Electricity Crisis in Punjab: 8 लाख के बकायेदार नवजोत सिंह सिद्धू बिजली संकट पर भड़के

देश
एजेंसी
Updated Jul 02, 2021 | 23:24 IST

नवजोत सिंह सिद्धू बिजली के मुद्दे पर पंजाब सरकार पर निशाना साधा। लेकिन पीपीसीएल की वेबसाइट से पता चला कि उनके ऊपर आठ लाख रुपये बकाया है।

punjab electricity crisis,Capt Amarinder Singh, Navjot Singh Sidhu, power problem in Punjab, power bill dues on Navjot Singh Sidhu, factionalism in Punjab Congress
8 लाख के बकायेदार नवजोत सिंह सिद्धू बिजली संकट पर भड़के 
मुख्य बातें
  • बिजली संकट के मुद्दे पर नवजोत सिंह सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार को घेरा
  • पीपीसीएल के मुताबिक नवजोत सिंह सिद्धू पर बिजली बिल का 8 लाख बकाया
  • पीपीसीएल का कहना है कि इस समय गर्मी की वजह से बिजली खपत असामान्य तौर पर अधिक

पंजाब कांग्रेस में इस समय सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह खेमे और नवजोत सिंह सिद्धू में रार ठनी है। दोनों गुट एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं। पंजाब में बिजली की किल्लत पर जब विपक्ष की तरफ से निशाना साधा गया को सिद्धू मैदान में उतर पड़े और अमरिंदर सिंह सरकार की पोल पट्टी खोलने लगे। हालांकि बाद में पीपीसीएल की वेबसाइट से जो जानकारी सामने आई उसके मुताबिक नवजोत सिंह सिद्धू ने आठ लाख रुपए बिजली की खपत की है।

पीपीसीएल ने खोली पोल
कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू, जिन्होंने शुक्रवार को पंजाब में बिजली की स्थिति पर चिंता व्यक्त की। कथित रूप से राज्य बिजली उपयोगिता के लंबित बिलों के रूप में 8 लाख रुपये से अधिक का बकाया है।पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएसपीसीएल) की वेबसाइट के अनुसार, उनके अमृतसर स्थित घर के 8,67,540 रुपये के बिजली शुल्क का भुगतान किया जाना बाकी है, भुगतान करने की अंतिम तिथि 2 जुलाई है।

सफाई के लिए सिद्धू नहीं हो सके उपलब्ध
सिद्धू बार-बार कोशिश करने के बावजूद टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं हो सके।पंजाब में अनिर्धारित बिजली कटौती के बीच, सिद्धू ने शुक्रवार को पिछली शिअद-भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान हस्ताक्षरित बिजली खरीद समझौतों (पीपीए) को रद्द करने के लिए एक कानून की मांग की।सिद्धू ने कहा कि अगर राज्य सही दिशा में काम करता है तो बिजली कटौती या कार्यालय के समय को विनियमित करने की कोई आवश्यकता नहीं होगी।पंजाब सरकार ने गुरुवार को सरकारी कार्यालयों के समय को कम कर दिया था और उच्च ऊर्जा खपत वाले उद्योगों को बिजली आपूर्ति में कटौती का आदेश दिया था क्योंकि राज्य में बिजली की मांग एक दिन में 14,000 मेगावाट से अधिक हो गई थी।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर