Covaxin की पहली खुराक कोविशील्ड जितनी प्रभावी नहीं है, ICMR प्रमुख का दावा

देश
Updated May 21, 2021 | 23:41 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

कोवैक्सीन को लेकर ICMR प्रमुख डॉ. बलराम भार्गव ने दावा किया है कि इसकी पहली खुराक लेने के बाद बहुत अधिक एंटीबॉडी नहीं बनती है, इसलिए इसकी दूसरी खुराक जल्दी लेना जरूरी है।

Covaxin
अभी लोगों को 2 वैक्सीन लग रही हैं 

हाल ही में जब कोविशील्ड की दोनों खुराकों के बीच अंतर को बढ़ाया गया तो केंद्र सरकार आलोचनाओं के घेरे में आ गई। कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच अंतराल को अब 12-16 सप्ताह कर दिया गया है, जबकि कोवैक्सिन की दोनों खुराकों के बीच अंतराल में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

निर्णय को लेकर पैदा हुई अस्पष्टता को अब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के प्रमुख डॉ. बलराम भार्गव ने साफ कर दी है। उन्होंने कहा है कि कोवैक्सिन की दोनों खुराकों के बीच का अंतर अपरिवर्तित है क्योंकि पहले शॉट के बाद उतनी प्रतिरक्षा प्राप्त नहीं होती है जितनी कि अन्य टीकों से होती है। .

दूसरी खुराक के बाद बनती है अच्छी एंटीबॉडी

डॉ. भार्गव ने कोविशील्ड के लिए 3 महीने के अंतराल को अनिवार्य बनाने के केंद्र के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित वैक्सीन के पहले शॉट के बाद मिली प्रतिरक्षा को मजबूत पाया गया है। हालांकि, कोवैक्सिन की पहली खुराक के बाद उत्पादित प्रतिरक्षा स्तर उतना अधिक नहीं है और इसका मतलब है कि पूरी प्रभावकारिता सुनिश्चित करने के लिए चार सप्ताह के बाद दूसरी खुराक ली जानी चाहिए।

कोरोना को लेकर अभी काफी कुछ सीखना है

ICMR प्रमुख ने आगे कहा कि वैज्ञानिक और विशेषज्ञ अभी भी ये सीखने के चरण में हैं कि संभवतः कोविड-19 वायरस के खिलाफ सबसे अच्छा क्या काम कर सकता है। उन्होंने कहा, 'कोविड-19 के खिलाफ टीके पहली बार 15 दिसंबर को आए थे। हम बहुत नए हैं, और सीख रहे हैं। परीक्षण अभी भी जारी हैं। यह एक विकसित विज्ञान है। Covaxin की पहली खुराक लेने से आप बहुत अधिक एंटीबॉडी प्राप्त नहीं करते हैं। आप दूसरी खुराक के बाद इसे प्राप्त करते हैं। कोविशील्ड से एंटीबॉडी अच्छे स्तर पर हासिल की जाती हैं।' 

देश में अभी 3 वैक्सीन को अनुमति

कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पुतनिक V तीन टीके हैं जिन्हें DGCI ने देश में आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित किया है। कोवैक्सीन एक स्वदेशी वैक्सीन है जिसका निर्माण हैदराबाद स्थित जैव प्रौद्योगिकी कंपनी, भारत बायोटेक द्वारा किया जा रहा है। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन के स्थानीय संस्करण कोविशील्ड का निर्माण कर रहा है। स्पुतनिक वी को डॉ. रेड्डीज द्वारा रूस से आयात करने की मंजूरी दे दी गई है, लेकिन यह अभी भी देश में व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर