बाद अंतरिक्ष यान न्यू मैक्सिको में रनवे पर सुरक्षित उतरा।

अंतरिक्ष में अपनी यात्रा का वर्णन करते हुए रिचर्ड ब्रैनसन ने इसे 'जीवन भर का अनुभव' कहा। ये 1.5 घंटे की उड़ान रही। 17 साल की कठिन मेहनत के बाद हम इस ऊंचाई पर पहुंचे। अंतरिक्ष यान करीब 53 मील की ऊंचाई (88 किलोमीटर) पर अंतरिक्ष के छोर पर पहुंचा। सभी तीन से चार मिनट तक भारहीनता महसूस करने और धरती का नजारा देखने के बाद वापस लौट आए। अंतरिक्ष यान करीब 8 1/2 मील (13 किमी) की ऊंचाई पर पहुंचने के बाद अपने मूल विमान से अलग हो गया था।

दल में एरोनॉटिकल इंजीनियर, 34 साल की शीरिषा बांदला भी शामिल हैं। वो अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की तीसरी महिला हैं। आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में जन्मीं और टेक्सास के ह्यूस्टम में पली-बढ़ीं बांदला रिचर्ड ब्रेनसन तथा वर्जिन गैलेक्टिक के अंतरिक्षयान टू 'यूनिटी' में सवार होने वाले पांच अन्य सदस्यों के साथ न्यू मेक्सिको से अंतरिक्ष के सिरे तक का सफर करेंगी। उन्होंने ट्वीट किया, 'मैं यूनिटी 22 के अद्भुत क्रू का हिस्सा और एक ऐसी कंपनी का हिस्सा बनने के लिए अविश्वसनीय रूप से सम्मानित महसूस कर रही हूं जिसका मिशन अंतरिक्ष को सभी के लिए उपलब्ध कराना है।' 

ब्रैनसन का मकसद अंतरिक्ष पर्यटन को बढ़ावा देना है जिसके लिए पहले से 600 से ज्यादा लोग इंतजार कर रहे हैं। वर्जिन गैलैक्टिक ने पहली बार 2018 में अंतरिक्ष के लिए उड़ान शुरू की थी।

शीरिषा बांदला को जानें

उन्होंने वर्जिन गैलेक्टिक के ट्विटर अकाउंट पर 6 जुलाई को पोस्ट किए गए वीडियो में कहा, 'मैंने जब पहली बार सुना कि मुझे यह मौका मिल रहा है तो मैं नि:शब्द हो गई थी। यह अद्भुत अवसर है जब अंतरिक्ष में विभिन्न पृष्ठभूमि, स्थान और अलग-अलग समुदाय के लोग होंगे।' गैलेक्टिक की वेबसाइट पर एक बयान के मुताबिक परड्यू विश्वविद्यालय की छात्रा रहीं, बांदला, यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा से एक प्रयोग का इस्तेमाल कर मानव-प्रवृत्त अनुसंधान अनुभव का मूल्यांकन करेंगी जिसमें हाथ में पकड़े जाने वाले ट्यूबों को उड़ान के दौरान विभिन्न मौकों पर सक्रिय किया जाएगा। विश्वविद्यालय ने एक बयान में बताया कि बांदला ने जनवरी 2021 में वर्जिन गैलेक्टिक में सरकारी मामलों और अनुसंधान कार्यों के उपाध्यक्ष के रूप में अपनी पारी शुरू की थी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर