ब्रेस्ट मिल्क दान करके एक मां ने बचाईं 5 नवजात जिंदगियां, पेश की इंसानियत की मिसाल

ट्रेंडिंग/वायरल
Updated Dec 27, 2019 | 20:37 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Ahmedabad Supermom! अपने बच्चे को जन्म देने के बाद रुशिना को अहसास हुआ कि वह अपने बेटे के अलावा अन्य जरूरतमंद बच्चों का पोषण भी कर सकती हैं। उन्होंने मानवता की मिसाल पेश करते हुए 5 बच्चों की जान बचाई।

Ahmedabad Mother saved 5 newborn lives
मां ने बचाईं 5 नवजात जिदंगियां 

अहमदाबाद: ऐसे समय में जब लोग कभी किसी अजनबी की मदद करने के लिए कम ही सामने आते हैं, गुजरात की एक महिला ने अपना 12 लीटर ब्रेस्ट मिल्क दान करके पांच अविकसित और जरूरतमंद शिशुओं की जान बचाई है। 29 साल की रुशिना ने न केवल आईसीयू में भर्ती इन बच्चों का जीवन बचाया, बल्कि यह भी साबित कर दिया कि इंसानियत व्यक्ति का सबसे अहम गुण होता है।

इस साल 20 सितंबर को यहां अपने बेटे विवान को जन्म देने के बाद रुशिना को इस बात का अहसास हुआ कि वह जरूरत पड़ने पर अन्य बच्चों का पोषण भी अपने दूध से कर सकती है। उनके अनुरोध पर, महिला के पिता ने अर्पण नवजात शिशु देखभाल केंद्र के बारे में पता लगाया। डॉ. आशीष मेहता द्वारा संचालित होने वाले इस केंद्र ने इस साल की शुरुआत में एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत 'मां का दूध बैंकट शुरू किया था।

सीनियर नियोनेटोलॉजिस्ट डॉ. आशीष मेहता ने बताया कि रुशिना का दूध 600 ग्राम और 1.5 किलोग्राम वजन से बच्चों के लिए संजीवनी की तरह काम करता है। इन बच्चों की माताएं अपने बच्चों इसलिए स्तनपान नहीं करा पाईं क्योंकि या तो वह शारीरिक तौर पर बहुत कमजोर थीं या फिर चिकित्सकीय तौर पर उनका जीवन जोखिम में था। यहीं पर रुशिना की भूमिका सामने आई और उन्होंने पांच प्री-मेच्योर बच्चों की जान बचाई और उनकी फिलहाल इस काम को रोकने की कोई योजना नहीं है।

एक पूर्व इवेंट मैनेजर जो मौजूदा समय में एक निजी कॉलेज में पढ़ा रहे हैं, ने बताया कि रुशिना उन 250 माताओं में से एक हैं, जो अपना दूध Arpan MOM Bank को दान करती रही हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, बैंक को दान में लगभग 90 लीटर ब्रेस्ट मिल्क मिला है, जो 600 बच्चों की 150 मिलीलीटर की खुराक को खिलाने में मदद कर सकता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर