[Video] कश्मीर से लेकर तमिलनाडु तक घर वापसी के लिए प्रवासी आबादी अपना रही ये तरीके

migrant population is illegally crossing borders: राजौरी की बर्फीली चोटियों से लेकर तमिलनाडु के ऊँचे समुद्रों तक भारत की 'प्रवासी' आबादी अवैध रूप से सीमाओं को पार कर रही है राजौरी से ऐसा ही वीडियो सामने आया है।

migrant video
वीडियो फुटेज में, मजदूरों के समूह को पीर की गली मार्ग से श्रीनगर से राजौरी तक पैदल यात्रा करते हुए देखा जा सकता है 

नई दिल्ली: प्रवासी मजदूर संकट, जो 14 अप्रैल को महाराष्ट्र के बांद्रा में भारी तादाद में इकट्ठा होने या 28 अप्रैल को सूरत में हुए पथराव की घटना जैसे कई रुपों में हमारे सामने आया है, अब इसने नया ही आयाम ले लिया है, जम्मू और कश्मीर के राजौरी के मजदूरों ने श्रीनगर से अपने घरों तक जाने के लिए बर्फ से ढकी पर्वत चोटियों के माध्यम से यात्रा करने के अवैध साधनों को अपनाया रहे हैं।

टाइम्स नाउ द्वारा एक्सेस किए गए एक्सक्लूसिव वीडियो फुटेज में, मजदूरों के समूह को पीर की गली मार्ग से श्रीनगर से राजौरी तक पैदल यात्रा करते हुए देखा जा सकता है।ग्रुप को इंटरसेप्ट किया गया और उसे एक प्रशासनिक संगरोध के तहत रखा गया।

इसी तरीके से मीलों दूर तमिलनाडु में, आंध्र प्रदेश और ओडिशा से फंसे मछुआरे अब अपने-अपने गाँव / घर कस्बों तक पहुँचने के लिए समुद्री मार्ग अपना रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, मछुआरों के तीन समूहों ने बंगाल की खाड़ी में 500 समुद्री मील की यात्रा की। 83 मछुआरों का एक अन्य समूह, जो कि खराब मौसम के कारण अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच सका और आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के एक द्वीप की ओर बह गए।

लेकिन स्थिति और जटिल हो गई क्योंकि इन मछुआरों को कोरोनोवायरस के खतरे के कारण स्थानीय ग्रामीणों द्वारा अपनी नावों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी गई।

 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर