जून के दूसरे हफ्ते से लगेगी Sputnik V वैक्सीन, अपोलो अस्पताल में मिलेगी

देश
Updated May 27, 2021 | 22:08 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Sputnik V Vaccine: कोरोना वायरस वैक्सीन स्पुतनिक वी जून के दूसरे हफ्ते से अपोलो अस्पताल में लगना शुरू हो जाएगी। ग्रुप की कार्यकारी उपाध्यक्ष ने ये घोषणा की है।

Sputnik V Vaccine
स्पुतनिक वी वैक्सीन 

मुख्य बातें

  • देश में लोगों को लगने वाली तीसरी कोरोना वायरस वैक्सीन होगी स्पुतनिक वी
  • अभी तक देश में कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन लग रही हैं
  • जल्द ही स्पुतनिक वी वैक्सीन भी देश के लोगों को लगना शुरू हो जाएगी

नई दिल्ली: अपोलो अस्पताल जून के दूसरे सप्ताह से रूसी कोविड-19 वैक्सीन स्पुतनिक वी से टीकाकरण शुरू करेगा। अपोलो ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स की कार्यकारी उपाध्यक्ष शोभना कामिनेनी ने एक बयान में कहा है, 'स्पुतनिक भारत में स्वीकृत तीसरा टीका, जून के दूसरे सप्ताह से अपोलो सिस्टम के माध्यम से उपलब्ध होगा। हमारा मानना है कि जब तक सभी का टीकाकरण नहीं हो जाता, तब तक कोई भी सुरक्षित नहीं है।'

बयान के अनुसार, समूह ने भारत में 80 स्थानों पर एक मिलियन टीकाकरण पूरा कर लिया है, जिसमें फ्रंटलाइन वर्कर्स, उच्च जोखिम वाली आबादी और कॉर्पोरेट कर्मचारियों को प्राथमिकता दी गई है।

उन्होंने कहा, 'निजी क्षेत्र में सबसे बड़े टीकाकरणकर्ता के रूप में हम इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य सरकारों का समर्थन करना जारी रखेंगे। हम अपने टीकाकरण कार्यक्रम को और तेज करेंगे। हमने पहले मिलियन तक पहुंचने में 3 सप्ताह का समय लिया, जून में हम हर हफ्ते एक मिलियन और जुलाई में दोगुना करेंगे। हम सितंबर 2021 तक 20 मिलियन खुराक को पूरा करने की राह पर हैं। हम केंद्र और राज्य सरकारों और कोविशील्ड और कोवैक्सिन के वैक्सीन निर्माताओं को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देना चाहते हैं।'

कोविशील्ड और कोवैक्सिन देश में स्वीकृत होने वाली पहले दो वैक्सीन हैं। 17 मई को अपोलो हॉस्पिटल्स और डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज दोनों ने स्पुतनिक वी वैक्सीन के लिए एक सीमित पायलट कार्यक्रम शुरू करने की घोषणा की। 

भारत में जल्द शुरू होगा स्पुतनिक वी का निर्माण : पॉल

इसके अलावा स्पुतनिक वी कोविड वैक्सीन का निर्माण जल्द ही भारत में शुरू होगा, क्योंकि देश ने भारतीय कंपनियों के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के काम को पूरा कर लिया है। कोविड (एनईजीवीएसी) के लिए वैक्सीन प्रबंधन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के अध्यक्ष डॉ. विनोद पॉल ने गुरुवार को यह जानकारी दी। पॉल ने उस मिथक को दूर करते हुए यह घोषणा की जिसमें यह कहा जा रहा है कि केंद्र विदेशों से वैक्सीन खरीदने के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं कर रहा है। पॉल ने कहा कि केंद्र सरकार ने अप्रैल में ही भारत में अमेरिकी एफडीए, ईएमए, ब्रिटेन की एमएचआरए और जापान की पीएमडीए और डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन उपयोग सूची द्वारा अनुमोदित टीकों को प्राप्त करने की प्रक्रिया को आसान बना दिया है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर