‘चुनावी रैलियां और रोड शो करने के लायक नहीं हैं हालात', नीति आयोग के वी के पॉल ने EC से कही बड़ी बात

देश
किशोर जोशी
Updated Jan 06, 2022 | 18:03 IST

Elections in India: नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने चुनाव आयोग को बताया है कि देश में कोविड के मामलों की बढ़ती संख्या ने चुनावी रैलियां और रोड शो करना असुरक्षित बना दिया है।

‘चुनावी रैलियां और रोड़ शो करने के लायक नहीं हैं हालात'
Niti Aayog Member VK Paul tells EC Situation not feasible for poll rallies 
मुख्य बातें
  • देश में कोरोना के मामलों में लगातार हो रही है बढ़ोत्तरी
  • नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने चुनाव आयोग से की खास गुजारिश
  • चुनावी रैलियां, रोड शो नहीं होने चाहिए, वीके पॉल ने चुनाव आयोग से कहा

नई दिल्ली: नीति आयोग के सदस्य और भारत के कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख वीके पॉल ने चुनाव आयोग को बताया है कि देश में मौजूदा कोविड की स्थिति बड़ी रैलियों और रोड शो करने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन नहीं होने चाहिए। हालांकि, आयोग का विचार है कि राजनीतिक दलों को इस तरह के बड़े पैमाने पर रैलियों और रोड शो को अपने दम पर रोकना चाहिए।

टीकाकरण पर जोर देने को कहा

चुनाव आयोग ने सरकार से पांच राज्यों- उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर से विधानसभा चुनावों के लिए अच्छी तैयारी करने और अपनी टीकाकरण पहुंच को अधिकतम करने के लिए कहा था। लेकिन तेजी से फैल रहे ओमिक्रॉन वैरिएंट ने इस समय चुनावों कराने की चिंता को बढ़ा दिया है। आयोग ने हाल ही में स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण से मुलाकात की और देश में कोविड की स्थिति पर चर्चा की।

Punjab: इटली से अमृतसर पहुंची चार्टर्ड फ्लाइट में 125 यात्री निकले कोविड पॉजिटिव
 

बंगाल चुनाव के दौरान आयोग ने उठाए थे ये कदम

चुनाव आयोग ने नोट किया कि उत्तर प्रदेश, पंजाब और मणिपुर में कोविड वैक्सीन की पहली खुराक देने वालों का प्रतिशत अभी भी कम था, जबकि उत्तराखंड और गोवा में यह 100 प्रतिशत के करीब था। पिछले साल अप्रैल में जब कोविड महामारी की दूसरी लहर भारत को तबाह कर रही थी, चुनाव आयोग ने बंगाल में प्रत्येक राजनीतिक रैली में 500 लोगों की अनुमति दी थी। बाद में, विधानसभा चुनाव समाप्त होने के बाद, इसने सभी विजय जुलूसों पर प्रतिबंध लगा दिया था। 

पिछले साल पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद, कलकत्ता उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग को कोविड -19 की दूसरी लहर के दौरान चुनाव से निपटने के लिए फटकार लगाई थी। अदालत ने कहा था कि चुनाव आयोग ने चुनावी रैलियों को सुपर-स्प्रेडर इवेंट बनने से रोकने के लिए कुछ नहीं किया।

ये भी पढ़ें : Covid Cases & Lockdown in India Live Updates: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच गृह सचिव ने बुलाई अहम बैठक

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर