आरटीपीसीआर टेस्ट से बच नहीं सकता ओमिक्रॉन लिहाजा जांच तेज करें राज्य सरकारें-ICMR

आईसीएमआर के डीजी का कहना है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट, आरटीपीसीआर की जांच को धोखा नहीं दे सकता है, लिहाजा राज्य जांच प्रक्रिया को तेज करें।

corona virus, omicron, rt pcr test, icmr, omicron latest news,
आरटीपीसीआर टेस्ट से बच नहीं सकता ओमिक्रॉन लिहाजा जांच तेज करें राज्य सरकारें-ICMR 
मुख्य बातें
  • आईसीएमआर ने आरटीपीसीआर टेस्ट की रफ्तार तेज करने की सलाह दी
  • आरटीपीसीआर टेस्ट की जांच से ओमिक्रॉन वैरिएंट नहीं बच सकता
  • देश में फिलहाल ओमिक्रॉन का एक भी केस नहीं

संसद में स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुथ मांडविया ने कहा कि फिलहाल देश में ओमिक्रॉन का एक भी मामला नहीं है। लेकिन सरकार सभी तरह के उपायों पर काम कर रही है। अभी तक इस तरह की जानकारी सामने आ रही थी कि ओमिक्रॉन वैरिएंट खुद को जांच से छिपा ले रहा है यानी कि इस समय जिस तकनीक के जरिए कोरोना वायरस की पहचान की जा रही है उसे चकमा दे रहा है लेकिन DG, ICMR ने बताया कि OMICRON वेरिएंट RTPCR और RAT से नहीं बचता है। इसलिए, राज्यों को किसी भी मामले की शीघ्र और शीघ्र पहचान के लिए परीक्षण में तेजी लाने की सलाह दी गई थी।

राज्यों को उन देशों के यात्रियों के लक्षित/प्राथमिकता परीक्षण के लिए सलाह दी गई थी जो "जोखिम में" नहीं हैं, राज्यों द्वारा रैंप अप परीक्षण के हिस्से के रूप में। आगे टीकाकरण कवरेज की निरंतर आवश्यकता, COVID उपयुक्त व्यवहार का पालन और सामूहिक समारोहों से बचने की आवश्यकता पर बल दिया गया।

केंद्र सरकार ने दिए ये सुझाव

  1. केंद्र ने WHO द्वारा VOC के रूप में वर्गीकृत नए COVID19 वेरिएंट (OMICRON) के मद्देनजर राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के साथ सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों की समीक्षा की
  2. राज्यों ने सलाह दी कि वे अपने गार्ड को निराश न करें- टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट, टीकाकरण रणनीति पर फिर से जोर दिया जाए।
  3. OMICRON संस्करण RTPCR और RAT से बचता नहीं है; राज्यों को शीघ्र और शीघ्र पहचान के लिए परीक्षण में तेजी लाने की सलाह दी गई है।
  4. समय पर और प्रभावी प्रबंधन के लिए उभरते हुए समूहों और हॉटस्पॉट पर कड़ी निगरानी रखी जाए।
  5. सभी COVID19 पॉजिटिव नमूनों को जीनोम अनुक्रमण के लिए तुरंत INSACOG लैब्स में भेजा जाएगा।
  6. राज्य प्रशासन, आप्रवासन ब्यूरो, हवाईअड्डा स्वास्थ्य कार्यालयों के बीच प्रभावी और समयबद्ध समन्वय स्थापित हो ।
  7. राज्यों को सलाह दी गई है कि वे मजबूत बुनियादी ढांचे, दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता और स्टॉक सुनिश्चित करने के लिए होम आइसोलेशन की निगरानी करें।

डेल्टा से घातक है ओमिक्रॉन
ओमिक्रॉन के बारे में कहा जा रहा है कि यह डेल्टा वैरिएंट से घातक है। इसके प्रसार की दर पांच से 6 गुना ज्यादा है। इस संबंध में शोधकर्ताओं का कहना है कि अभी पुख्ता तौर पर कुछ कह पाना मुश्किल है कि वैक्सीन के असर को यह कितना कम करेगी। लेकिन लोगों को वैक्सीनेशन के प्रति उदासीन रवैया नहीं बरतना चाहिए।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर