राकेश टिकैट ने भरी हुंकार- हमारा कब्रिस्तान बन जाए, फिर भी दिल्ली बॉर्डर से नहीं हटेंगे

Rakesh Tikait: किसान नेता राकेश टिकैत का कहना है कि हम दिल्ली की सीमाओं पर धरना स्थल नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान वहां बन जाए।

Rakesh Tikait
राकेश टिकैत 

मुख्य बातें

  • महापंचायत के लिए बड़ी संख्या में किसान मुजफ्फरनगर पहुंचे
  • किसान महापंचायत का आयोजन संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से किया जा रहा है
  • दावा किया गया है कि 300 किसान संगठनों के किसान कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे हैं

मुजफ्फरनगर: किसान नेता राकेश टिकैत ने रविवार को कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर तीन विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान आंदोलन स्थल को नहीं छोड़ेंगे, भले ही उनका कब्रिस्तान वहां बना हो। उन्होंने कहा कि हम संकल्प लेते हैं कि हम धरना स्थल को (दिल्ली की सीमाओं पर) नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान वहां बना हो। जरूरत पड़ने पर हम अपनी जान भी दे देंगे, लेकिन जब तक हम विजयी नहीं हो जाते, तब तक धरना स्थल नहीं छोड़ेंगे। टिकैत ने मुजफ्फनगर में किसान महापंचायत में विशाल सभा को संबोधित करते हुए ये बात कही।

उन्होंने कहा कि जब सरकार हमें बातचीत के लिए आमंत्रित करेगी, हम जाएंगे। किसानों का आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार हमारी मांगों को पूरा नहीं करती। जब सरकार बातचीत करेगी तो हम करेंगे। आजादी के लिए संघर्ष 90 साल तक जारी रहा, इसलिए मुझे नहीं पता कि यह आंदोलन कब तक चलेगा। टिकैत ने कहा कि ये महापंचायत पूरे देश में होगा। हमें देश बिकने से बचाना है। हमारी मांग रहेगी कि देश, किसान, व्यापार और युवा बचे।

15 राज्यों के हजारों किसान कड़ी सुरक्षा के बीच उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में महापंचायत के लिए एकत्र हुए हैं। महापंचायत में भाग ले रही एक महिला किसान ने कहा कि हम यहां तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का अनुरोध करते हैं। 



वहीं प्रशांत कुमार, ADG (कानून-व्यवस्था) ने कहा कि किसानों की महापंचायत मुजफ्फरनगर में चल रही है इसे लेकर सभी व्यवस्था की गई हैं। मेरठ जोन के फोर्स के अतिरिक्त PAC की 25 कंपनियां दी गई हैं। आने-जाने वाले लोगों को वहां पर कोई परेशानी ना हो यह भी सुनिश्चित किया जा रहा है। जहां पर भीड़ है वहां CCTV कैमरे की मदद से हम नजर रख रहे हैं। आयोजकों से बातें की गई हैं। उनको बोला गया है कि उनके बीच कोई असामाजिक तत्व ना आ जाए जिससे कुछ गड़बड़ी हो। अब तक किसान आंदोलन प्रदेश में शांतिपूर्ण तरह से चला है। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर