कोविड से बचने को लगवा लिए वैक्‍सीन के 11 डोज! बिहार में बजुर्ग के दावे की होगी जांच

बिहार में एक बुजुर्ग ने कोविड रोधी वैक्‍सीन की 11 डोज लगवाने का दावा किया है। उनका कहना है कि इसके बाद से उन्‍हें सर्दी-जुकाम तक नहीं हुआ है और उनके स्‍वास्‍थ्‍य में लगातार सुधार हुआ है। प्रशासन ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

कोविड से बचने को लगवा लिए वैक्‍सीन के 11 डोज! बिहार में बजुर्ग के दावे की होगी जांच
कोविड से बचने को लगवा लिए वैक्‍सीन के 11 डोज! बिहार में बजुर्ग के दावे की होगी जांच  |  तस्वीर साभार: ANI

मधेपुरा : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव में टीकाकरण की अहम भूमिका को देखते हुए केंद्र व राज्‍य सरकारों की ओर से आम लोगों से लगातार वैक्‍सीनेशन के लिए आगे आने की अपील की जा रही है, जिसकी अब तक दो डोज विशेषज्ञों ने प्रस्‍तावित की है और वही डोज एक नियम‍ित अंतराल पर लोगों को लगाए जा रहे हैं। लेकिन बिहार में एक बुजुर्ग ने चौंकाने वाला दावा किया है। उनका कहना है कि वह अब तक कोविड से बचाव के लिए 11 डोज लगवा चुके हैं।

मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज अनुमंडल अंतर्गत ओराय गांव निवासी ब्रह्मदेव मंडल (84) के दावों ने इलाके में सनसनी फैला दी है। उनका यह भी कहना है कि वैक्‍सीन की इतनी डोज लगवाने के बाद भी उनके स्‍वास्‍थ्‍य पर कोई नकारात्‍मक असर नहीं हुआ और हर बार उन्‍हें 'बेहतर' ही महसूस हुआ। यहां तक कि एक डोज के बाद उनके पीठ दर्द को दूर करने में भी मदद मिली। यह दावा सामने आने के बाद प्रशासन भी सकते में है और मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

एक ही शख्स को चार बार लगा दिया कोविड का टीका! बिहार में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही

'दोषी स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों पर होगा ए‍क्‍शन'

मधेपुरा के सिविल सर्जन अमरेंद्र प्रताप शाही ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि यह जांच का विषय है। बुजुर्ग का दावा कितना सही या गलत है, इसकी जांच की जाएगी। अस्‍पताल रिकॉर्ड्स खंगाले जाएंगे। नियमों के मुताबिक किसी भी व्यक्ति को टीके की दो ही खुराक दी जानी है। ऐसे में अगर बुजुर्ग का दावा सही निकलता है तो इस मामले में दोषी पाए जाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जांच के बाद इस दावे की सच्चाई का पता चल जाएगा।

बिहार में लगा 'नाइट कर्फ्यू', सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, जिम, पार्क बंद, जानें नई गाइडलाइन्स

वहीं, कोविड रोधी वैक्‍सीन की 11 डोज लेने का दावा करने वाले बुजुर्ग का कहना है कि इसके लिए उन्‍होंने अपने आधार कार्ड के साथ-साथ मतदाता पहचान-पत्र का भी इस्‍तेमाल किया, जिसकी आवश्‍यकता पंजीकरण के दौरान होती है। डाक विभाग से सेवानिवृत्त कर्मचारी ब्रह्मदेव मंडल के मुताबिक, उन्‍होंने वैक्‍सीन की पहली डोज 13 फरवरी, 2021 को पुरैनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर लगवाई थी। उनका कहना है पहली डोज के बाद से ही उन्हें सर्दी जुकाम तक नहीं हुआ है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर