Burkina Faso Gunman Firing: बुर्किनाफासो में खून की बही नदी,100 लोगों को बंदूकधारी ने भून डाला

अफ्रीका महाद्वीप का बुर्किनाफासो आपसी लड़ाई झगड़ों का सामना कर रहा है। जिहादियों के कब्जे में देश बड़ा हिस्सा जबसे आया उसके बाद कत्लेआम आम बात हो चुकी है।

Burkina Faso Gunman Firing: बुर्किनाफासो में खून की बही नदी,100 लोगों को बंदूकधारी ने भून डाला
पांच साल बाद बुर्किनाफासो में बड़ी वारदात 

मुख्य बातें

  • बुर्किनाफासो में बंदूकधारी ने 100 लोगों को मारी गोली
  • आईएसआईएस और अल कायदा से जुड़े संगठन का हाथ
  • पांच वर्ष पहले हुई थी इसी तरह की वारदात

उत्तरी बुर्किनाफासो के एक गांव में एक बंदूकधारी ने कम से कम 100 लोगों को मार डाला। बताया जा रहा है कि बुर्किनाफासो जब से अल कायदा और आईएसआईएस से जुड़े हुए जिहादियों के संपर्क में आया उसके बाद यह सबसे बड़ी वारदात है। सरकारी प्रवक्ता ओसेनी तंबौरा ने जिहादियों को जिम्मेदार ठहराते हुए एक बयान में कहा कि हमला शुक्रवार शाम साहेल के याघा प्रांत के सोल्हान गांव में हुआ। उन्होंने कहा कि नाइजर की सीमा की ओर वाले इलाके में स्थानीय बाजार और कई घर भी जलकर खाक हो गए।राष्ट्रपति रोच मार्क क्रिश्चियन काबोरे ने हमले को बर्बर बताया।

आतंकी संगठन अपने आप को कर रहे हैं मजबूत
राष्ट्रपति मार्क क्रिश्चियन का कहना है कि इससे साफ है कि आतंकवादी समूहों ने बुर्किना फासो में अपने आपको मजबूत करने की फिराक में हैं। अपने प्रयासों को उन क्षेत्रों में स्थानांतरित कर दिया है जो फ्रांस के नेतृत्व वाले सैनिकों की पहुंच के बाहर है। साहेल में 5,000 से अधिक फ्रांसीसी सैनिकों की मौजूदगी के बावजूद जिहादी हिंसा बढ़ रही है। अप्रैल में बुर्किना फासो में 50 से अधिक लोग मारे गए, जिनमें दो स्पेनिश पत्रकार और एक आयरिश संरक्षणवादी शामिल थे। देश में 10 लाख से अधिक लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हो चुके हैं।

सरकार ने 72 घंटे के शोक का किया ऐलान
एक स्थानीय जो अपनी सुरक्षा के डर से नाम नहीं बताने के शर्त पर कहा कि वह सेब्बा शहर के एक मेडिकल क्लिनिक में रिश्तेदारों से मिलने जा रहा था, जहां से लगभग 12 किलोमीटर दूर हमला हुआ था। उन्होंने कहा कि उन्होंने कई घायल लोगों को क्लिनिक में प्रवेश करते देखा। मैंने एक कमरे में 12 और दूसरे में लगभग 10 लोगों को देखा। कई परिजन घायलों की देखभाल कर रहे थे। सोल्हान से सब्बा में प्रवेश करने के लिए बहुत से लोग दौड़ रहे थे। लोग बहुत डरे हुए और चिंतित हैं। सरकार ने 72 घंटे के शोक की घोषणा की है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर