Jammu kashmir:कड़ी कार्रवाई! अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के पोते को सरकारी नौकरी से किया गया बर्खास्त-VIDEO

देश
रवि वैश्य
Updated Oct 17, 2021 | 07:31 IST

जम्मू कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के पोते को सरकारी नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है, बताते हैं कि गिलानी का पोता आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त पाया गया था।

Syed Ali Shah Geelani
अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी (फाइल फोटो)  

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकी गतिविधियां तेज हो रही इस पर काबू पाने के मकसद से सरकार कदम उठा रही है, इसी दौरान बताया जा रहा है कि सरकार ने आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के आरोप में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी (Syed Ali Shah Geelani) के पोते को सरकारी नौकरी से बर्खास्त कर दिया है।

पाकिस्तान समर्थक सैयद अली शाह गिलानी के पोते और डोडा के एक शिक्षक को जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों का कथित तौर पर साथ देने के लिए सरकारी नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया।गिलानी के पोते अनीस उस सलाम और शिक्षक फारूक अहमद बट की बर्खास्तगी के साथ ही केंद्र शासित क्षेत्र में पिछले छह महीने में सरकारी नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों की संख्या बढ़कर 27 हो गई है।

सैयद सलाहुद्दीन के दो बेटों और दागी पुलिस अधीक्षक देवेंद्र सिंह को भी सेवा से निकाला गया था

इससे पहले सेवा से निकाले गए लोगों में पाकिस्तान स्थित हिज्बुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन के दो बेटे और दागी पुलिस अधीक्षक देवेंद्र सिंह शामिल हैं। सिंह को एक वांछित आतंकवादी तथा दो अन्य के साथ गिरफ्तार किया गया था।

उप राज्यपाल ने इन्हें संविधान के अनुच्छेद 311 (दो) में प्राप्त शक्तियों के तहत तथ्यों और परिस्थितियों की पड़ताल करने के बाद बर्खास्त किया था।संविधान के इस प्रावधान के तहत बर्खास्त किये गए कर्मचारी अपनी बर्खास्तगी को केवल जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय में चुनौती दे सकते हैं।

गिलानी का पोते अनीस शेर ए कश्मीर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र में शोध अधिकारी 

अल्ताफ अहमद शाह उर्फ अल्ताफ फंटूश के बेटे अनीस के विरुद्ध डोसियर के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब में स्थित तीन संदिग्ध उसके नजदीकी संपर्क में हैं। अनीस के पिता को आतंक के वित्त पोषण के मामले में राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण द्वारा गिरफ्तार किया गया था और वह 2017 से तिहाड़ जेल में है। अनीस को 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के कार्यकाल में शेर ए कश्मीर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र  में शोध अधिकारी नियुक्त किया गया था। अधिकारियों के अनुसार, अनीस 31 जुलाई से सात अगस्त 2016 के बीच पाकिस्तान गया था और उसने कथित तौर पर गिलानी के कहने पर आईएसआई के कर्नल यासिर से मुलाकात की थी।

अनीस ड्रोन उड़ाकर कानून व्यवस्था की स्थिति का वीडियो बनाता था

उसकी वापसी के बाद जम्मू कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी की मौत पर पैमाने पर अस्थिरता देखी गई थी। तत्कालीन राज्य सरकार पर अनीस की नियुक्ति का दबाव था और इसके लिए सभी नियमों को ताक पर रखा दिया गया था।आरोप है कि अनीस अपनी नियुक्ति से पहले श्रीनगर शहर में और उसके आसपास ड्रोन उड़ाकर कानून व्यवस्था की स्थिति का वीडियो बनाता था और बाद में उस फुटेज को सीमापार आईएसआई से साझा करता था।

फारूक अहमद बट जम्मू के डोडा में एक स्कूली शिक्षक

बर्खास्त किया गया अन्य कर्मचारी फारूक अहमद बट जम्मू के डोडा में एक स्कूली शिक्षक है। उसे 2005 में संविदा पर नियुक्त किया गया था और 2010 में स्थायी कर दिया गया था। बट का भाई मोहम्मद अमीन बट लश्कर ए तैयबा का सक्रिय आतंकवादी है जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले कश्मीर में अपनी गतिविधि चलाता है।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर