LIVE BLOG
More UpdatesMore Updates

Cyclone Yaas : चक्रवात 'यास' के बाद ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने हालात का जायजा लिया

Cyclone Yaas : ओडिशा के भद्रक जिले में धामरा बंदरगार के निकट गंभीर चक्रवाती तूफान ‘यास’ के पहुंचने की प्रक्रिया बुधवार सुबह नौ बजे शुरू हुई। भारी बारिश की वजह से पूर्व मिदनापुर के हल्दिया बंदरगाह पर पानी भर गया है। चक्रवात ओडिशा के तट से टकराने के बाद बंगाल और झारखंड की तरफ बढ़ा है। मौसम विभाग का कहना है कि झारखंड में चक्रवात गुरुवार को दाखिल होगा।
 Cyclone Yaas
चक्रवात 'यास'

मौसम विभाग ने जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, जयपुर, भद्रक, बालासोर, कटक, ढेंकानाल, में भीषण बारिश होने (200 मिलीमीटर से ज्यादा) होने का अनुमान जताया है। जबकि पुरी खुर्दा, अंगुल, देवगढ़, सुंदरगढड जिलों में भारी बारिश होने की भविष्यवाणी की है। पश्चिम बंगाल के पूर्व मिदनापुर जिले के दीघा के पास समुद्र में तेज हवाएं चल रही हैं और बारिश हो रही है। समुद्र का जलस्तर काफी बढ़ गया है। मौसम विभाग के मुताबिक यहां तूफान की रफ्तार 130 से 140 किलोमीटर प्रति घंटे है।  

May 26, 2021  |  09:47 PM (IST)
ओडिशा के सीएम ने परिवारों के लिए राहत की घोषणा की

ओडिशा के सीएम ने चक्रवात से प्रभावित सभी जिलों के 128 गांवों के परिवारों के लिए राहत की घोषणा की। प्रमुख राजमार्गों को 24 घंटों में दुरुस्‍त करने और इसी अवधि के दौरान 80 प्रतिशत विद्युत आपूर्ति बहाल करने के निर्देश भी दिए गए हैं। 

May 26, 2021  |  08:28 PM (IST)
अपराह्र में तटों से टकराने के बाद तूफान कमजोर पड़ गया

चक्रवाती तूफान 'यास' के 130-145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाओं के साथ बुधवार को देश के पूर्वी तटों से टकराने के बाद भारी बारिश हुई। इससे कई मकान और खेत क्षतिग्रस्त हो गये। अधिकारियों ने बताया कि ओडिशा में तीन तथा पश्चिम बंगाल में एक व्यक्ति की मौत हुयी है।चक्रवात के कारण ओडिशा के धामरा बंदरगाह के पास निचली इलाकों में पानी भर गया। इन इलाकों से 20 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। अपराह्र में तटों से टकराने के बाद तूफान कमजोर पड़ गया था।बंगाल सरकार ने दावा किया है कि इस प्राकृतिक आपदा के कारण कम से कम एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं।

May 26, 2021  |  08:27 PM (IST)
गुजरात के 450 गांवों में अभी तक बहाल नहीं हुई बिजली आपूर्ति

गुजरात सरकार ने कहा कि राज्य में चक्रवाती तूफान ताउते के प्रकोप के एक हफ्ते से अधिक समय बाद भी करीब 450 गांव बिजली आपूर्ति बहाल होने का इंतजार कर रहे हैं और यह काम चल रहा है।गिर-सोमनाथ जिले में 17 मई की रात को तूफान ताउते आया था और उसने 24 घंटे से अधिक समय तक गुजरात के अनेक हिस्सों को प्रभावित किया।मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बुधवार को गांधीनगर में संवाददाताओं से कहा कि जोरदार हवाओं से बिजली के खंभे गिर गये थे जिसकी वजह से 10,447 गांवों में बिजली चली गयी।उन्होंने कहा, 'छह दिन में सभी सड़कों को साफ कर लिया गया। अब एक भी गांव संपर्क से कटा नहीं है। कुल 10,447 गांवों में तूफान के कारण बिजली आपूर्ति बाधित हो गयी थी जिनमें से करीब 9,900 गांवों में बिजली बहाल कर ली गयी है वहीं बाकी 450 गांवों में बिजली आपूर्ति बहाल करने के लिए प्रयास जारी हैं।'
 

May 26, 2021  |  05:11 PM (IST)
"मयूरभंज में हवा की गति और क्षति पर कड़ी नजर रख रहे हैं"
ओडिशा विशेष राहत आयुक्त प्रदीप के जेना ने बताया कि यास ने लैंडफॉल की प्रक्रिया पूरी कर ली है। यह सुबह 9 बजे शुरू हुआ और दोपहर 1 बजे कलेक्टर बालासोर और भद्रक से सूचना मिली कि सभी तटीय क्षेत्रों में हवा थम गई है, नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, वे पहले ही 1.05 लाख से अधिक लोगों को निकाल चुके हैं और यह जारी है। हम मयूरभंज में हवा की गति और क्षति पर कड़ी नजर रख रहे हैं। हमने बड़े पैमाने पर पेड़ों को उखड़ते देखा है। सड़कों की लगातार सफाई हो रही है।
May 26, 2021  |  03:38 PM (IST)
झारखंड में 26 और 27 को भारी बारिश और बिहार में 27 मई को बारिश


यह अगले 3 घंटों में कमजोर हो जाएगा और अगले 6 घंटों में हवा की गति 60 किमी प्रति घंटे तक गिर जाएगी। कल डीप डिप्रेशन बन जाएगा और झारखंड की ओर बढ़ेगा। 12 घंटे तक भारी बारिश जारी रहेगी। झारखंड में 26 और 27 को भारी से बहुत भारी बारिश के साथ अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश और बिहार में 27 मई को भारी बारिश की बात कही जा रही है।

May 26, 2021  |  02:04 PM (IST)
'अत्यंत गंभीर' से 'गंभीर' हुआ चक्रवाती तूफान ‘यास’ 
मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि ओडिशा के तट से टकराने के बाद आगे बढ़ने पर चक्रवात 'यास' कमजोर होकर 'अत्यंत गंभीर' से 'गंभीर' की श्रेणी में आ गया है।   
May 26, 2021  |  01:44 PM (IST)
चक्रवात ने जगतसिंहपुर में गिराए पेड़

ओडिशा के जगतसिंहपुर में चक्रवात 'यास' ने कई पेड़ों को जमींदोज कर दिया है। ओडिशा की आपदा मोचन बल तूफान से गिरे पेड़ों को रास्ते से हटाने का काम कर रही है।

May 26, 2021  |  12:48 PM (IST)
मुंबई हवाई अड्डे पर छह उड़ानें रद्द

मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (सीएसएमआईए) ने बुधवार को कहा कि बंगाल की खाड़ी में चक्रवात यास के मद्देनजर छह उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। सीएसएमआईए ने एक बयान में कहा कि अन्य क्षेत्रों के लिए उड़ानें निर्धारित समय के अनुसार चलती रहेंगी। सीएसएमआईए ने कहा कि बंगाल की खाड़ी में चक्रवात यास के चलते मुंबई से कोलकाता और भुवनेश्वर के बीच उड़ानें रद्द कर दी गईं हैं। बयान के मुताबिक अब तक लगभग छह उड़ानें रद्द की गई हैं, जिनमें तीन आगमन और तीन प्रस्थान उड़ानें शामिल हैं।

May 26, 2021  |  11:57 AM (IST)
गुरुवार को झारखंड में दाखिल होगा चक्रवात
मौसम विज्ञान विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहा है कि चक्रवात यास ओडिशा की सीमा दक्षिण बालासोर से आगे बढ़ रहा है। यह गुरुवार सुबह झारखंड पहुंचेगा। पिछले 24 घंटे में भारी से अत्यंत भारी बारिश ओडिशा में हुई है। इस राज्य में आज भारी बारिश होने की संभावना है।
May 26, 2021  |  11:36 AM (IST)
दीघा में तेज तूफान, बारिश
मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवात अभी भी समुद्र है। चक्रवात तट से टकराना शुरू कर दिया है। चक्रवात की रफ्तार काफी तेज है। चक्रवात को देखते हुए बंगाल के कई जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से अपने घरों से बाहर न निकलने की अपील की है।
May 26, 2021  |  10:08 AM (IST)
बंगाल, ओडिशा में सेना की 17 कॉलम की तैनाती

चक्रवात 'यास' के गुजरने के बाद राहत एवं बचाव कार्य के लिए सेना की तैनाती की गई है। पश्चिम बंगाल में राहत एवं बचाव कार्य के लिए सेना की कुल 17 कॉलम और ओडिशा में तीन कॉलम एवं एक इंजीनियर टॉस्क फोर्स को तैयार रखा गया है।

May 26, 2021  |  09:18 AM (IST)
बालासोर में तट से टकराने की ओर चक्रवात 'यास'
आईएमडी ने अपने ताजा अपडेट में कहा है कि चक्रवात 'यास' ओडिशा के बालासोर से 50 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में केंद्रित है। यहां तट से टकराने की प्रक्रिया सुबह करीब नौ बजे हुई है।
May 26, 2021  |  08:18 AM (IST)
दीघा समुद्र में उठ रहीं ऊंची लहरें
दीघा से ग्राउंड रिपोर्टिंग कर रहे टाइम्स नाउ के रिपोर्टर तमाल साहा का कहना है कि समुद्र की लहरें तेज हो गई हैं और तेज हवाओं का चलना जारी है। समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं। सड़क पर पानी भर गया। अगले कुछ घंटों बाद चक्रवात 'यास' यहां टकराने वाला है। लोगों से अपने घरों से बाहर नहीं आने के लिए कहा गया है।
May 26, 2021  |  07:20 AM (IST)
भद्रक जिले के धमरा में तेज बारिश और तूफान
ओडिशा के भद्रक जिले के धमरा में तेज हवाओं का चलना जारी है। यहां के तट से आज चक्रवात 'यास' टकराएगा। आईएमडी का कहना है कि इश दौरान यहां हवा की रफ्तार 130 से 140 किलोमीटर प्रतिघंटा रह सकती है।
May 26, 2021  |  07:02 AM (IST)
बीपीआई एयरपोर्ट गुरुवार सुबह पांच बजे तक के लिए बंद

मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए भुवनेश्वर के बीपीआई एयरपोर्ट को गुरुवार सुबह पांच बजे तक के लिए बंद कर दिया गया है। आईएमडी की सुबह साढ़े चार बजे की अपडेट के मुताबिक ने सुबह चक्रवात 'यास' अभी पारादीप से 90 किलोमीटर पूर्व और धमरा से 60 किलोमीटर दूर दक्षिणपूर्व और बालासोर से 105 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में सक्रिय है।  
 

May 26, 2021  |  06:50 AM (IST)
धमरा में तेज हवा एवं बारिश
चक्रवात के तट से टकराने से पहले ओडिशा के भद्रक जिले के धमरा में तेज हवाएं चल रही हैं। यहां तेज बारिश भी हो रही है। ओडिशा में चक्रवात के नुकसान पहुंचाने की आशंका को देखते हुए तटवर्ती इलाके के लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की टीमों को तैयार रखा गया है।
May 26, 2021  |  06:49 AM (IST)
भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हुआ 'यास' : आईएमडी
चक्रवात यास मंगलवार की शाम को भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक एम. महापात्र ने कहा कि ओडिशा और पश्चिम बंगाल के लिए ‘रेड कोडेड’ चेतावनी अलर्ट जारी किया गया है। महापात्र ने कहा, ‘उत्तर पश्चिम और बंगाल की खाड़ी में गंभीर चक्रवाती तूफान यास भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है।’यह उत्तर- उत्तर पश्चिम की तरफ मुड़ सकता है तथा इसकी तीव्रता और अधिक हो सकती है। यह बुधवार की सुबह तक उत्तर ओडिशा में धमरा बंदरगाह के पास दस्तक दे सकता है। आईएमडी के चक्रवात चेतावनी विभाग ने कहा, ‘यह बुधवार की दोपहर उत्तर ओडिशा - पश्चिम बंगाल में पारादीप और सागर द्वीप के तटों के बीच धमरा के नजदीक से भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में गुजर सकता है।’ इसने बताया कि पारादीप में डोप्लर मौसम रडार से इसकी निगरानी की जा रही है।
May 26, 2021  |  06:49 AM (IST)
NDRF की अब तक की सबसे बड़ी तैनाती

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के प्रमुख एस. एन. प्रधान ने मंगलवार को बताया कि चक्रवात यास के मद्देनजर राहत एवं बचाव कार्य के लिए बल ने अभी तक की सबसे ज्यादा टीमें ओडिशा और बंगाल में तैनात की गयी हैं। उन्होंने बताया कि राज्य सरकारों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम बंगाल में आठ लाख से ज्यादा जबकि ओडिशा में दो लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। बंगाल की खाड़ी से उत्पन्न चक्रवात से देश के पांच राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेश अंडमान निकोबार द्वीप समूह के प्रभावित होने की आशंका है, जिसे देखते हुए एनडीआरएफ ने अपनी 113 टीमें तैनात की हैं। एनडीआरएफ की सबसे ज्यादा 52 टीमें ओडिशा में जबकि 45 टीमें पश्चिम बंगाल में तैनात की गई हैं। प्रवक्ता ने बताया कि बाकि टीमें आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, झारखंड और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में तैनात की गई हैं।