Omicron: कोरोना वायरस के इस नए वैरिएंट को WHO ने क्‍यों बताया है 'चिंताजनक?'

हेल्थ
भाषा
Updated Nov 30, 2021 | 13:26 IST

Omicron Variant of Coronavirus: कोरोना वायरस के नए वैरिएंट को लेकर दुनियाभर में हड़कंप मचा हुआ है। WHO ने इसे ओमिक्रोन नाम दिया है और इसे 'चिंताजनक' बताया है।

Omicron: कोरोना वायरस के इस नए वैरिएंट को WHO ने क्‍यों बताया है 'चिंताजनक?'
Omicron: कोरोना वायरस के इस नए वैरिएंट को WHO ने क्‍यों बताया है 'चिंताजनक?'  |  तस्वीर साभार: Representative Image

बाथ (इंग्लैंड) : विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सार्स-कोव-2 की वंशावली के नये वायरस बी.1.1.529, जिसके बारे में माना जाता है कि यह दक्षिणी अफ्रीका में उभरा है, को ओमिक्रोन के नाम के साथ वायरस के चिंतित कर देने वाले एक प्रकार (वीओसी) के रूप में नामित किया है। इस निर्णय ने वैश्विक स्तर पर महामारी प्रबंधन में प्राथमिकताओं में व्यापक बदलाव की शुरुआत कर दी है।

डब्ल्यूएचओ ने अन्य बातों के अलावा, निगरानी बढ़ाने की सिफारिश की है, विशेष रूप से वायरस जीनोम अनुक्रमण; इस संस्करण से उत्पन्न खतरों को समझने के लिए केंद्रित अनुसंधान; और शमन उपायों को तेज करना, जैसे मास्क अनिवार्य रूप से पहनना। ब्रिटेन और कई अन्य देशों में अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर पहले से ही अधिक प्रतिबंध लागू हो चुके हैं। दरअसल, जापान ने सभी विदेशी पर्यटकों के लिए अपनी सीमाएं बंद कर दी हैं।

वायरस के इस संस्करण को वीओसी घोषित करने में जो तेजी दिखाई गई है, वह हैरान करने वाली है। बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका में इस वायरस के पहले ज्ञात संक्रमण के बाद से दो सप्ताह से थोड़ा अधिक समय ही बीता है। इसकी तुलना डेल्टा संस्करण से करें जो वर्तमान में यूरोप और दुनिया के कई अन्य हिस्सों में सक्रिय है। इस संस्करण का पहला मामला भारत में अक्टूबर 2020 में सामने आया था, लेकिन देश में (साथ ही अन्य कई देशों में) मामलों में जबरदस्त उछाल के बावजूद, इसे वीओसी का दर्जा मिलने में कम से कम छह महीने का समय लगा था।

डेल्टा द्वारा उत्पन्न खतरे को पहचानने में निश्चित रूप से सुस्ती दिखाई गई थी, और इसमें कोई संदेह नहीं है कि वायरस के खतरनाक नए रूपों के बारे में जल्द से जल्द दुनिया को बताने के महत्व के बारे में सबक सीखा गया है, लेकिन यह देरी नये संस्करण की क्षमताओं के संबंध में पुख्ता सबूत देने में आने वाली कठिनाइयों को भी प्रतिबिंबित करती है।

तीन प्रकार के लक्षण होते हैं जो एक नए संस्करण द्वारा उत्पन्न खतरे को निर्धारित करते हैं। ये हैं संप्रेषणीयता (जिस दर पर यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है), विषाणु (बीमारी के लक्षणों की गंभीरता) और प्रतिरक्षा प्रणाली (एक व्यक्ति को टीके या प्राकृतिक संक्रमण से सुरक्षा की डिग्री) को भेदने की शक्ति। इन तीन फेनोटाइप के बीच अंतर्निहित आनुवंशिकी और विकासवादी प्रक्रिया जटिल हैं, और इसका पता लगाने के लिए प्रयोगशाला में विस्तृत नैदानिक ​​और महामारी विज्ञान डेटा और सावधानीपूर्वक प्रयोग दोनों की आवश्यकता होती है।

WHO ने क्‍यों बताया चिंतानजक?

अब सवाल यह पैदा होता है कि ओमिक्रोम संस्करण में ऐसा क्या है, जिसने डब्ल्यूएचओ और दुनिया भर के कई विशेषज्ञों को इतने कम डेटा के साथ इसे वीओसी घोषित करने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है - और क्या उनकी यह चेतावनियां उचित हैं कि यह संस्करण अब तक सामने आए तमाम संस्करणों में ‘सबसे चिंताजनक?’

अभी तक ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है, जिससे यह अनुमान लगाया जा सके कि ओमिक्रोन अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है, लेकिन इस बारे में लगभग कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। दक्षिण अफ्रीका से आने वाली इन सूचनाओं की सटीकता को परखना अभी बाकी है कि वायरस के इस संस्करण से बीमार होने पर हलके लक्षण उभरते हैं। फिर भी संप्रेषणीयता और प्रतिरक्षा प्रणाली को भेदने की इसकी क्षमता चिंता का स्पष्ट कारण है।

एक नए संस्करण की बढ़ी हुई संप्रेषणीयता को कम करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि इसके बेतरतीब प्रभाव वायरल आनुवंशिकी में किसी भी अंतर्निहित परिवर्तन की आवश्यकता के बिना मामलों की दरों में खतरनाक वृद्धि कर सकते हैं। आम सहमति यह है कि ओमिक्रोन संस्करण संभवतः अन्य प्रकारों की तुलना में अधिक तेजी से फैलता है।

माना जाता है कि दक्षिण अफ्रीकी प्रांत गौटेंग में, ओमिक्रोन के आने के बाद आर संख्या (एक संक्रमित व्यक्ति द्वारा औसतन वायरस से संक्रमित होने वाले अन्य लोगों की संख्या) को लगभग 1.5 से लगभग 2 तक बढ़ा दिया गया है, जो यदि सत्य है तो एक महत्वपूर्ण बदलाव है। अप्रत्याशित रूप से, इसे ब्रिटेन, इज़राइल, बेल्जियम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, नीदरलैंड और ऑस्ट्रिया सहित दक्षिणी अफ्रीका के बाहर के कई देशों में भी बढ़ाया जा रहा है।

परेशान करने वाला तथ्य

ओमिक्रोन संस्करण की सबसे परेशान करने वाली विशेषता यह है कि यह बहुत तेजी से रूप बदलकर क्रमिक विकास करता है, जो इसके जीनोम में उत्परिवर्तन की अभूतपूर्व संख्या से परिलक्षित होता है। यह कैसे हुआ यह निरंतर अटकलों का विषय है लेकिन, गंभीर रूप से, 32 उत्परिवर्तन ने स्पाइक प्रोटीन को प्रभावित किया है, जिनमें से कई को यह बदलने के लिए जाना जाता है कि वायरस टीकों या पूर्व संक्रमण द्वारा उत्पादित एंटीबॉडी के साथ कैसे संपर्क करता है।

यह तेजी से फैलने की दर के साथ, बढ़ी हुई प्रतिरक्षा से बचने की क्षमता है, जो इतनी चिंता का कारण बन रही है। लेकिन अकेले जीनोम अनुक्रम से एक वायरस के संभावित व्यवहार के बारे में भविष्यवाणी करना एक सटीक विज्ञान नहीं है। और वायरस के एक संस्करण में उत्परिवर्तन की संख्या और इससे उत्पन्न होने वाले खतरों के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है।

ओमिक्रोन संस्करण के फैलाव को रोकने के लिए निश्चित रूप से करीबी निगरानी और वैश्विक शोध उपायों की जरूरत है। ऐसे में यह कहना जल्दबाजी होगी कि हम किस तरह की चुनौती का सामना कर रहे हैं। आने वाले हफ्तों में जैसे जैसे सुबूत आते जाएंगे एक स्पष्ट तस्वीर सामने आनी चाहिए।

इस बीच, दुनिया को दक्षिण अफ़्रीकी और बोत्सवाना के वैज्ञानिकों और सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों की सतर्कता और खुलेपन के लिए उनका आभारी होना चाहिए, और वायरस के इस नये संस्करण के सामने आने को दुनियाभर में टीके के समान और त्वरित वितरण की हमारी कोशिशों को फिर से दोगुना करने के एक नये आह्वान के तौर पर देखना चाहिए।


 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर