Ramayana: केरल के दो मुस्लिम छात्रों ने जीती रामायण पर हुई ऑनलाइन क्विज, बोले- भगवान राम से सबको लेनी चाहिए प्रेरणा

देश
भाषा
Updated Aug 07, 2022 | 20:07 IST

Ramayana: उत्तरी केरल जिले के वलांचेरी में केकेएसएम इस्लामिक एंड आर्ट्स कॉलेज में आठ वर्षीय पाठ्यक्रम (वेफी कार्यक्रम) के क्रमशः पांचवें और अंतिम वर्ष के छात्र बासित और जाबिर पिछले महीने आयोजित प्रश्नोत्तरी के पांच विजेताओं में से थे। रा

Two Muslim students of Kerala win online quiz on Ramayana said everyone should take inspiration from Lord Rama
दो मुस्लिम छात्रों ने जीती रामायण पर हुई ऑनलाइन क्विज।  |  तस्वीर साभार: Twitter

Ramayana: यदि आप मुस्लिम युवक मोहम्मद बसीथ एम से रामायण की उनकी पसंदीदा चौपाई के बारे में पूछें, तो वह तुरंत 'अयोध्यकांड' की चौपाई को दोहरा देंगे, जिसमें लक्ष्मण के क्रोध और भगवान राम द्वारा अपने भाई को दी जा रही सांत्वना का वर्णन है। इसमें भगवान राम साम्राज्य और शक्ति की निरर्थकता को विस्तार से बता रहे हैं। वह न केवल 'अध्यात्म रामायणम' के छंदों को धाराप्रवाह और मधुर रूप से प्रस्तुत करेंगे, बल्कि पवित्र पंक्तियों के अर्थ और संदेश को भी विस्तार से बताएंगे।

'अध्यात्म रामायणम' महाकाव्य का मलयालम संस्करण है, जिसे थूंचथु रामानुजन एझुथाचन ने लिखा है। महान महाकाव्य के गहन ज्ञान ने बासित और उनके कॉलेज के साथी-मित्र मोहम्मद जाबिर पीके को रामायण प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में विजेता बनाने में मदद की है। इस प्रतियोगिता का ऑनलाइन आयोजन दिग्गज प्रकाशक कंपनी डीसी बुक्स ने किया था।

ट्रेन के सफर में समझेंगे यात्री भगवान राम की जीवन यात्रा, 24 से रेलवे विभाग शुरू करेगा ये योजना, जानिए कहां से

दो मुस्लिम छात्रों ने जीती रामायण पर हुई ऑनलाइन क्विज

उत्तरी केरल जिले के वलांचेरी में केकेएसएम इस्लामिक एंड आर्ट्स कॉलेज में आठ वर्षीय पाठ्यक्रम (वेफी कार्यक्रम) के क्रमशः पांचवें और अंतिम वर्ष के छात्र बासित और जाबिर पिछले महीने आयोजित प्रश्नोत्तरी के पांच विजेताओं में से थे। रामायण प्रश्नोत्तरी में इस्लामिक कॉलेज के छात्रों की जीत ने व्यापक मीडिया का ध्यान आकर्षित किया, जिसके बाद विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने दोनों को बधाई देना शुरू कर दिया।

'सभी भारतीयों को रामायण और महाभारत महाकाव्यों को पढ़ना और उनसे सीखना चाहिए'

छात्रों ने कहा कि हालांकि वे बचपन से महाकाव्य के बारे में जानते थे, उन्होंने वाफी पाठ्यक्रम में शामिल होने के बाद रामायण और हिंदू धर्म के बारे में गहराई से पढ़ना और सीखना शुरू कर दिया, जिसके पाठ्यक्रम में सभी प्रमुख धर्मों की शिक्षाएं हैं। जाबिर ने पीटीआई भाषा से कहा, ''सभी भारतीयों को रामायण और महाभारत महाकाव्यों को पढ़ना और सीखना चाहिए क्योंकि वे देश की संस्कृति, परंपरा और इतिहास का हिस्सा हैं। मेरा मानना है कि इन ग्रंथों को सीखना और समझना हमारी जिम्मेदारी है।''

Parshuram Circuit:यूपी में रामायण सर्किट की तर्ज पर बनेगा 'परशुराम सर्किट', इन 6 जिलों से होकर गुजरेगा-Video 

22 वर्षीय छात्र ने कहा, ''राम को अपने पूज्नीय पिता दशरथ से किए गए वादे को पूरा करने के लिए अपने राज्य का भी त्याग करना पड़ा। सत्ता के लिए अंतहीन संघर्षों के दौर में रहते हुए, हमें राम जैसे पात्रों और रामायण जैसे महाकाव्यों के संदेश से प्रेरणा लेनी चाहिए।'' बासित महसूस करते हैं कि व्यापक पठन अन्य धर्मों और इन समुदायों के लोगों को अधिक समझने में मदद करेगा। उन्होंने कहा कि कोई भी धर्म नफरत को बढ़ावा नहीं देता बल्कि केवल शांति और सद्भाव का प्रचार करता है। उन्होंने कहा कि प्रश्नोत्तरी जीतने से उन्हें महाकाव्य को और गहराई से सीखने की प्रेरणा मिली है।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर