भारत की ईयू से अपील, कोविशील्ड और कोवैक्सीन पर भरें हामी अनिवार्य क्वारंटीन हटा लेंगे

भारत सरकार ने यूरोपीय यूनियन से स्पष्ट किया है अगर डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट यानी ग्रीन पास के प्रावधान को हटाया गया तो भारत में अनिवार्य क्वारंटीन के प्रावधानों में छूट मिलेगी।

corona pandemic, corona vaccination, european union, digital covid certificate, green pass, mandatory quarantine, covishield, covaccine
कोविशील्ड और कोवैक्सीन पर EU से भारत की खास अपील 

मुख्य बातें

  • कोविशील्ड और कोवैक्सीन को डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट के दायरे से यूरोपीयन यूनियन ने बाहर रखा है
  • भारत की ईयू से खास अपील. कोविशील्ड और कोवैक्सीन को दे मान्यता, अनिवार्य क्वारंटीन से देंगे छूट
  • भारत में वैक्सीनेशन के लिए कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में वैक्सीन ही सबसे बड़ा हथियार है। इस समय दुनिया के अलग अलग मुल्कों में कहीं फाइजर माडर्ना, एस्ट्रोजेनेका, कोविशील्ड, स्पुतनिक का इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन यूरोपीय यूनियन के कुछ मुल्कों को कोविशील्ड और कोवैक्सीन पर कुछ वजहों से ऐतराज है। दरअसल यूरोपीय यूनियन ने उन लोगों को डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट या ग्रीन पास देने में कोताही कर रहा है जिन लोगों ने कोविशील्ड या कोवैक्सीन डोज लिया है। इसे ग्रीन पास भी कहा जा रहा है। इस संबंध में भारत सरकार ने साफ किया है कि अगर ग्रीन पास को हटाया गया तो भारत में यूरोपीय यूनियन से आने वालों को अनिवार्य क्वारंटीन से छूट दी जाएगी।

विदेश से आने वालों को अनिवार्य क्वारंटीन जरूरी
फिलहाल विदेश से भारत आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से खुद को क्वारंटाइन करना होगा।ईयू का डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट, जो महामारी के दौरान टीका लगाए गए लोगों की मुक्त आवाजाही की सुविधा के लिए बनाया गया है, गुरुवार से प्रभावी होगा।सूत्रों ने यूरोपीय संघ के सदस्य देशों को भेजे अपने संचार में कहा कि भारत ने यूरोपीय संघ के डिजिटल कोविड प्रमाणपत्र की मान्यता के लिए एक पारस्परिक नीति स्थापित की है। बता दें कि 1 जुलाई से डिजिटल कोविज सर्टिफिकेट यानी ग्रीन पास को ईयू अमल में ला रहा है। 

कोविड डिजिटल सर्टिफिकेट के दायरे से बाहर कोविशील्ड और कोवैक्सीन
एक बार Covaxin और Covishield को डिजिटल कोविड प्रमाणपत्र के लिए शामिल करने के लिए अधिसूचित किया जाता है और भारतीय CoWIN टीकाकरण प्रमाणपत्रों को मान्यता दी जाती है, भारतीय स्वास्थ्य अधिकारी पारस्परिक रूप से संबंधित यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों के लोगों को भारत में यात्रा करते समय अनिवार्य संगरोध से छूट देंगे।हालांकि यह छूट केवल उन्हीं लोगों को दी जाएगी जिनके पास ईयू डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट होगा।

यूरोपीय यूनियन में आवाजाही के लिए ग्रीन पास
यूरोपीय संघ ने एक ढांचा विकसित किया है - यूरोपीय संघ डिजिटल कोविड प्रमाणपत्र - यूरोपीय संघ के भीतर टीकाकरण वाले लोगों की मुक्त आवाजाही की सुविधा के लिए। इस ढांचे के तहत, यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) द्वारा अधिकृत कोविड -19 टीके प्राप्त करने वाले व्यक्तियों को यूरोपीय संघ के भीतर यात्रा प्रतिबंधों से छूट दी जाएगी।

इस संदर्भ में भारत ने यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से व्यक्तिगत रूप से उन व्यक्तियों को समान छूट देने पर विचार करने का अनुरोध किया है, जिन्होंने भारत में (यानी कोविशील्ड और कोवैक्सिन) कोविद -19 टीके लिए हैं, और कोविन पोर्टल के माध्यम से जारी टीकाकरण प्रमाण पत्र को स्वीकार करते हैं। (कोविशील्ड को WHO द्वारा अधिकृत किया गया है जबकि  कोवैक्सीन ने भारत और कुछ अन्य देशों में विनियामक अनुमोदन प्राप्त किया है।)भारत ने यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से कहा कि कोविन पोर्टल पर टीकाकरण प्रमाणन की वास्तविकता को प्रमाणित किया जा सकता है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़, Facebook, Twitter और Instagram पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर