Corona Recover Patient:कोरोना से रिकवर हुआ पेशेंट 90 दिन तक फैला सकता है वायरस! रिसर्च में दी जानकारी

हेल्थ
रवि वैश्य
Updated Oct 04, 2020 | 09:26 IST

Corona Recover Patient can spread virus: कोरोना से उबरे हुए लोग भी खास परिस्थिति में 90 दिनों तक वायरस फैला सकते हैं एक रिसर्च में ऐसा बताया गया है।

CORONA VIRUS
प्रतीकात्मक फोटो 

क्या आपके किसी मित्र, रिश्तेदार या परिवार के सदस्यों ने कोरोना बीमारी के अलगाव अवधि ( Corona Isolation Period) को पूरा किया है? क्या आप उनके साथ घूम रहे हैं? तो आपको सावधान रहने की जरूरत है, अमेरिका के विभिन्न अस्पतालों से प्राप्त ​​आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार, COVID-19 रोग के पीछे वायरस SARS CoV-2, गंभीर रूप से बीमार रोगियों के शरीर में 90 दिनों तक रहता है, जो ठीक हो गए हैं।

विश्लेषण में आशंका जताई है कि इस तरह के मरीज संभावित रूप से बीमारी फैला सकते हैं, जिस कोरोना बीमारी ने भारत में 65 लाख से अधिक लोगों को संक्रमित किया है और भारत में लगभग 1 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। इस रिसर्च ने स्वास्थ्य कर्मियों और नीति निर्माताओं को गंभीर रूप से बीमार रोगियों के अलगाव की अवधि (Isolation Period) का पुनर्मूल्यांकन करने के लिए भी मजबूर किया है।

हल्के और मध्यम बीमार रोगी केवल 10 दिनों के लिए संक्रामक होते हैं। जो लोग प्रतिरक्षा से समझौता करते हैं लेकिन मध्यम रूप से पीड़ित होते हैं वे 20 दिनों के लिए संक्रामक होते हैं। Covid​​-19 के मरीज जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं, वे 90 दिनों के लिए संक्रामक हैं।

ऐसे रिकवर लोग संक्रमण को केवल 15 मिनट में दूसरे तक पहुंचा सकते हैं

अटलांटा यूएसए में रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों द्वारा डेटा मूल्यांकन में COVID जोखिमों का आकलन पाया गया है। अमेरिकी एजेंसी द्वारा मूल्यांकन से पता चलता है कि ऐसे रिकवर लोग संक्रमण को केवल 15 मिनट में दूसरे तक पहुंचा सकते हैं। यह भी कहा कि यदि कोई भी बीमारी ऐसे व्यक्ति को 90 दिनों के बाद संक्रमित करती है, तो COVID-19 नहीं है।

भारत में ये खतरा है ज्यादा बड़ा

ये मूल्यांकन isolation process को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। केयर हॉस्पिटल के  हॉस्पिटल्स के वरिष्ठ संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. मुस्तफा अफजल का कहना है कि  स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए, हम पा रहे हैं कि आरटी-पीसीआर सकारात्मक है लेकिन वे स्पर्शोन्मुख (Asymptomatic) हैं।

रोगियों की इस श्रेणी में, हर हफ्ते एंटीबॉडी के स्तर की जाँच की जा रही है। एंटीबॉडी स्तरों के अनुसार, यह तय किया जाता है कि क्या उन्हें फिर से ड्यूटी में शामिल होना चाहिए। भारत में दंडात्मक कानूनों के बावजूद, बड़ी संख्या में लोग फेस मास्क के बिना बाहर निकल रहे हैं ऐसे में कोरोना का खतरा ज्यादा बड़ा है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर