अल्फा और डेल्टा वेरिएंट पर कोवैक्सीन समान रूप से कारगर, अमेरिकी विशेषज्ञों का दावा

हेल्थ
ललित राय
Updated Jun 30, 2021 | 10:20 IST

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई नें टीका ही सबसे बड़ा हथियार है। इन सबके बीच कोवैक्सीन के ऊपर उठे खासतौर से अल्फा और डेल्टा वेरिएंट पर उठे सवालों को अमेरिकी जानकारों ने खारिज किया है।

covaxin, delta variant, alpha variant, covasin rumor, covaxin news, bharat biotech, covishield, coronavirus news in hindi,
कोरोना वायरस के अल्फा और डेल्टा वेरिएंट पर कोवैक्सीन प्रभावी 

मुख्य बातें

  • अल्फा और डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कोवैक्सीन समान रूप से प्रभावी
  • अमेरिकी जानकारों ने किया दावा, सभी तरह की शंकाओं को निराधार बताया
  • अलहाइड्रोजेल का अनोखा जुड़ाव जो वायरस बेअसर बनाता है।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में वैक्सीन ही सबसे बड़ा हथियार है। अगर बात भारत की करें तो इस समय कोविशील्ड के साथ साथ कोवैक्सीन और स्पुतनिक वी दी जा रही है। जहां तक बात स्वेदशी उत्पादिक कोवैक्सीन की है तो इसे लेकर तमाम तरह के सवाल खड़े किए जा रहे थे। मसलन यह कोरोना वायरस के अब तक ज्ञात वेरिएंट्स पर कारगर नहीं है। लेकिन अमेरिकी विशेषज्ञों मे इस तरह की शंकाओं को खारिज किया है। उनके मुताबिक कोवैक्सीन, अल्फा और डेल्टा दोनों तरह के वेरिएंट पर कारगर है।

कोवैक्सीन पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी पैदा करता है
संयुक्त राज्य अमेरिका में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (NIH) ने पाया है कि भारत बायोटेक का COVAXIN वैक्सीन एंटीबॉडी उत्पन्न करता है जो COVID-19 के अल्फा और डेल्टा दोनों रूपों को प्रभावी ढंग से बेअसर करता है।शीर्ष स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान ने कहा कि एनआईएच से वित्त पोषण के साथ विकसित एक सहायक ने "अत्यधिक प्रभावकारी"  कोवैक्सीन की की सफलता में योगदान दिया है, जिसे भारत और अन्य जगहों पर अब तक लगभग 25 मिलियन लोग प्राप्त कर चुके हैं।

कोवैक्सीन, अल्फा और डेल्टा दोनों वेरिएंट पर प्रभावी
एनआईएच ने एक बयान में कहा  कि कोवैक्सिन प्राप्त करने वाले लोगों से रक्त सीरम के दो अध्ययनों के नतीजे बताते हैं कि टीका एंटीबॉडी उत्पन्न करती है जो एसएआरएस-सीओवी -2 के बी.1.1.7 (अल्फा) और बी.1.617 (डेल्टा) रूपों को प्रभावी ढंग से बेअसर कर देती है, जिसे पहले पहचाना यूनाइटेड किंगडम और भारत में पाए गए हैं एनआईएच ने कहा कि कोवैक्सीन, Alhydroxiquim-II में इस्तेमाल होने वाले एडजुवेंट को बायोटेक कंपनी विरोवैक्स एलएलसी ऑफ लॉरेंस, कंसास द्वारा प्रयोगशाला में खोजा और परीक्षण किया गया था। 

अलहाइड्रोजेल का अनोखा जुड़ाव
एडजुवेंट में अलहाइड्रोजेल के लिए एक अनोखे तरीके से जुड़ा एक छोटा सा अणु होता है, एक पदार्थ जिसे अक्सर फिटकरी कहा जाता है जो लोगों के लिए टीकों में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सहायक है।एक वैश्विक महामारी को समाप्त करने के लिए एक वैश्विक प्रतिक्रिया की आवश्यकता है।  एनआईएच के एक हिस्से, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज (एनआईएआईडी) के निदेशक एंथनी एस फौसी ने इस संबंध में जानकारी दी। 

मुझे खुशी है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में एनआईएआईडी समर्थन के साथ विकसित एक उपन्यास वैक्सीन एडजुवेंट भारत में लोगों के लिए उपलब्ध एक प्रभावशाली COVID-19 वैक्सीन का हिस्सा है। कोवैक्सीन, सार्स कोविड-2  का एक अक्षम रूप शामिल है जो दोहराव नहीं कर सकता है लेकिन फिर भी वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करता है। टीके के दूसरे चरण के परीक्षण के प्रकाशित परिणाम बताते हैं कि यह सुरक्षित और सहनशील है

चरण 3 के परीक्षण के अप्रकाशित अंतरिम परिणाम बताते हैं कि वैक्सीन में रोगसूचक रोग के खिलाफ 78 प्रतिशत प्रभावकारिता, अस्पताल में भर्ती होने सहित गंभीर कोविड--19 के खिलाफ 100 प्रतिशत प्रभावकारिता, और SARS-CoV-2 के खिलाफ 70 प्रतिशत प्रभावी है।  

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर