दिल्ली के पानी में अमोनिया है ? ऐसे पानी को पीने या नहाने के ये हो सकते हैं नुकसान

हेल्थ
Updated Oct 30, 2020 | 19:42 IST | Ritu Singh

Side effects of Ammonia: अगर आप दिल्ली में रहते हैं, तो पानी में अमोनिया के बढ़ते-घटते मामलों से जरूर वाकिफ होंगे। ध्यान रखने वाली बात ये है कि इसका कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए और हो सके तो बचना भी चाहिए।

 Side effects of Ammonia, अमोनियायुक्त पानी के नुकसान
Side effects of Ammonia, अमोनियायुक्त पानी के नुकसान 

मुख्य बातें

  • यमुना में अमोनिया का लेवल एक बार फिर ऊपर आया
  • अमोनिया पानी में घुलनशील तत्व होता है] , जो पानी को साफ करता है
  • लेकिन अमोनियायुक्त पानी सेहत के लिए सही नहीं होता है

पानी जीवन की आधारभूत जरूरतों में से एक है। हालांकि, दुनिया में बहुतायत आबादी ऐसी भी है, जिसे साफ और शुद्ध पीने का पानी मयस्सर नहीं है। यहां तक कि नहाने और साफ सफाई के लिए भी साफ पानी नहीं मिल पाता है। देश की राजधानी में ही ये आलम है कि लोगों के घरों में आने वाला पानी अमोनिया के खतरनाक स्तर को लेकर आ रहा है क्योंकि पानी के प्रमुख स्रोत यमुना नदी में अमोनिया खतरनाक स्तर तक जा पहुंचा है। राष्ट्रीय राजधानी के निवासियों को पिछले दो हफ्तों से स्मॉग और प्रदूषित हवा की समस्या भी झेलनी पड़ रही है। वहीं प्रदूषित पानी ने उनकी चिंताओं को और बढ़ा दिया है। हालांकि दिल्ली जल बोर्ड ने कहा है कि जब तक नदी के पानी में अमोनिया का स्तर कम नहीं हो जाता, तब तक कम दबाव से पानी सप्लाई किया जाएगा, लेकिन लोग चिंतित हैं कि प्रदूषित पानी उनकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है और उनको इससे बचने और सुरक्षित रहने के लिए क्या करना चाहिए।

अमोनिया मिले पानी पीने, नहाने से सेहत को ये हैं नुकसान

अमोनिया रंग हीन, तीखी महक वाली गैस है जिसमें हाइड्रोजन और नाइट्रोजन का मिश्रण होता है। ये पानी में अत्यधिक घुलनशील होती है। इसका ज्यादातर इस्तेमाल पानी में नाइट्रोजनस ऑर्गेनिक मैटर के एक नॉर्मल बायोलॉजिकल डिग्रेडेशन प्रॉडक्ट के तौर पर किया जाता है। उद्योगों से निकलने वाले अमोनिया और फर्टिलाइजर मिश्रित गंदे पानी के चलते इसके आसपास के भूजल और सतह के पानी में भी अमोनिया जमा हो जाता है। अमोनिया का दशकों से निगम के तमाम ट्रीटमेंट सिस्टम में इस्तेमाल किया जाता रहा है और पीने के पानी को लंबे समय तक साफ बनाए रखने के लिए क्लोरीन भी मिलाई जाती है। हालांकि, पानी में अमोनिया का स्तर ज्यादा हो जाना मानव शरीर के लिए खतरनाक भी होता है।

ऑरेगन डिपार्टमेंट ऑफ ह्यूमन सर्विसेज के टेक्निकल बुलेटिन के मुताबिक जरूरत से ज्यादा अमोनिया के संपर्क में आने से निम्न गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं:

  1. हवा में अमोनिया के चलते आंखों, नाक, गले और फेफड़े में जलन हो सकती है।
  2. हवा में अमोनिया के अत्यधिक हाई लेवल से टिश्यूज को गंभीर चोट और नुकसान पहुंच सकता है।
  3. पानी में अमोनिया का स्तर ज्यादा होने (1000एमजी/1पीपीएम) से उसे पीने पर शरीर के अंगों को नुकसान पहुंच सकता है।
  4. जिन सॉल्यूशंस में 1000एमजी/1 पीपीएम अमोनिया हो तो वे गंभीर तौर पर झुलसा सकते हैं, उनके संपर्क में आने से त्वचा पर छाले पड़ सकते हैं।
  5. घर में साफ सफाई वाले सॉल्यूशंन में अमोनिया संतुलित मात्रा में होता है जो त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचाता, लेकिन अगर वह शरीर के भीतर चला जाए तो घातक हो सकता है।
  6. अमोनिया मिश्रित पानी अगर आंखों में चला जाए तो स्थायी या अस्थायी तौर पर आंखों की रोशनी जाने का खतरा हो जाता है।

 प्रदूषित पानी के खतरनाक दुष्प्रभावों से सुरक्षित रहने के लिए ये सावधानियां बरतें:

  1. अगर आप दिल्ली के रहनेवाले हैं, तो जहां तक हो सके आपको अमोनिया मिश्रित पानी के संपर्क में आने से बचना चाहिए तभी आप इससे होने वाले नुकसान से सुरक्षित रह पाएंगे।
  2. अपने क्षेत्र के संबंधित ऑफिस से जांच पड़ताल करते हैं कि आपके क्षेत्र में आने वाला पानी प्रदूषित तो नहीं है।
  3. पानी में से अमोनिया दूर करने के लिए सुने सुनाए तरीकों को बिल्कुल न आजमाएं।
  4. जैसा कि आपको पता है कि अमोनिया पानी में बेहद आसानी से घुल जाता है। ऐसे में इसे उबालना, मिक्स करना, या इसे साफ करने का कोई और तरीका अपनाना खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसा करके आप अनजाने में अपना नुकसान कर सकते हैं, जिसमें जलने और अन्य हादसे होने का खतरा हो सकता है।
  5. साफ पीने के पानी के अन्य स्रोत की तलाश करें।
  6. जलने, छाले पड़ने की दशा में फर्स्ट एड जरूर रखें।
  7. नजदीकी अस्पताल, एंबुलेंस का इमरजेंसी नंबर जरूर रखें।

तो पीने के पानी को लेकर जरा सी भी लापरवाही जान से हाथ धोने जैसा होगा। इसलिए पीने के पानी के प्रति हमेशा सावधान रहें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर