COVID-19 से बचाने के लिए क्यों जरूरी है ज्यादा परत वाला कपड़े का मास्क, ऐसे रख सकते हैं खुद को सुरक्षित

COVID-19 Prevention: कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए मास्क पहनना जरूरी है। लेकिन अगर आप कपड़े से बने मास्क को पहनते हैं तो उसकी परत ज्यादा होनी चाहिए।

COVID-19 Prevention mask
कोरोना से बचाने के लिए क्यों जरूरी है ज्यादा परत वाला मास्क 

मुख्य बातें

  • जानिए कैसा होना चाहिए कपड़े का फेस मास्क।
  • रिसर्च में पाया कि दो से ज्यादा परतों वाला मास्क लगाने से खतरा कम हो जाता है।
  • सही ढंग से मास्क नहीं पहनने से फैलता है वायरस।

कोरोना वायरस से बचने के लिए इन दिनों कई ऐसे मास्क मार्केट में उपलब्ध हैं, अगर आप कपड़े का मास्क पहनते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि उसकी परतें ज्यादा हों। ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने कपड़े के मास्क को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की है। रिसर्च के मुताबिक घर पर तैयार किए गए मास्क में कम से कम दो परतें होनी चाहिए। इस रिपोर्ट को थोरैक्स जर्नल में प्रकाशित किया गया है। दरअसल न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कपड़े के एक या दो परत वाले मास्क और तीन परत वाले सर्जिकल मास्क को लेकर अध्यन किया है। रिसर्च में पाया कि दो से ज्यादा परतों वाला मास्क लगाने से खतरा कम हो जाता है।

रिसर्च के मुताबिक एक परत वाला मास्क लगाने से व्यक्ति के मुंह से ज्यादा संख्या में ड्रॉपलेट हवा फैले जाते हैं। साथ ही दो परत वाला मास्क लगाने से कम संख्या में नम बूंदें हवा में फैलती हैं, जिससे हवा में वायरस फैलने का खतरा घटता है। इसकी तुलना में अगर दो से ज्यादा परतों वाला मास्क पहनेंगे तो वायरस का खतरा बेहद कम हो जाता है। इसके साथ ही आप मुंह से निकल रहे संक्रमण कण को मास्क फैलने से रोकेगा। इससे दूसरे व्यक्ति संक्रमित होने से बच सकेंगे।

ऐसे किया गया अध्ययन
वैज्ञानिकों के मुताबिक दो परत या उससे अधिक परत वाले मास्क में कम कण हवा में पहुंच जाते हैं। शोधकर्ताओं ने दो से तीन परत वाले मास्क पर अध्ययन शुरू किया जहां उन्होंने मास्क में एलईडी लाइट और हाईस्पीड कैमरा लगाया। शोध में कुछ स्वस्थ लोगों को शामिल किया,जहां उन्हें मास्क पहनाया गया है। इनसे बोलने, खांसने और छींकने को कहा गया और मुंह से हवा के कणों को चेक किया गया। मास्क से निकले इन सूक्ष्म कणों को मात्रा को पता लगाया गया। इसके अलावा मास्क की गुणवत्ता यानी उसकी बनावट, कपड़े की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। ऐसे में मास्क बार-बार धोकर पहनना चाहिए।

सर्जिकल मास्क को इस तरह करें डिस्पोज
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक अगर आप सर्जिकल मास्क का प्रयोग कर रहे हैं, तो उसे डिस्पोज करने से पहले 72 घंटों तक कागज में लपेटकर रखें। इसके बाद इसे डस्टबीन में डालें, इससे वायरस नष्ट हो जाएगा और दूसरे लोग प्रभावित नहीं होंगे।

सही ढंग से मास्क नहीं पहनने से फैलता है वायरस
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक अगर ठीक तरीके से मास्क नहीं पहनना गया तो संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ जाता है। मास्क पहनते वक्त इस बात का ध्यान रखें, कि नाक, मुंह, ठोड़ी अच्छी तरह से ढक जाए। साथ ही, यह भी ध्यान रखें कि संक्रमित कण आपके नाक या फिर मुंह तक न पहुंच पाएं। अगर आप मास्क को उतार रहे हैं तो उसे स्ट्रेप के जरिए ही उतारने की कोशिश करें। कई लोग मास्क पहनने के बाद सामने अपने हाथ को रख देते हैं, अगर आपके हाथ पर वायरस हुआ तो यह मास्क पर भी लग सकता है और इससे आप संक्रमित हो सकते हैं।

अगली खबर