वैश्विक मंच पर मालदीव ने निभाई दोस्ती, भारत का साथ देकर पाकिस्तान की मंशा पर पानी फेरा 

Maldives supports India at OIC's virtual meet: माले स्थित भारतीय उच्चायोग ने भारत की बहुलवादी समाज की जीवंतता एवं धर्मनिरपेक्ष विश्वासों में भरोसा जताने के लिए मालदीव की प्रशंसा की है।

 Maldives halts Pakistan's attempt to single out India on Islamophobia at OIC's virtual meet
पाकिस्तान की कुटिल चाल ओआईसी में हुई असफल।  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • इस्लामिक देशों के संगठन (ओआईसी) की वर्चुअल मीटिंग में मालदीव ने भारत का खुलकर दिया साथ
  • इस्लामोफोबिया पर पाकिस्तान की कुटिल चालों को असफल किया, कहा-भारत है बहुलवादी समाज
  • मालदीव ने कहा कि वह किसी भी ऐसी कार्रवाई का समर्थन नहीं कर सकता जो भारत को निशाना बनाती हो

नई दिल्ली : इस्लामिक देशों के संगठन (OIC) में भारत को घेरने की पाकिस्तान की कुटिल चाल को मालदीव ने असफल कर दिया है। ओआईसी की वर्चुअल बैठक में पाकिस्तान कथित इस्लामोफिबिया पर भारत को घेरने की कोशिश में था लेकिन न्यूयॉर्क में मालदीय के स्थायी प्रतिनिधि थीलमीजा हुसैन ने उसके प्रयासों पर फानी फेर दिया। बैठक में मौजूद हुसैन ने कहा कि मालदीव ओआईसी की ऐसी किसी भी कार्रवाई का समर्थन नहीं कर सकता जो भारत को निशाना बनाती हो या उसे घेरने की कोशिश करती हो। 

मालदीव की पहल का भारत ने किया स्वागत
मालदीव की इस पहल का भारत ने स्वागत किया है। माले स्थित भारतीय उच्चायोग ने भारत की बहुलवादी समाज की जीवंतता एवं धर्मनिरपेक्ष विश्वासों में भरोसा जताने के लिए मालदीव की प्रशंसा की है। इस बैठक में मालदीव के प्रतिनिधि ने कहा कि हिंसा के किसी भी रूप चाहे वह इस्लामोफोबिया, जेनोफोबिया हो या और कोई, राजनीतिक एजेंडे को बढ़ाने के लिए हम हिंसा को बढ़ावा देने के खिलाफ हैं। 

'भारत में इस्लाम शताब्दियों से है'
प्रतिनिधि ने आगे कहा कि किसी विशेष देश को निशाना पर लेना वास्तविक मसले से दूर जाने जैसा है। उन्होंने कहा, 'मैं यह कहना चाहता हूं कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश, बहुलवादी समाज एवं 20 करोड़ से ज्यादा मुस्लिमों वाले वतन पर इस्लामोफोबिया का आरोप लगाना तथ्यात्मक रूप से गलत है।  भारत में इस्लाम शताब्दियों से है और हिंदुस्तान में यह दूसरा सबसे बड़ा धर्म है। भारत में मुस्लिमों की आबादी 14.2 प्रतिशत है। 

कथित इस्लामोफोबिया पर भारत को घेरना चाहता है पाक
मालदीव ने आगे कहा कि सोशल मीडिया पर गलत मंशा के साथ चलने वाले अभियानों एवं खास इरादे से प्रेरित लोगों के छिटपुट बयानों को 1.3 अरब लोगों की भावनाओं की नुमाइंदगी करने वाला नहीं माना जा सकता। दुनिया में इस्लामोफोबिया को लेकर भारत को बदनाम करने की नापाक कोशिश पाकिस्तान लंबे समय से करता आ रहा है। इस बारे में सुरक्षा एजेंसियां भी भारत सरकार को आगाह कर चुकी हैं कि पाकिस्तान कथित इस्लामोफोबिया के मुद्दे पर भारत को घेरना चाहता है।

अगली खबर