महाभारत का कलयुगी अवतार था सपा शासन, SP- बसपा और कांग्रेस ने आस्था के साथ खिलवाड़ किया: योगी

Yogi Adityanath on SP: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश दंगा मुक्त है और हर कोई अपने पर्व मना सकता है।

CM Yogi Says SP rule was Kaliyugi avatar of Mahabharata, SP-BSP and Congress played with faith
CM योगी बोले- महाभारत का कलयुगी अवतार था सपा शासन 
मुख्य बातें
  • सीएम योगी ने एक बार फिर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पर साधा निशाना
  • योगी बोले- वर्ष 2012 से 2017 तक चाचा, भतीजा,नाना, मामा सहित पूरा खानदान लगा था लूट-खसोट में
  • भाजपा सरकार ने लोगों के हित में किए कार्य, भाजपा हर वर्ग को दे रही है प्रतिनिधित्व

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सपा, बसपा और कांग्रेस को हिन्दू विरोधी बताते हुए कहा कि इन दलों ने हिन्दू आस्था के साथ खिलवाड़ किया। सीएम योगी ने कहा कि हिंदू आस्था के केंद्र सेतु बंध को प्रभावित करने की कोशिश की गयी , जिसे भगवान विश्वकर्मा के पुत्र नल और नील ने भगवान श्रीराम को श्रीलंका जाने को तैयार किया था। सपा का नाम लिये बिना 2012 से 2017 तक रही प्रदेश सरकार को जीवंत कलयुगी अवतार बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दुओं के त्योहार से पहले दंगे होते थे। हिन्दू अपना कोई पर्व मना ही नहीं पाता था। आज प्रदेश दंगे से मुक्त है। हर कोई अपना पर्व व त्योहार मना सकता है। 

हिंदू नहीं मना पाते थे अपने त्योहार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को अलीगंज स्थित पंचायत भवन में पिछड़े मोर्चे द्वारा आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे । इस मौके पर सांसद रामचंद्र, पिछड़ा मोर्चा के उपाधयक्ष कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा, संतराज विश्वकर्मा आदि मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा, 'पहले की सरकार अपने परिवार को ही प्रदेश मानती थी। वर्ष 2012 से 2017 तक चाचा, भतीजा,नाना, मामा सहित पूरा खानदान लूट-खसोट में लगा था। कोई किसी को धक्का मार देता था। सभी रिश्तों ने महाभारत की याद दिला दी थी । पूरा खानदान महाभारत का जीवंत कलयुगी अवतार था। उनके शासन में कोई ऐसा जिला नहीं बचा था, जहाँ दंगे नहीं होते थे। यह दंगे हिन्दुओं के पर्व होली,दिवाली, रक्षाबंधन, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि, विजयादशमी और रामनवमी के पहले ही होते थे। हिन्दू अपना त्योहार ही नहीं मना पाते थे। दूसरी तरफ वे बड़ी बेशर्मी से गोल टोपी पहनकर प्रदेश की जनता को अपमानित करते थे। आज किसी की हिम्मत नहीं है कि किसी त्योहार में खलल डाल दे।'

सपा पर निशाना

समजावादी पार्टी को निशाने पर लेते हुए योगी ने कहा, 'सपा ने 2004 में कांग्रेस के नेतृत्व में बनी यूपीए सरकार को बिना मांगे इसी मंशा से समर्थन दिया ताकि कांग्रेस के कंधे पर बंदूक रखकर हिन्दू आस्था को आहत कर सके। सपा, बसपा और कांग्रेस ने 2005 राम बंध को तोड़ने के लिए ऐड़ी चोटी का जोर लगा कर केवल हिन्दू आस्था का अपमान किया अपितु सामाजिक तानाबाना छिन्न-भिन कर विकास को अवरुद्ध किया। भ्रष्टाचार और अराजकता को बढ़ावा देते रहे। युवाओं के समक्ष पहचान का संकट था। योग्यता के आधार पर नौकरी नहीं मिलती थी। नियुक्ति से पहले लोग वसूली पर निकल पड़ते थे। आज युवाओं को ईमानदारी से उनकी योग्यता पर नौकरी मिल रही है।'

सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए योगी ने कहा, 'आज किसी वर्ग का कोई युवा नहीं है जिसे शासन की योजनाओं का लाभ न मिल रह हो। भाजपा सरकार के साढ़े चार साल में 45 लाख आवास समाज के सभी वर्गों को मिलले है। पहले की सरकारें इससे वंचित करती थी। भाजपा सरकार ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान के जरिये अब तक 60 लाख लोगों को स्वत: रोजगार  मुहैया कराया गया है। विभिन्न ट्रेड के कारीगरों को प्रशिक्षण देकर उनके स्वरोजगार के लिए ऋण और सब्सिडी दी जा रही है। विश्वकर्मा समाज को पिछड़ा वर्ग आयोग सहित संसद में भी भाजपा प्रतिनिधित्व दे रही है। विश्वकर्मा समाज के लोग आज जिला पंचायत अध्यक्ष, ब्लाक प्रमुख, प्रधान बनकर विकास में भागीदार बन रहे हैं।'

रामद्रोही कभी हितैषी नहीं हो सकते

मुख्यमंत्री योगी ने सपा, बसपा और कांग्रेस को रामद्रोही और आतंकी समर्थक बताते हुए कहा कि यह कभी किसी समाज के हितैषी नहीं हो सकते । जो देश प्रदेश का हितैषी नहीं हो सकता वह ,किसी का हितैषी नहीं हो सकता । इनसे जितना दूर रहेंगे उतना ही आपका वर्तमान और भविष्य सुरक्षित रहेगा।लिहाज समाज, प्रदेश और भावी पीढ़ी के भविष्य के लिए घर घर जाकर सरकार की योजनाओं से जागरूक करना होगा।

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर