Covishield: कोविशील्ड की दोनों खुराकों के बीच बढ़ा अंतराल, आखिर क्यों लिया गया ये फैसला, जानें वजह

देश
लव रघुवंशी
Updated May 13, 2021 | 22:15 IST

Covishield: भारत सरकार ने कोविड कार्य समूह की सिफारिश पर कोविशिल्ड टीके की दो खुराक के बीच का अंतर 6-8 सप्ताह से बढ़ाकर 12-16 सप्ताह कर दिया है।

covishield
कोविशील्ड 

मुख्य बातें

  • कोविशील्ड टीके की दो डोज के बीच का समय बढ़ाकर12-16 सप्ताह किया गया
  • यह विज्ञान आधारित फैसला है: स्वास्थ्य मंत्रालय
  • कोविशील्ड का उत्पादन पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा किया जा रहा है

नई दिल्ली: सरकार ने कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच के अंतराल को 6-8 सप्ताह से बढ़ाकर 12-16 सप्ताह कर दिया है। स्वास्थय मंत्रालय ने जानकारी दी कि डॉ. एन के अरोड़ा के नेतृत्व में कोविड कार्य समूह ने कोविशील्ड टीके की पहली खुराक और दूसरी खुराक के बीच के अंतर को 6-8 सप्ताह से बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने की सिफारिश की है। कोविशिल्ड की दोनों खुराक के बीच वर्तमान अंतर 6-8 सप्ताह का है।

उपलब्ध रियल-लाइफ साक्ष्यों के आधार पर, विशेष रूप से ब्रिटेन के साक्ष्यों के आधार पर, कोविड कार्य समूह ने कोविशील्ड की दोनों खुराक के अंतर को 12-16 सप्ताह बढ़ाने पर सहमति जताई है। कार्य समूह ने कोवैक्सीन टीके के अंतराल में परिवर्तन की सिफारिश नहीं की है।

'अंतराल बढ़ने से असर बढ़ेगा'

अब सवाल उठता है कि दोनों डोज के बीच अंतराल बढ़ाने का फैसला दूसरी बार क्यों लिया गया है। इसके जवाब में AIIMS डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि यदि आप 4 सप्ताह से कम समय में अपनी बूस्टर खुराक (कोविशील्ड का दूसरी डोज) लेते हैं, तो प्रभावकारिता 55-60% के बीच है। और अगर आप इसे 12 सप्ताह या उससे अधिक समय बाद लेते हैं, तो इसकी प्रभावकारिता 81-90% के करीब हो जाती है। यदि आप अपनी दूसरी खुराक (कोविशील्ड की) 12 सप्ताह या उससे अधिक समय बाद लेते हैं तो आपको बेहतर बूस्टर प्रभाव मिलता है। 

'समय के साथ सिफारिशें बदल जाते हैं'

उन्होंने कहा, 'वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि आप दूसरी खुराक में देरी करते हैं, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर प्रतिक्रिया देने में सक्षम है और बूस्टर अधिक प्रभावी हो जाता है। यह समझना चाहिए कि जैसे ही महामारी विकसित होती है और हम अधिक ज्ञान प्राप्त करते हैं, जिससे सिफारिशें बदलती हैं। डेटा है जो बताता है कि एक खुराक के साथ भी आपके पास 60-65% प्रभावकारिता है। यह व्यक्ति को 3 महीने तक संक्रमण होने से रोकता है।' 

दूसरी बार बढ़ाया गया अंतराल

'द लैंसेट' में भी कहा गया है कि 12 हफ्तों के गैप पर दूसरी डोज देने से असर बढ़ता है। एस्ट्राजेनेका ने भी कहा था कि कोविशील्ड डोज में 2-3 महीने के अंतर से ये 90% तक असरदार होगी। पिछले कुछ महीनों में दूसरी बार ऐसा हुआ है जब कोविशील्ड टीके की दो डोज के बीच का समयांतर बढ़ाया गया है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मार्च में राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से कहा था कि वह दो डोज के बीच समयांतर को 28 दिनों से बढ़ाकर 6 से 8 सप्ताह तक कर दें।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर