सचिन पायलट और गहलोत के बीच बढ़ रही है तल्खी ! क्या 2020 जैसे बन रहे हैं हालात

Sachin Pilot And Ashok Gehlot Tussle: राजस्थान में कांग्रेस के सामने एक बार फिर साल 2020 जैसा संकट खड़ा हो सकता है। जब सचिन पायलट खुलकर गहलोत के खिलाफ खड़े हो गए थे। और ऐसा लग रहा था कि राजस्थान में गहलोत सरकार गिर जाएगी।

Updated Jan 20, 2023 | 06:43 PM IST

sachin pilot  and ashok gehlot

सचिन पायलट और अशोक गहलोत फिर आमने-सामने !

तस्वीर साभार : BCCL
Sachin Pilot And Ashok Gehlot Tussle: राजस्थान में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे कांग्रेस के दो दिग्गजों के बीच तल्खी बढ़ती जा रही है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट खुल कर एक-दूसरे के सामने आ गए हैं। कोई किसी को कोरोना कह रहा है तो कोई सीधे अपनी ही सरकार पर निशाना साध रहा है। ऐसे में लगता है कि राजस्थान में कांग्रेस के सामने एक बार फिर साल 2020 जैसा संकट खड़ा हो सकता है। जब सचिन पायलट खुलकर गहलोत के खिलाफ खड़े हो गए थे। और ऐसा लग रहा था कि राजस्थान में गहलोत सरकार गिर जाएगी। लेकिन गहलोत और आलाकमान की वजह से दोनों के बीच मामला संभल गया था। लेकिन पिछले एक हफ्ते से जिस तरह दोनों नेता बयानबाजी कर रहे हैं, उससे लगता है कि मामला आने वाले दिनों में तल्खी बढ़ेगी।
गहलोत ने पायलट की तुलना कोरोना से की
हाल ही में राजस्थान में अशोक गहलोत और उनके धुर विरोधी सचिन पायलट की सत्ता की लड़ाई के बीच, एक वीडियो सामने आया है जिसमें मुख्यमंत्री कथित तौर पर कह रहे हैं कि महामारी के बाद पार्टी में बड़ा कोरोना आ गया है। ऐसा माना जा रहा है कि गहलोत ने कथित तौर पर पायलट की तुलना कोरोना वायरस से की है।गहलोत ने बैठक के दौरान बिना किसी का नाम लिए कहा कि मैंने मिलना शुरू किया है । पहले कोरोना आया। हमारी पार्टी में भी एक बड़ा कोरोना घुस गया।
वहीं पायलट ने राज्य में पर्चा लीक मामले को लेकर गहलोत सरकार पर फिर से निशाना साधा। इसके साथ ही पायलट गुट के नेताओं ने खुलकर मुख्यमंत्री के रूप में उनकी ताजपोशी की मांग कर डाली है। झुंझुनूं के गुढ़ा में किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए पायलट ने पार्टी कार्यकर्ताओं के बजाय सेवानिवृत्त नौकरशाहों की राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर भी सरकार पर निशाना साधा। वहीं पंचायती राज और ग्रामीण विकास राज्य मंत्री गुढा ने पायलट के समर्थन में कहा कि हर कोई पूछ रहा है कि पायलट कब मुख्यमंत्री बनेंगे। लोग इंतजार कर रहे हैं।
2020 में पायलट ने कर दी थी बगावत
इस बीच जमीन पर पकड़ मजबूत करने और शक्ति प्रदर्शन के लिए सचिन पायलट ने 16-20 जनवरी के बीच नागौर,हनुमानगढ़, झुनझुनू,पाली और जयपुर में रैलियां की हैं। जिसमें वह साफ तौर पर यह जताने की कोशिश करते रहे हैं कि राजस्थान में वहीं असली चेहरा है और उन्हें अब राज्य में पार्टी की कमान मिलनी चाहिए। पायलट इसके पहले साल 2020 में भी करीब-करीब पार्टी से अलग होने की राह पर चल पड़े थे। लेकिन राहुल-प्रियंका के दखल के बाद, वह एक और मौके के लिए रूक गए। हालांकि अभी तक उन्हें आलाकमान से आश्वासन के अलावा कोई मौका नहीं मिला है।
देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | देश (india News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल
लेटेस्ट न्यूज

लगातार चौथी सीरीज जीतने के बाद कैप्टन हार्दिक पांड्या ने बताया भविष्य में खेलना चाहते हैं कैसी क्रिकेट

Adani FPO: अडानी ग्रुप का बड़ा फैसला, 20000 करोड़ का FPO किया रद्द, लौटाएगा निवेशकों का पैसा

Adani FPO      20000   FPO

Aaj Ki Taza Khabar, 2 फरवरी, 2023: एफपीओ लौटाएगा अडानी ग्रुप , जानें देश और दुनिया की ताजा खबरें

Aaj Ki Taza Khabar 2  2023

Aaj ka Ankfal , 02 February 2023: आज के अंकफल से जानें क्या लिखा है आपके भाग्य में

Aaj ka Ankfal  02 February 2023

Aaj ka Panchang, 02 February 2023 : आज है प्रदोष व्रत, जानें दिन भर के सभी शुभ-अशुभ मुहूर्त

Aaj ka Panchang 02 February 2023           -

Aaj Ka Rashifal, 02 February 2023: कुम्भ राशि के लोग आज राजनीति में सफल रहेंगे,जानें अन्य राशि‍यों के लिए कैसा रहेगा आज का दिन

Aaj Ka Rashifal 02  February 2023

IND vs NZ 3rd t20I Match Highlights: गिल के शतक और तेज गेंदबाजों के कहर की बदौलत भारत ने किया टी20 सीरीज पर कब्जा

IND vs NZ 3rd t20I Match Highlights              20

IND vs NZ: हार्दिक है तो मुमकिन है, बतौर कप्तान बने सफलता की गारंटी

IND vs NZ
आर्टिकल की समाप्ति

© 2023 Bennett, Coleman & Company Limited