What is Septic Shock: जानिए क्यों और क्या होता है सेप्टिक शॉक, जानें इसके लक्षण और इलाज के बारे में सबकुछ

What is Septic Shock in Hindi: सेप्टिक शॉक एक ऐसी गंभीर स्थिति है जिसमें रक्तचाप काम करना बंद कर देता है। इसकी वजह से शरीर के कई अंग तंत्र प्रभावित हो सकते हैं। आइए जानते हैं क्यों होता है सेप्टिक शॉक।

Spetic Shock Meaning in Hindi
जानिए क्यों और क्या होता है सेप्टिक शॉक 

मुख्य बातें

  • सेप्टिक शॉक का रिस्क सबसे ज्यादा किसे हैं।
  • सेप्टिक शॉक से पीड़ित मरीजों का इलाज इस तरह किया जा सकता है।
  • जानिए सेप्टिक शॉक के लक्षण क्या है।

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी फेफड़ों में संक्रमण के कारण सेप्टिक शॉक में हैं। इसकी वजह से उनकी स्वास्थ्य स्थिति और खराब हो गई है। बता दें कि सेप्टिक शॉक एक गंभीर स्थिति है और यह तब होता है जब किसी व्यक्ति का रक्तचाप किसी संक्रमण के बाद खतरनाक स्तर तक गिर जाता है। किसी प्रकार के बैक्टीरियल, फंगल और वायरल(दुर्लभ मामले) में सेप्सिस का कारण बन सकते हैं, जिसका इलाज नहीं किया गया तो सेप्टिक शॉक को बढ़ा सकता है। वहीं आर्मी रिसर्च और रेफरल अस्पताल ने सोमवार को जारी बुलेटिन में बताया कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की स्थिति नाजुक बनी हुई है और वह अभी वेंटिलेटर पर हैं। आइए जानते हैं सेप्टिक शॉक के लक्षण और इलाज के बारे में सबकुछ।

सेप्टिक शॉक का रिस्क सबसे ज्यादा किसे हैं
सेप्टिक शॉक बड़े-बुजुर्ग और एक से कम उम्र के बच्चों में सबसे आम स्थिति है। हालांकि इसके विभिन्न कारक जैसे गर्भवती होना, कुछ बीमारियां जैसे मधुमेह,किडनी या फेफड़े की बीमारी, कैंसर और कमजोर इम्यूननिटी आदि। इसकी वजह से सेप्टिक शॉक होने का खतरा अधिक रहता है।

सेप्टिक शॉक के लक्षण- एनएचएस की जानकारी के अनुसार, सेप्टिक शॉक के लक्षण इसप्रकार हैं:

  1. लो ब्लड प्रेशर खासकर तब जब आपको खड़े होने पर चक्कर महसूस होने लगे।
  2. मितली और उल्टी
  3. डायरिया
  4. कोल्ड, रूखी और रूखी त्वचा
  5. आपकी मानसिक स्थिति में बदलाव, जैसे भ्रम या भटकाव

सेप्टिक शॉक एक मेडिकल इमरजेंसी है और अगर आपको लगता है कि आपको या आपके परिवार के किसी व्यक्ति को सेप्टिक शॉक है तो आपको तुरंत डॉक्टरी मदद लेनी चाहिए। 

सेप्टिक शॉक का इलाज 
आमतौर पर, मरीजों का अधिक देखभाल के लिए आईसीयू में भर्ती कराया जाता है, ताकी उनके शरीर के अंगों और तंत्रों को सहारा दिया जा सके। कुछ मामलों में इमरजेंसी डिपार्टमेंट विभाग में उपचार शुरू हो सकता है, इसके अलावा यहां बताए गए तरीकों के जरिए इसका इलाज किया जा सकता है।

  1. एंटीबायोटिक्स
  2. ऑक्सीजन थेरेपी
  3. आपके रक्त प्रवाह को बढ़ाने के लिए दवा
  4. वासोप्रेसोर दवाएं- दवाएं जो रक्त वाहिकाओं को संकुचित करती हैं और रक्तचाप सर्जरी को बढ़ाने में मदद करती हैं(कुछ मामलों में)
  5. एक नस के माध्यम से सीधे दिए गए तरल पदार्थ (नसों)

सेप्टिक शॉक के लिए कॉम्प्लिकेशन और आउटलुक
सेप्टिक शॉक से कई मुश्किलें हो सकती हैं जो घातक हो सकती हैं जैसे कि...

  1. हृदय और किडनी फेल हो जाना
  2. सांस की विफलता
  3. असामान्य रक्त के थक्के
  4. लीवर फेलियर
  5. स्ट्रोक
  6. अंत्रों के एक हिस्से का नुकसान

सेप्टिक शॉक जीवन के लिए एक खतरनाक स्थिति है, जिसका तत्काल इलाज किया जाना चाहिए। एक वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक 50 प्रतिशत से अधिक मामलों में मृत्यु हुई है। हालांकि किसी व्यक्ति के जीवित रहने की संभावना कुछ कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि इलाज कैसे शुरू किया जाता है, संक्रमण का कारण और प्रभावित होने वाले अंगों की संख्या आदि।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर