ये हैं देश के पहले ट्रेन्ड ट्रांसजेंडर पायलट, पर DGCA ने बता दिया "अनफिट", खाना डिलीवर करने पर मजबूर

देश
अभिषेक गुप्ता
अभिषेक गुप्ता | Principal Correspondent
Updated Jul 05, 2022 | 20:44 IST

23 साल के हैरी ने विमान उड़ाने के ख्वाब देखा था, पर ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उनका यह सपना चकनाचूर हो गया।

adam harry, kerala, dgca
विमान के साथ सेल्फी लेते हुए एडम हैरी। (फोटो सोर्सः pilotadamharry)  |  तस्वीर साभार: Instagram
मुख्य बातें
  • चार साल पहले सुर्खियों में आए थे एडम हैरी
  • बने थे देश के पहले ट्रांसजेंडर ट्रेनी पायलट
  • केरल सरकार ने इस तरह की थी मदद

देश के पहले ट्रेन्ड ट्रांसजेंडर पायलट एडम हैरी इन दिनों फूड डिलीवरी बॉय का काम करने पर मजबूर हैं। दरअसल, नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने उन्हें अस्थाई तौर पर अनफिट करार दिया है। 

ऐसा इसलिए, क्योंकि वह हॉर्मोन थेरेपी से गुजर रहे थे, लिहाजा डीजीसीए ने उन्हें उड़ान भरने के लिए अस्थाई रूप से फिट घोषित करने वाले मेडिकल सर्टिफिकेट देने से इन्कार कर दिया।

यही वजह है कि वह मौजूदा समय में फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो के डिलीवरी एजेंट के तौर पर काम करने को बेबस हैं। हैरी साल 2019 में सुर्खियों में आए थे, जब वह देश के पहले ट्रांसजेंडर ट्रेनी पायलट बने थे।

अंग्रेजी अखबार दि हिंदू की एक रिपोर्ट की मानें तो हैरी ने दक्षिण अफ्रीका से प्राइवेट पायलट लाइसेंस पीपीएल हासिल किया है। उन्होंने इसके बाद कमर्शियल पायलट लाइसेंस के लिए केरल के तिरुवनंतपुरम शहर में स्थित राजीव गांधी एकैडमी फॉर एविएशन टेक्नोलॉजी में जनवरी 2022 में खुद को एनरॉल कराया था। 

आखिर क्यों हो रही है SpiceJet के विमानों की लगातार इमरजेंसी लैंडिग? कई बार टल चुके हैं बड़े हादसे

बताया जाता है कि केरल सरकार के सामाजिक कल्याण विभाग ने हैरी की फ्लाइंग इंस्टीट्यूट में दाखिला लेने में मदद भी की थी, ताकि वह इस क्षेत्र में अपना करिअर बना सकें। 

जन्म के दौरान उन्हें बच्ची (स्त्री) माना गया था। हालांकि, आगे चलकर उन्होंने सरकारी कामकाज और अन्य जगहों पर अफसरों के सामने खुद को ट्रांसजेंडर पुरुष के रूप में पेश किया। वजह रही- उनमें होने वाले साइकोलॉजिकल बदलाव। मसलन दाढ़ी निकलना और मर्दों जैसी आवाज होना। 

आज की ताजा खबर : Aaj Ki Taza Khabar, 5 जुलाई, 2022 की बड़ी खबरें और मुख्य समाचार

अपना स्टूडेंट पायलट लाइसेंस सुनिश्चित कराने के लिए उन्हें मेडिकल टेस्ट से गुजरना था, पर उन्हें मजबूरी में अपने आवेदन फॉर्म में खुद को फीमेल के रूप में पेश करना पड़ा। दरअसल, डीजीसीए के मेडिकल परीक्षण से जुड़े फॉर्म में ट्रांसजेंडर के लिए कोई विकल्प नहीं था।

काफी टेस्ट्स के बाद जेंडर डायफोरिया (यह वह स्थिति होती है, जिसमें किसी इंसान के बायलॉजिकल सेक्स और जेंडर आईडेंटिटी के बीच में फर्क करने में दिक्कत होती है) का हवाला देते हुए हैरी को डीजीसीए ने अस्थाई तौर पर अनफिट बता दिया था। 
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर