Dead man alive : केरल के एक व्यक्ति की 45 साल पहले विमान हादसे में हो गई थी मौत, अब हो गया जिंदा

केरल के कोट्टायम के रहने वाले एक व्यक्ति की 1976 में एक विमान हादसे में मौत हो गई थी। अब वह जिंदा हो गया है। आखिर ये कैसे हुआ। जानें पूरा मामला।

A man from Kerala died in a plane crash 45 years ago, now alive
मृत व्यक्ति हुआ जिंदा 

मुख्य बातें

  • इंडियन एयरलाइंस की 171 फ्लाइट में सवार सभी यात्रियों की मौत हो गई थी।
  • केरल के साजिद के परिवार ने मान लिया था उसकी भी मौत हो गई, क्योंकि इस हादसे उसकी टीम के लोंगों की मौत हो गई थी।
  • हालांकि साजिद उस फ्लाइट में नहीं थे।

केरल के एक 70 साल का व्यक्ति, जिसकी 45 साल पहले वर्ष 1976 में एक विमान दुर्घटना में मौत हो गई थी। अब वह जिंदा हो गया है। जल्द वह अपने परिवार से मिलने वाला है।  साजिद थुंगल मूल रूप से केरल के कोट्टायम के रहने वाले हैं। वह 1974 में 22 साल की उम्र में खाड़ी में रहने के लिए अपना घर छोड़ दिया था। उसने परिवार में चार बहनों, तीन भाइयों और माता-पिता को छोड़कर गया था। हादसे के बाद से परिवार को उसके बारे में पता नहीं था। 

दि नेशनलन्यूज डॉट कॉम के अनुसार, साजिद अबू धाबी में बस गए, जहां वह मलयालम फिल्मों की स्क्रीनिंग और भारत के गायकों और डांसरों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया करते थे।  फिर साल 1976 में साजिद ने कलाकारों की एक मंडली के साथ 10 दिन बिताए थे। लेकिन फिर, यह बताया गया कि एक विमान दुर्घटना में मंडली के सभी सदस्यों की मौत हो गई, जिसमें चालक दल के सदस्य समेत 95 यात्री थे।

ऐसा कहा गया था कि चेन्नई (मद्रास) जाने वाली इंडियन एयरलाइंस की 171 फ्लाइट में सवार सभी यात्रियों की मौत हो गई थी, जब विमान के एक इंजन में आग लग गई थी। साजिद के बारे में माना जा रहा था कि वह इस हादसे वाले विमान में था।  कथित तौर पर 12 अक्टूबर को बॉम्बे हवाई अड्डे पर इमरजेंसी लैंडिंग करने का प्रयास करते समय विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। उल्लेखनीय मलयालम फिल्म अभिनेत्री रानी चंद्रा हादसे के शिकार लोगों में से एक थीं।

उस समय केरल में साजिद के परिवार को लगा कि हादसे में उसकी मौत हो गई है। लेकिन बात वो नहीं थी।  हालांकि साजिद उस फ्लाइट में नहीं थे, लेकिन उन्होंने अपने परिवार से संपर्क नहीं किया क्योंकि वह दोषी महसूस कर रहे थे। विमान दुर्घटना के करीब छह साल बाद, साजिद मुंबई चले गए और एक छोटा व्यवसाय शुरू करने के बाद बस गए।

2019 में एक पुराना दोस्त ने साजिद को खोजने में कामयाबी हासिल की। वह तुरंत उसे मुंबई में पादरी केएम फिलिप द्वारा चलाए जा रहे आश्रय में ले आया।  द नेशनल न्यूज ने पादरी फिलिप के हवाले से बताया कि वह सभी प्रकार के मनोवैज्ञानिक विकारों से जूझ रहा है। विमान दुर्घटना में उनके ग्रुप की मृत्यु के बाद डिप्रेशन में चले गए। अपराधबोध की वजह से शराब हो गए। उनकी याददाश्त में कमी आ गई। 

यह साजिद के अपने घर वापस जाने के सफर की शुरुआत थी। करीब दो साल तक साजिद ने शेल्टर मेंबर्स को अपने परिवार के बारे में कुछ नहीं बताया। लेकिन यह कुछ हफ्ते पहले तक बदल गया जब एक सील सामाजिक कार्यकर्ता ने केरल का दौरा किया और कोट्टायम की एक स्थानीय मस्जिद में साजिद के बारे में पूछताछ की। मस्जिद के इमाम साजिद के परिवार को जानते थे और सील सामाजिक कार्यकर्ता को घर ले गए।

उसके बाद, एक वीडियो कॉल की व्यवस्था की गई जहां साजिद को 45 से अधिक वर्षों में पहली बार अपने परिवार से मिलने के लिए कहा गया। साजिद ने कहा कि मैं घर जाना चाहता हूं। अगर यहां के लोगों ने मेरी देखभाल नहीं की होती, तो मैं अपने परिवार से मिले बिना ही मर जाता।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Viral News in Hindi, साथ ही Hindi News के ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर