क्या होता है कार्डियक अरेस्ट जिससे हुई Saroj Khan की मौत, जानें हार्ट अटैक से कैसे है अलग

हेल्थ
प्रभाष रावत
Updated Jul 03, 2020 | 08:48 IST

Cardiac Arrest Meaning: अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान कार्डियक अरेस्ट की वजह से कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हो गया है। जानिए क्या होता है कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक से कैसे है अलग।

Cardiac arrest meaning; What is a cardiac arrest, cause of Saroj Khan death
क्या होता है कार्डियक अरेस्ट, Cardiac arrest meaning 

मुख्य बातें

  • मेडिकल इमरजेंसी होती है कार्डियक अरेस्ट, समय पर इलाज देना है बेहद जरूरी
  • अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान दिल से जुड़ी इसी बीमारी से हुई सरोज खान की मौत
  • हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में होते हैं कई अंतर

मुंबई: फिल्म जगत में कई मशहूर एक्ट्रेस को डांस के गुर सिखाने वालीं मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हो चुका है। अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान कार्डियक अरेस्ट की वजह से उनकी मौत हो गई है। वो बीते कुछ समय से बीमार चल रही थीं और उन्हें अस्पताल में कराया गया था। जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की रात 1:52 पर उन्हें कार्डिएक अरेस्ट आया और उनका निधन हो गया। आइए एक नजर डालते हैं दिल से जुड़ी इस बीमारी पर।

दरअसल, हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में काफी अंतर होता है। कई लोग कार्डियक अरेस्ट को दिल का दौरा यानी हार्ट अटैक समझ लेते हैं जबकि ऐसा नहीं है। आइए हम आपको दोनों के बीच का अंतर समझाते हैं।

दिल का दौरा या हार्ट अटैक:
रोधगलन या मायोकार्डियल इन्फैक्सन को हार्ट अटैक या दिल का दौरे या हृदयघात का नाम दिया जाा है। यह शरीर की कोरोनरी धमनी में अचानक ब्लॉकेज पैदा हो जाने की वजह से होता है। इन धमनियों का काम हमारे दिल की पेशियों तक खून पहुंचाने का होता है।

जब किसी कारण से खून नहीं पहुंच पाता है तो ये काम करना बंद कर देती है और इसे ही आम तौर पर तौर पर दिल का दौरा पड़ना कहा जाता है। हार्ट अटैक में दिल के अंदर कुछ पेशियां काम करना बंद कर देती हैं। इसके लिए कई तरह के इलाज किए जाते हैं, ताकि ब्लॉकेज को खत्म किया जा सके और वापस मांस पेशियों तक खून पहुंचने लगे।

कार्डियक अरेस्ट:
कार्डियक अरेस्ट अचानक होता है और इसकी शरीर की तरफ़ से कोई चेतावनी भी नहीं मिलती। इसकी वजह आम तौर पर दिल में होने वाली गड़बड़ी है, जो इंसानी शरीर में धड़कन का तालमेल बिगाड़ देती है और इससे दिल की पम्प करने की क्षमता पर सीधा असर पड़ता और वो दिमाग, दिल या शरीर के दूसरे हिस्सों तक खून नहीं पहुंचा पाता।

इसमें चंद सेकेंड्स में इंसान बेहोश हो जाता है और नब्ज भी चली जाती है। अगर तुरंत सही इलाज न मिले तो कार्डियक अरेस्ट के कुछ सेकेंड या मिनटों में मौत हो सकती है और कई मामलों में इलाज के बाद भी बचाव मुश्किल होता है।

कार्डियक अरेस्ट को एक मेडिकल इमरजेंसी कहा जाता है, जिसका खास स्थितियों में समय से इलाज करने पर मरीज की जान बच सकती है। जिन लोगों को दिल की बीमारी होती है, उनमें कार्डियक अरेस्ट होने का खतरा ज्यादा रहता है। अगर किसी के परिवार में दिल की बीमारी रही है तो भी इसका खतरा बना रहता है।

वहीं दिल का दौरा लगातार खराब दिनचर्या, और धीरे धीरे धमनियों में ब्लॉकेज पैदा होने की वजह से पड़ता है, जिसका समय पर पता करके बाइपास सर्जरी या अन्य तरीकों से इलाज किया जाता है। सरोज खान से पहले मशहूर अभिनेत्री श्रीदेवी, सूफी गायक प्‍यारे लाल वडाली सहित कई सेलेब्स की मौत कार्डियक अरेस्ट से हो चुकी है।

अगली खबर