Health Benefits of Skipping Rope: दिल दिमाग को रखना है फिट, तो रोजाना करें स्किपिंग, जानिए फायदे-सवाधानियां

Health Benefits of Skipping Rope: रोजाना स्किपिंग करने से बॉडी में मौजूद एक्स्ट्रा फैट खत्म होते हैं। पीरियड के दौरान महिलाओं को स्किपिंग नहीं करनी चाहिए।

Rope Skipping Benefits and Tips in Hindi
रस्सी कूदने के फायदे और सावधानियां (Photo Credit - iStock) 
मुख्य बातें
  • रोजाना रस्सी कूदने से बेहतर होता है शरीर में रक्त का संचार।
  • स्किपिंग स्ट्रोक जैसी बीमारियों के जोखिम को करता है कम।
  • डॉक्टर से परामर्श जरूर लें पैर की चोट या गठिया जैसे रोगों से पीड़ित लोग।

Health Benefits of Skipping Rope: अधिकांश लोग बचपन में स्किपिंग वाली गेम जरूर खेलते है। लेकिन क्या आप जानते हैं यह सिर्फ गेम नहीं है, यह एक बहुत अच्छा व्यायाम है। जी हां स्किपिंग को एक्सरसाइज का एक अहम हिस्सा माना जाता है। यदि आप इसे रोजाना 10 से 15 मिनट भी करें, तो आप अपने शरीर को फिट रख सकते हैं।

आपके शरीर से कई तरह की बीमारियां भी दूर हो सकती है। यदि आप मोटापे का शिकार है, तो आपको उससे निजात मिल सकती है। एक्सपर्ट के अनुसार रोजाना स्किपिंग करने से शरीर में ब्लड सरकुलेशन सही तरह से होता है। तो आइए चलें रोजाना स्किपिंग करने के फायदों के बारे में जानने।

Also Read: कमर दर्द से राहत पाने के घरेलू नुस्‍खे, ये आसान काम जल्‍द दे सकते हैं आराम

रोजाना स्किपिंग करने के फायदे (Benifits of Rope Skipping)

1.  वजन घटाने में करें मदद:

आजकल अधिकांश लोग जंक फूड खाना पसंद करते है। ऐसे लोगों मोटापे का शिकार बन जाते है। एक्सपर्ट के अनुसार यदि आप रोजाना 10 से 15 मिनट भी स्किपिंग करें, तो आप डायबिटीज ब्लड प्रेशर जैसे बीमारियों से बच सकते हैं। आपके शरीर में एक्स्ट्रा फैट खत्म हो सकता है।

2. ब्रेन को रखें फिट:

हमारा लाइफस्टाइल हमारे जीवन के साथ-साथ दिमाग पर बहुत असर डालता हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार यदि आप रोजाना स्किपिंग करें, तो आपका मूड हमेशा अच्छा रह सकता है। आप चिंता या अवसाद जैसी मानसिक बीमारियों से बच सकते हैं।

3.  दिल को फिट रखने में करें मदद:

अध्ययन के अनुसार रोजाना स्किपिंग करना बेहद लाभकारी होता है। यह शरीर में रक्त के संचार को बेहतर बनाने के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने तथा हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता हैं। यदि आप रोज सुबह स्किपिंग करें, तो आप दिल के दौरे या स्ट्रोक जैसी बीमारियों से बच सकते हैं।

4. सहनशक्ति को बनाएं मजबूत:

किसी भी कार्य को सही तरीके से करने के लिए सहनशक्ति का मजबूत होना बेहद जरूरी होता है।एक्सपर्ट के अनुसार नियमित रूप से स्किपिंग करने से सहनशक्ति काफी मजबूत होती है।

5. शरीर को बनाएं लचीला:

नियमित स्किपिंग करने से न केवल मोटापा कम होता हैं, बल्कि शरीर में लचीलापन आता हैं। यदि आप रोज सुबह स्किपिंग करें, तो आप किसी भी व्यायाम को आसानी से कर सकते हैं।

6. मांसपेशियों को करें टोन:

अधिकांश लोगों से पैर में ऐंठन, सूजन या कुछ अन्य समस्या जरूर सुनने को मिलती हैं। यदि आप नियमित रूप से 30 मिनट स्किपिंग करें, तो आपको इस तरह की समस्याओं से निजात मिल सकता हैं।

7. बोन डेंसिटी में लाए सुधार:

अध्ययन के अनुसार नियमित स्किपिंग करने से बोन डेंसिटी में सुधार होता है। खासकर लड़कियों में तो ज्यादातर यह देखने को मिला है। यदि किशोरावस्था में आप रोजाना स्किपिंग करें, तो बुढ़ापे में आपकी हड्डियां मजबूत रह सकती है।

Also Read: ठंड के मौसम में खट्टे फलों का करें सेवन, संक्रमण से बचने में मिलेगी मदद

स्किपिंग करते समय अपनाएं जाने वाले टिप्स:

सही रस्सी का करें चयन: यदि आप इस स्किपिंग करते हैं या करने की सोच रहे हैं, तो उसे करने से पहले सही रस्सी का चयन जरूर करें।

जंपिंग: जंपिंग करते समय आप हमेशा यह ध्यान रखें कि आपके शरीर की मुद्रा किस तरह से है। सही मुद्रा में रहने से जंपिंग करने में मदद मिलती हैं।

शुरुआत करते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान: स्किपिंग करते समय आप हमेशा या ध्यान रखें कि आपके पैर सॉफ्टलैंड कर रहे हैं नहीं। तेज स्किपिंग करने से आपके पैर में दर्द हो सकता है।

सही जगह का करें चुनाव: स्कीपिंग करते समय हमेशा प्लेन सतह का चुनाव करें। कंक्रीट वाली जगह पर स्किपिंग करने से आपको चोट लग सकती है।

ऐसे लोग भूल ना करें स्किपिंग:

1. पीरियड के समय महिलाओं को भूल कर भी स्किपिंग नहीं करनी चाहिए। शोधकर्ताओं के अनुसार पीरियड के समय स्किपिंग करने से गर्भाशय के आसपास के लिगामेंट कमजोर हो सकते हैं या आपका रक्तस्राव बढ़ सकता है।

2. शोधकर्ताओं के अनुसार प्रेग्नेंट महिलाओं को भूलकर भी स्किपिंग नहीं करनी चाहिए। ऐसे समय में प्लेसेंटल एब्डामिनल होने का खतरा बढ़ सकता है ऐसे समय में जंपिंग करने से प्लेसेंटा अलग होने के कारण गर्भपात भी हो सकता है।

3. यदि आपके पैर में पहले से चोट लगी हो या आप गठिया जैसे रोगों से परेशान है, तो स्किपिंग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। क्योंकि ऐसी स्थिति में स्किपिंग करने से आपकी स्थिति और भी खराब हो सकती है।

ध्यान रखने वाली बात: यदि हड्डी या ह्रदय रोग जैसी बीमारियों से परेशान हैं, तो इसे करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर