सोशल मीडिया पर कोरोना से संबंधित जानकारी देना अपराध नहीं, एक्शन होने पर मानेंगे कोर्ट की अवमानना

देश
ललित राय
Updated Apr 30, 2021 | 15:25 IST

ऑक्सीजन के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। अदालत ने केंद्र सरकार से स्पष्ट तौर पर पूछा कि जह वैक्सीन और दवाई नहीं होगी को तो कोरोना संक्रमितों का इलाज कैसे होगा।

ऑक्सीजन, वैक्सीन और दवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने पूछे तीखे सवाल, केंद्र बताए कि क्या हो रहा है
सु्प्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन, वैक्सीन और दवाई के मुद्दे पर की सुनवाई 

मुख्य बातें

  • ऑक्सीजन, दवाई और वैक्सीन के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को लगाई फटकार
  • सोशल मीडिया पर कोरोना से संबंधित शिकायत अपराध नहीं, एफआईआर दर्ज होने पर कंटेप्ट माना जाएगा।
  • सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने हलफनामे के जरिए अपनी तैयारियों के बारे में बताया

कोरोना महामारी के इस दौर में देश के अलग अलग सूबों में ऑक्सीजन की किल्लत से हम सभी वाकिफ हैं, केंद्र की सरकार हो या राज्य सरकारें ऑक्सीजन के आपूर्ति का दावा जरूर कर रही हैं, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर खुद संज्ञान लिया था और शुक्रवार को सुनवाई हुई। इस सुनवाई में अदालत ने ऑक्सीजन और दवाइयों के बारे में केंद्र सरकार से खास सवाल किए और केंद्र सरकार ने हलफनामा दिया। 

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार
टीकों के निर्माण में तेजी लाने के लिए केंद्र को इसके द्वारा निवेश दिखाना चाहिए। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ का कहना है कि निजी निर्माताओं द्वारा टीकों के उत्पादन के लिए वित्त पोषित किए जाने पर केंद्र सरकार द्वारा यह सबसे महत्वपूर्ण हस्तक्षेप होगा।SC का कहना है - हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि यदि नागरिक सोशल मीडिया पर अपनी शिकायत दर्ज कराते हैं, तो इसे गलत जानकारी नहीं कहा जा सकता है। हम जानकारी का कोई क्लैंपडाउन नहीं चाहते हैं। अगर कार्रवाई के लिए ऐसी शिकायतों पर विचार किया जाता है तो हम इसे अदालत की अवमानना मानेंगे।

केंद्र सरकार का अदालत में हलफनामा
सुप्रीम कोर्ट में जिरह के दौरान केंद्र सरकार ने हलफनामा दायर कर जानकारी दी कि कोरोना महामारी की वजह से जो हालात पैदा हुए हैं उससे निपटने के लिए सरकार कई स्तरों पर काम कर रही है। देश के अलग अलग राज्यों में पीएसए प्लांट लगाए जा रहे हैं। इसके साथ ही देश के सभी जिला अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। जहां तक दवाइयों की बात है कि रेमडिसिविर के प्रोडक्शन को बढ़ाने के साथ ही दुनिया के अलग अलग देशों से आयात भी किया जा रहा है। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर